HomeIndia Newsअक्षय से फेम बनने वाले इंजीनियर की कहानी: आलिम ने डरकर और...

अक्षय से फेम बनने वाले इंजीनियर की कहानी: आलिम ने डरकर और लालच देकर मुस्लिम बनाया; दोस्तों ने गंगाजल पिलाकर फिर हिंदू बनाया

Date:

Related stories

पति को धीमा जहर देकर मारा: संपत्ति के लिए प्रेमी के साथ रची साजिश, सास की मौत भी ऐसी ही हुई थी

हिंदी समाचारराष्ट्रीयमुंबई मैन डाई स्लो पॉइज़निंग; संपत्ति के...
  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • एमपी
  • खंडवा
  • अक्षय ने कहा- आलिम को जब कुरान की बुराइयां बताई गईं तो उसने हिंदुत्व को मूर्ख कहना शुरू कर दिया।

खंडवा9 मिनट पहले

- Advertisement -

खंडवा में सिविल इंजीनियर का ब्रेनवॉश कर धर्म परिवर्तन का मामला सामने आया है। आरोप है कि नूरानी ज़िंदाबाद के आलिम अमीन कादरी ने इंजीनियर अक्षय को हिंदू धर्म के खिलाफ भड़काकर उसका ब्रेनवाश किया। कभी उसे नौकरी का लालच दिया, कभी धमकाया, फिर मस्जिद में कलमा पढ़वाकर उसका धर्म परिवर्तन कर दिया। पूरा मामला जानने से पहले पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दें…

- Advertisement -

- Advertisement -

अक्षय के फेम खान बनने की कहानी उसी की जुबानी…
सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद भी मैं भटक गया था। पांच माह पहले मैं नागचून इलाके के पार्क में बैठा था। मैं माउस था। वहां आलिम आया। उसने मुझसे कहा कि तुम परेशान लग रहे हो। घन सब अच्छा होगा। इसके लिए हिंदू धर्म छोड़ना होगा। अल्लाह का रास्ता अपनाओ। मस्जिद में आ रहा है। वहां नमाज़ पढ़कर देखें। अच्छा लगा। आलिम की बात सुनकर मैं दूसरे दिन मस्जिद में बताता हूं तो उसने हिंदू धर्म की बुराई शुरू कर दी। उसने यह भी कहा कि मैंने कई हिंदुओं को मुस्लिम बनाया है।

दो-तीन दिन लगातार झारखंड में। आलिम ने कहा कि हिंदू हो या सिख या फिर ईसाई कितनी ही पूजा कर लो, जहन्नुम नसीब होता है। मुस्लिम ही ऐसा धर्म है कि अल्लाह की इबादत करने से जन्नत मिलेगी। आलिम की ये बातें मेरे दिमाग पर असर करने लगीं। आलिम ने मुझे कलमा पढ़वाकर मेरा धर्म बदल दिया। उसने मुझे फीम खान का नाम दिया। जब मैंने अक्षय का नाम फेसबुक पर फहीम खान डाला तो मेरे दोस्त और परिजन हैरान हो गए। दोस्तों ने मुझे समना। मैं फिर आलिम के पास गया। कभी मुझे बरगलाकर तो कभी मुस्लिम धर्म में रहने का दबाव बनाया।

अक्षय गौर ने सिविल इंजीनियरिंग की है।  उनकी फेसबुक आईडी भी ऐक्सिस गौर के नाम से है।  इसी पर उसने पोस्ट कर धर्म परिवर्तन की सूचना देते हुए अपना नाम फहीम खान बताया था।  अब फिर से उसने हिंदू धर्म को अपना लिया है।

अक्षय गौर ने सिविल इंजीनियरिंग की है। उनकी फेसबुक आईडी भी ऐक्सिस गौर के नाम से है। इसी पर उसने पोस्ट कर धर्म परिवर्तन की सूचना देते हुए अपना नाम फहीम खान बताया था। अब फिर से उसने हिंदू धर्म को अपना लिया है।

गंगाजल पिलाकर दोस्तों ने फहीम को फिर से आशियाना बनाया है
ऐक्सिस गौर ने फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर कर धर्मांतरण की सूचना दी थी। पोस्ट में उसने लिखा था- ‘मैंने अपना नया धर्म चुना है। मेरा नया नाम फहीम खान है’। जब उसके हिंदू दोस्तों ने उसकी पोस्ट देखी तो दंग रह गया। अक्षय के दोस्त विशाल पासी और अन्य ने उन्हें योजना और अपने साथ महादेवगढ़ मंदिर ले गए। मंदिर में अक्ष को स्थितिकर भोलेनाथ की पूजा और अनुष्ठान किए गए। मंत्रोच्चार के साथ उसे गंगाजल पिलाया गया। अक्ष का कहना है कि मेरा ब्रेनवॉश किया गया था। शुक्र है, मेरे दोस्तों ने मुझे आलिम के जाल से आउट आउट किया। गंगा जल पिलाकर मेरा शुद्धिकरण किया और फिर मुझे हिंदू बना दिया।

पिता बोले- छिपकर नमाज पढ़ा था बेटा
अक्षय के पिता शिक्षक हैं। उन्होंने कहा कि बेटे के घर की ऊपरी मंजिल पर बने कमरे में झुककर नमाज पढ़ा था। हमने उसे देखकर पूछताछ की तो वह बोलने लगा कि हमें जन्नत मिलेगा। मेरे साथ तुम भी मुस्लिम बन जाओ। ये बातें सुनकर हम तनाव में आ गए। हम मना करते हैं तो वह मजबूर हो जाता है। आलिम तो मैं भी मुस्लिम बनाना चाहता था।

आलिम के खिलाफ एफआईआर
​​
खंडवा के एसपी विवेक सिंह ने बताया- युवक की शिकायत पर मोघट थाना पुलिस ने गुरुवार की रात आलिम अमीन कादरी पर धार्मिक भावना आहत करने और धार्मिक स्वतंत्रता अधिनियम की दाखिले के तहत मामला दर्ज किया है।

आलिम ने झूठ को झूठ बताया
नूरानी मस्जिद के आलिम अमीनुद्दीन कादरी का कहना है कि मुझ पर आरोप लगाए गए आरोप हैं। युवक खुद ही मस्जिद में मुस्लिम बन गया था। मैंने उन्हें सलाह दी कि कानून के अनुसार काम करें। हम इस तरह का काम नहीं करते, लेकिन वह नहीं मानते।

धर्म परिवर्तन स्वैच्छिक और संवैधानिक अधिकार: शहर काजी
शहर काजी सैय्यद निसार अली का कहना है कि धर्म को बदलना स्वैच्छिक और संवैधानिक अधिकार है। जिस अक्ष नाम के युवक की बात हो रही है, वह खुद मस्जिद आया और नमाज पढ़ा। इसके पहले वह कई सालों से इस्लाम धर्म की किताबें पढ़ता था। उसने मस्जिद के आलिम को धर्मगुरु मान लिया और मुस्लिम नाम भी लिया। युवक 24 साल का है, इसलिए उससे डरने या धमकाने की बात नहीं बनती। आलिम पर धर्म लिपिक के मामले में FIR दर्ज हुई है, कोर्ट में अपना पक्ष दाखिल किया है।

इस मामले से जुड़ी ये खबर भी पढ़ें…
खंडवा में हिंदू युवक बना मुस्लिम…

खंडवा में ही कुछ दिन पहले एक 24 वर्षीय हिंदू युवक को मुस्लिम बनाने का मामला सामने आया था। सिविल इंजीनियर की पढ़ाई कर युवक ने काफी समय से अनुमान लगाया था, बेरोजगारी के कारण वह एक दिन शहर के नागचून पार्क में एकांत स्थिति में था, तभी एक मस्जिद के आलिम पहुंचे और उसे नौकरी-पेशे की पट्टियां देकर मस्जिद बुलाई। पूरी खबर पढ़ें…

ये भी पढ़ें…

ओला ड्राइवर ने धर्म छिपाकर फंसाया: इंदौरी लड़की से लव जिहाद; बोला- 4 निकाह भी जायज​​

इंदौर के पुराने जमाने से लव जिहाद का मामला सामने आया है। वहां शाहरुख नाम का दुर्घटना उससे राजू पहुंचें। करीबी से शादी कर ली। 5 महीने बाद हादसे की सच्चाई सामने आई। बुजुर्ग का आरोप है कि युवक ने धर्म और शादीशुदा, 2 बच्चों के पिता होने की बात छुपाई थी। पूरी खबर पढ़ें…

9 बच्चों के पिता ने धर्म परिवर्तन किया

इंदौर में लव जिहाद का मामला पहले भी आपकी आंखों के सामने है। एक मामला मुस्लिम व्यक्ति और शहडोल की पंजाबी महिला के बीच भी है। महिला का आरोप है कि मुस्लिम व्यक्ति ने अपना धर्म परिवर्तन घोषणा की। फिर उसके साथ दुष्कर्म किया। महिला को पहले पति से हुई बेटी का धर्म परिवर्तन जारी और नाम बदलने का दबाव बनाने लगा। इस बीच पंजाबी महिला को पता चला कि एक्सिस 9 बच्चों का बाप है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

तेरा खिलाकर धर्म बदलवाया, नामे आयशा

27 साल की उम्र का आरोप है कि सदस्‍य व्‍यवसायी ने बिना बताए बयान पढ़ाकर उसका धर्म परिवर्तन कर दिया। उसी के साथ ग्रसित व्यक्ति का नाम आयशा रखता है। इसके बाद बंधक बना रहा। इस दौरान न केवल उसे गोली मारी गई, बल्कि पिलाकर गर्भपात का भी आरोप लगाया गया। इस मामले में शनिवार को कलेक्टर अविनाश लवानिया सहित तलैया थाना पुलिस से शिकायत की है। 9 साल पुराना मामला होने की वजह से जस्ट पुलिस केस दर्ज नहीं हुआ। जांच के बाद ही एफआईआर की जाएगी। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

प्रदेश में इंदौर-खंडवा में सबसे ज्यादा लव जिहाद

प्रदेश में लव जिहाद के सबसे ज्यादा मामले इंदौर और खंडवा में सामने आए हैं। छोटे शहरों में लव जिहाद के सबसे ज्यादा शिकार आदिवासी युवक हुए हैं। इनमें से आठवीं-दसवीं तक पढ़ी गई नाबालिग लड़कियां बहुत ज्यादा सोशल मीडिया पर एक्टिव रहीं। जबकि भोले-इंदौर जैसे बड़े शहरों में कॉलेज के होस्ट और नौकरी करने वाले युवा शिकार हुए हैं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

लव जिहाद कानून: तो क्या दूसरे धर्म में नहीं होगी शादी?

मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार का कहना है कि ‘लव जिहाद’ रोकने का कानून कोरोना के चलते अटक गया है। शिवराज सरकार आज से शुरू हो रही विधानसभा सत्र में इसकी तैयारी में थी। शनिवार को ही कैबिनेट ने इस बिल को मंजूरी दी। लेकिन, रविवार को पांच और विधानसभा बैठक के 61 कर्मचारियों के हालात कोरोना आने के बाद आज से शुरू हो रही है विधानसभा की स्थिति। अब देखना होगा कि क्या शिवराज सरकार इसके लिए ग्रेडिएंट है या नहीं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here