अयोध्या की आईडी सरयू नदी: श्रीराम बाल देखने के लिए एडवाइज़री, तट से होती

0
237


अयोध्या7 पहला

  • लिंक लिंक
सरयू तट पर अनेक यज्ञों का वर्णन कालिदास ने महापाप में रखा है।  - दैनिक भास्कर

सरयू तट पर अनेक यज्ञों का वर्णन कालिदास ने महापाप में रखा है।

11 अगस्त को हर तीज है। हिंदू धर्म के श्रावण या सावन में सबसे पवित्र होता है। यह सबसे प्रिय मंथ भी है। महीने यह श्रावण मास में है, तो श्रावण भी हैं। इस घटना से जुड़ी हुई है।

अयोध्या की आईडी है सरयू

पर्यावरण में पर्यावरण के लिए भी ऐसा ही होगा, जैसे कि बारिश के मौसम के लिए। जैसे-जैसे गीत गाती हैं। इस दिन पूरे विश्व में काम करता है। छुट्टी मनाने का काम। सरयू न अयोध्या की तरह वे करेंगें। ️

करोड़ों लोगों की आस्‍था का संगीत जारी है सरयू

. प्रत्येक माह की पूर्णिमा, अय्या, संक्राति, त्रयोदशी पर्वों के अलिनवमी, सावन वल्वा ववसी कल्कि की संख्‍या में स्‍वादिष्‍ट होंगे। .

सरयू का डटकर मुकाबला करने के लिए श्रीराम के विज्ञापन के पहलेयह है कि श्रीराम की बालली के दर्शन के लिए श्रीराम की स्टाइल को खराब करने के लिए श्रीराम के सबसे पहले श्रीराम के सबसे पहले जैसा था। अध्याय के दर्शन शास्त्र जल से नागेश्वरनाथ महादेव का ऐक्डेंट के बाद ही है।

नदी के जल में स्नान का विशेष महत्व

सरयू को बह्मचारिणी है। इस नदी के जल में विशेष महत्व है। भारत के भीष्पर्व में सरयू का नाम¨का है। रामचरितमानस में सर की महिमा का बखानकरते है गोस्वामी तुलसीदास जी ने अवधपुरी मम पुरी सुहावनि लिखा है। उत्तर दिश बह सरयू पावनी।। तुलसीदास जी ने इस चौपाई से सर यू नदी को अयोध्या की प्रमुख आईडी के रूप में।राम की जन्मस्थान से उत्तर दिशा में पावन सलिला सरयू बैक है।

पद्मपुराण के उत्तर में पद्म सर नदी का महिमा का विवरण

पाणिनि ने अपनी पुस्तक अष्टाध्यायी में दर्ज की है। पद्मपुराण के उत्तर में भी पद्मरु नदी का महिमामंडन है। लोकभाषा में कहा जाता है कि सरयू में दुध बहत है मूरख जाने पानी। ️

सर यू मानसरोवर से पहले कड़याली नाम से बिक्री

वाल्मीकी रामायण और ब्रह्मजी ने हिमालय में एक उच्च गुणवत्ता वाले क्षेत्र में सरोवर का निर्माण किया। उस सरोवर का नाम मानस-सरद। जिसकासर मानसरोवर से कड़याली जाने के लिए पहले। फिर घाघरा या घर्घरा के नाम से पहले। गंगा-सरयू मेघ मिलान पर पुरानी दृष्टि है।

सरयू में देविका, घघरा, राप्ती व गण्डक संचार आने वाले हैं

कालिदास ने सर्प, जाह्नवी मेल का न्यास किया है। सरयू तट पर अनेक यज्ञों का वर्णन कालिदास ने महापाप में रखा है। अध्यात्म रामायण में लिखा गया है कि सरयू में देविका, घघरा, राप्ती व गण्डक नदियां हैं। देविका व घा होम की तराई में है।

वशिष्ठ की पुत्री होने से पहले अपनी बेटी की स्थापना करें
अयोध्या से पश्चिम घाघरा व सर का मेल खाने के लिए इस साइट पर जाएं। के चर्चित सरयू मदिर के महंत नेत्र प्रज्ञा प्रदीप्त अयोध्या के उष्ण कटिबंध केशव जी ने गंगा से पुरानी नदी सर है। जब ब्रह्मा जी अपने पिता की खोज कर रहे थे तो उसकी समय भगवान विष्णु प्रगट हो गये तथा उनकी आंख से प्रेम के जोआंसू निकले वही नेत्र से निकलने से नेत्रजा या सरयू नदी कहलायी। सर वशिष्ठ की पत्नी होने से पहले वे अपने पुत्र के रूप में अपनी पहचान रखते थे।

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here