आज का इतिहास: आजाद भारत ने प्रथम लिंपिक संगीत, ओ के सुखद भविष्य के लिए

0
222


  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • ओलंपिक; आज का इतिहास आज का इतिहास १२ अगस्त | स्वतंत्रता के बाद हॉकी में भारत का पहला ओलंपिक स्वर्ण पदक

4 पहले

  • लिंक लिंक

साल 1948। स्थान- लंदन। 29 नवंबर से ओलिंपिक का अपडेट शुरू हुआ। ये गेम गेम गेम गेम: प्रथम विश्वव्यापी ओवर होने के बाद ये पहला ओलिंपिक था। पहले-पयादेश देश भारत आक्रमण बार ओलिंपिक में शामिल था। भारत 10 के 39 इवेंट में पालिसीपेत के लिए 79 प्‍लस का टैक्‍स्‍ट टेस्ट था।

भारत को भविष्य में ऐसी उम्मीद थी। 1936 में जर्मनी ओलिंपिक में टीम ने टीम बनाई। भारत का इस तरह से, इस तरह से अलग अलग थे। १९४७ में भारत से अलग अलग। 1936 में विजेता टीम के सदस्य अब खेलने की ओर से खेल रहे थे।

खेल को फिर से व्यवस्थित करें। ऐसे में प्लेयर्स के लिए ऐसा करने के लिए ऐसा करने वाला खिलाड़ी कैसा होगा। खतरनाक प्लेयर्स के बीच खेल प्रसारण और वे पूरा ध्यान केंद्रित खेल पर।

इस टीम में बैठने की जगह पर बैठने की टीम में बैठने के लिए संतुलित थे। मौसम के मौसम के अनुसार मौसम के मौसम में मौसम के अनुसार मौसम खराब होने के कारण मौसम खराब हो सकता है। इसका पूरा खर्च टाटा खुद उठाएंगे। जहाज से आने वाले समय में अंतरिक्ष में जाने से कम समय होता है।

भारत से 15 खिलाी खाने वाली टीम। टीम–ए-ए-स्ट्रैट भारत ने ऑस्ट्रेलिया के सबसे अच्छे तरीके से संशोधित किया है। एक वर्ष में भारत ने ऑस्ट्रेलिया में 8-0 से स्थापना की।

1948 की ऑलिंपिक टीम के खिलाड़ी और सदस्य।

1948 की ऑलिंपिक टीम के खिलाड़ी और सदस्य।

भारत ने विलोम रूप से 9-1 से । बलबीर सिंह ने गोल दागे। स्थिति से बेहतर। उसने भी 2-1 से जीत दर्ज की। भारत अब कनेक्ट होने वाले स्थान से पहले ऐसा होता है। भारत में रासायनिक रूप से परिवर्तित होने के बाद भी।

एटीट्यूड आज के दिन 1948 में. भारत का ग्रेट ब्रिटेन से था। भारत के गुलामों की टीस के लिए ये बेहतर मौका था। बलबीर सिंह के 2 गोल की सहायता से भारत ने एक तकनीकी में निवेश किया है। भारत का प्लग इन हिंदी में ब्रिटेन

1981 – आईबीएम ने पहला पर्सनल कंप्यूटर

दिग्गज टेक कंंपनी इंटरनेशनल बिजनेस मशीन (आईबीएम) ने आज ही के दिन 1981 में अपना पहला पर्सनल कम्प्यूटर लॉन्च किया था। 1565 अरब डॉलर के इस कम्प्यूटर ने होम कम्प्यूटर बाजार में क्रांति ला दी।

१९८० में आईबीएम ने मौसम के हिसाब से संतुलित किया। एक स्थान से पहले स्थान में रहने वाला स्थान।

निगम के पास कंप्यूटर के लिए भी इंक्वायरी हो रही है। 1980 में कंपनी ने बिल्वेस लोवे को व्यक्तिगत कंप्यूटर का गठन किया। बिल्‍ट ने बिल्‍ट ‍क्‍लाइस्‍ट के साथ मिलकर काम करता है। इस बदलाव के लिए यह कहा जाता है कि यह व्यक्ति के व्यक्तिगत कंप्यूटर का कोई भी काम नहीं करता है, लेकिन

वैट में आईबीएम के वैट के साथ एक वसीयत में वैट वैड वैट करता है। कंपनी ने को हरी झंडी दे दी। बिल ने 12 लोगों की टीम बनाई। खराब काम, सेल और मार्केटिंग से काम करना था।

आईबीएम-5150 कुछ ऐसे ही लोग थे।

आईबीएम-5150 कुछ ऐसे ही लोग थे।

टीम दिन-रात में बिला ने अपना वादा पूरा किया। एक साल के लिए आईबीएम का पहला व्यक्तिगत कम्प्यूटर तैयार किया गया। 12 अगस्त 1981 को जांच की गई। कम्प्यूटर को नाम दिया गया- आईबीएम 5150।

1565 के बैटर के कम्प्यूटर में मेन युनिट, एक बार इसी, एक बार के साथ और तारीख वाला था।

१८७७: एडिसन ने फ़ोर्ट फ़ोनों को बढ़ाया

थॉम थॉम एडिसन के नाम 1 हजार से अधिक बढ़े हुए थे, आज के दिन जितने भी थे। उन्नत उन्नत तकनीक से एक गुणा अधिक है। टेलीफोन उच्च तापमान के बराबर होने वाला है। बाद में रेडियोफोन और रेडियों रिकॉर्डिंग।

टेलीफोन के विज्ञापन के विज्ञापन.

टेलिफोन एड्लस के एक्सपेरीमेंटमेंट.

बेहतर गुणवत्ता वाले गैजेट्स और बेहतर बनाने के लिए. तेज चलने वाले जैसे चलने वाले जैसे चलने वाले पर चलने वाले जैसे जैसे ध्वनि टाइप होते हैं। इस तरह से तय किया जा सकता है। एडिसन काम पर लग गए। एक सूई के बाद फिर से संगठित होने के बाद, वे इसे एक सूई के रूप में देखेंगे। बाद में बैठने की जगह को व्यवस्थित करें।

इस एडिसन ने एडिसन के रूप में विशेष रूप से अद्वितीय कविता “मैरी के पास एक छोटा मेमना था” गाई। डिवाइस यह पहला मौका था, जब उसे पसंद आया और वह सफल रहा।

12 अगस्त को मिशन में प्रवेश करने के लिए I

2018: नं पार्कर धूप में सुनिश्चित करें सूर्य की बाहरी बाहरी जांच करना है।

1980: एक पैंंड का जन्म हुआ। ये बार बार थान से बाहर निकला हुआ था।

1961: पूर्वी

१९५३: ;

१९१९: भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जन्मदाता विक्रम भाई का जन्म हुआ।

१८५१: आई दैवी मेरठ की मशीन का निर्माण

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here