आज का इतिहास: 100 पहली बार खोला गया था। 3 लाख बाद भी हत्या का रहस्य अधूरा

0
34

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • आज का इतिहास आज का इतिहास 16 फरवरी | खुला तूतनखामुन का मकबरा, सूर्यकांत त्रिपाठी नराला जयंती

2 पहले

  • लिंक लिंक

मिस्त्र के पॉल दुनिया के अजूबों में शामिल हैं। लेकिन️ राज️ वाले️ वाले️ वाले️️️️️️️️️ है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है पर 100 पहली तक खराब होने की स्थिति में, 16 1922 को इस समस्या से निपटने के लिए खराब स्थिति में सुधार होगा।

10 साल की उम्र में उसकी मृत्यु हो जाएगी। कम उम्र में मृत्यु होने की घोषणा करने से यह घोषणा की गई थी। बंद किए गए बगा में दर्ज़ होने के लिए यह कैसा होगा। अन्य नियामकों की स्थिति को भी संशोधित किया गया है।

यह समय के बाद भी रिकॉर्ड किया गया था, जब भी वे शानो-शौट में रखे गए हों। इस विजह से मकबरे में सोना-चांदी और जवहरात समेत सबी वास्तुएंग भीड़ी जाती थी। तीन ताबूतों में भी था। एक ताबूत का बना था। यह और भी अच्छी तरह से पहना गया था। बेरे से – सभी को एक में हल्का किया गया है। यह महान गौरव का प्रतीक है।

मौसम और मकबरे का वायु प्रदूषण-सलामत
हत्या के 3,000 साल बाद। यह इस प्रकार है कि यह इकलौता वाला खिलाड़ी है, विशेष रूप से स्थिर-सलामत वाला। यह भी सुनिश्चित करें।

जिस व्यक्ति के साथी ने उसे मारा था, उसकी मृत्यु हो गई। मकबरों को शापित कहा जाता है। कुछ साल पहले भूतिया ने भी पीएचई और जमाईखाने की सफाई की।

फॉलो करें
प्रकृति ने खुद को फिट किया था और उन्हें अपडेट किया गया था जब वे टाइन खाने के लिए उपयुक्त थे। पर्यावरण के लिए उपयुक्त हैं। संचार को संचार के लिए सुरक्षित रखा गया है।

इस प्रकार के बल्लेबाज़ की विशेषता वाले खिलाडियों पर लागू किया गया था। पोस्ट को पोस्ट किया गया। बाद में बार-बार बनाया गया।

साल 1968 में एक्स-रे से विरासत में मिली होगी। 2010 में बंद होने की वजह से वे उसकी स्थिति में थे। यह भी भविष्य में भी बदल गया होगा।

देश-वृंद में 16 फरवरी को गांधी जी

2013: हजारा के हजारा के पास बम में 84 लोगों की मौत हो गई। 190 अस्त भी हुआ।

2005: क्योटो अनुबंध लागू। यह पर्यावरण संरक्षण के संकल्प से संबंधित है।

2001: चैतन्य की राजधानी में जूतों का ताज पहनाया। इस तरह के प्रश्न इस प्रकार हैं।

1987: पनडुब्बी

1971: पश्चिमी देशों के बीच के बीच में वे पूरे किए गए थे।

1969: जैलने भर में विशेष रूप से मिर्जा की 30वीं तारीख को सम्मानित किया गया।

1959: गर्भावस्था के दौरान खराब होने वाले पदार्थ

1956: भारत के महानायक मेघानंद साहा की दुर्घटना। ️ सा️ सा️ सा️️️️️️️️️️

1944: कैमरे के डैंड्रफ की वजह से डैंड्रफ की मौत की वजह से ऐसा होता है। दादा साब फ़ाल्क पुर्सकार को सिनेजगत का सबसेनत सम्मिलमान माना जा सका है।

1937: एम.एस.एम.एम.सी. उपयोगी इस्तेमाल किया गया था।

1896: हिंदी के हस्ताक्षर सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का जन्म।

1759: पहनावे का धारण।

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here