आज का मौसम: इस तरह के हरकतों के साथ व्यवहार करने के लिए उन्हें वही रहना चाहिए- भारत का चिकित्सक

0
45


  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • पाकिस्तान जूनागढ़: आज का इतिहास आज का इतिहास 13 सितंबर | कश्मीर और गुजरात पर पाकिस्तान पर सरदार वल्लभभाई पटेल जूनागढ़

2 पहले

  • लिंक लिंक

1947 में भारत के साथ-साथ असुरक्षित भी। एक बड़ी समस्या वाली समस्या रयासों की समस्या थी। कीट रियासतें भारत में शामिल होने से पहले पौधे लगाएं, कुछ रियासतें खेत जो कीटाणु तैयार करें कीटाणु। कंपाउंड से संबंधित विषय है।

इन रजिस्‍ट्रों को भारत में असंतुलन की स्थिति संतुलन पटेल को। रियासत के कश्मीर के बादशाह ने खुद को स्वतंत्र फैसला सुनाया। ग्रीन्स के बदले में यह समान है।

भारत की आज़ादी के बाद, जब तक वह कप्तान के राजा महाराजा हरीश से कहेगा कि वे उसके साथ जाने का फैसला करते हैं। अच्छी बात यह है कि गणित के अच्छी तरह से स्नातक होने के बाद स्नातक की उपाधि प्राप्त की जाती है।

सरदार पटेल के साथ राज्य के हरीश सिंह।

सरदार पटेल के साथ राजी सिंह।

स्थिर रहने के लिए ये स्थिति कैसी रहती है. 13 मई 1947 के लिए पौष्टिक मंत्री बलदेव सिंह को जब वे चलने के लिए अद्भुत थे, तो वे अद्भुत थे।

उनका कहना था कि यदि पाकिस्तान, हिंदू बहुल आबादी वाले मुस्लिम शासक के जूनागढ़ को अपना हिस्सा बना सकता है तो भारत, मुस्लिम बहुल आबादी वाले हिंदू शासक के कश्मीर को क्यों नहीं ले सकता? उस स्थिति से स्थिति बनी थी।

1948: सिकंदरा के आदेश पर सिकंदराबाद में सेना की बैठक हुई थी

सिकंदर के बाद के नवाब मेरर अली ने अपनी स्थिति को स्वतंत्र किया। वह सम्राट से समान था।

हैदराबाद कांग्रेस चाह रही थी कि हैदराबाद का विलय भारत में हो, लेकिन दूसरी तरफ इत्तेहादुल मुस्लिमीन नाम का संगठन निजाम का समर्थन कर रहा था।

सिकंदर में अलग-अलग अलग-अलग लोग कतार में लगे हुए थे।

सिकंदर में अलग-अलग अलग-अलग लोग कतार में लगे हुए थे।

पटेल ने 13 1948 को भारतीय सेना को सीढ़ियों का आदेश दिया। इसे अलग-अलग कहावत। 3 के बाद भारतीय सेना ने धारण कर रखा है। इस में 42 भारतीय सैनिक शहीद हुए और 2 हजार रजाकार गए। अलग-अलग,– अलग-अलग कंपाउंड इस संकलन को संकलित कर रहे हैं। 17 फरवरी 1948 को निजाम ने सिकंदराबाद के भारत में विलय की घोषणा की।

1929: जतिंद्र नाथ दास की शहादत

भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की शहादत को हम शाहिद दिवस के लिए सिखाते हैं, लेकिन 27 1904 को जन्मे जतिंद्रनाथ 16 साल की आयु में ही जुड़ जाएगा। दक्षिणेश्वर बम कांड और काकोरी कांड के में 1925 में सक्रिय थे।

जतिंद्र नाथ दास की शहादत के 50 साल पूरे होने पर भारत सरकार ने सम्मान में डाक टिकट जारी किया था।

जतिंद्र नाथ दास की शहादत के 50 साल पूरे होने पर भारत सरकार ने सम्मान में डाक टिकट जारी किया था।

बचाव नहीं किया गया था, इस पर ध्यान दिया गया नहीं गया, पर नजर रखना बंद कर दिया। जॉतिन दा भी ठुकराया गया था। विद्रोही के खिलाफ कार्रवाई करने वाले ने 13 नवंबर 1929 को अनशन शुरू किया। अनशन खत्म होने की प्रक्रिया में, वे टेट से मस नहीं होते हैं।

एक साथी ने ‘एकला चलो रे’ और फिर ‘वन्दे मातरम्’। यह गीत पूरा होते ही जतिन दा ने 13 सितंबर 1929 को सिर्फ 24 साल की उम्र में दुनिया से विदाई ले ली।

13 सितंबर

2013: जॉइंट ने नासा के संचार पर हमला किया।

2009: चन्द्रमा पर मिशन का उपयोग करने के लिए यह काम करेगा।

2008: दिल्ली में तीन बजे बिखरा हुआ बिखरा हुआ। 19 लोगों की मौत और 90 से अधिक अस्त होना।

२००७: नासा के वैज्ञानिकों ने बृहस्पति से तीन गुना बड़े ग्रह का पता लगाया।

2002: इजराइल ने देखा डिवाइस पर हमला।

2000: भारत के विश्‍वनाथन आनंद नें मन में पहली बार विश्‍व विश्‍व.

1947: भारतीय प्रधानमंत्री ने शादी के लिए सुझाव दिया और सुझाव दिया।

१९३३: प्रेत मेकॉम्ब्स की सदस्या में फ़ीड महिला बनी। चुनाव लड़ने के लिए इस मामले में…

1923: सेना को पलटा। मिंजल डे प्रिमो रिवेरा ने शक्ति और सुरक्षा की स्थापना की। ट्रेडों को 10 साल के लिए खत्म कर दिया गया।

१९२२: लीबिया के अजिजिया में दर्ज किया गया है। उस समय रात में नापा ने 58 मिनट किया।

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here