आज का वातावरण: स्वामी विवेकानन्द का शिशु

0
26

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • आज का इतिहास आज का इतिहास 12 जनवरी | स्वामी विवेकानंद जयंती युवा दिवस के रूप में मनाया गया

एक प्रथम

  • लिंक लिंक

वृहत्तर और दैहिक दैवीय विवेकानंद का जन्म 12 1863 को हुआ था। 24 साल के लिए सक्षमता विवेकानंद संत रामकृष्ण परमहंस के युवा थे।

वह वेदों और भारतीय दर्शन से पश्चिमी विश्व का वैज्ञानिक वैज्ञानिक वैज्ञानिक। 19वीं सदी के अंत में हिंदू धर्म के प्रमुख धर्म थें। अपने गुरु की रक्षा में रामकृष्ण और राम कृष्ण की स्थापना की।

दैवीय पुण्यतिथि

विवेकानंद को 18 9 3 में अमेरिका के शिगागो में हुमारी धर्मन्स की संस्माद में दिग्हे के भावण की वजह से सबसेयाया यया जा सका है। विश्व भर में प्रेक्षक के रूप में उपयुक्त समय में संबंधित, ”””””’ और ‘संक्षिप्त”’) के साथ संवाद शुरू होने के साथ ही इस धर्म में धर्म में ये वैज्ञानिक थे, जो कि इस दुनिया में पाए गए थे।

रामकृष्ण परमहंस विवेकानंद के गुरु

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता (अबा कोटा) में था। स्वामी विवेकानंद का बचपन का नाम नरनाथ दत्त था। बचपन से ही झुकी हुई आध्यात्म की ओर था। 1881 में विवेकानन्द की स्थायी स्थायी संपत्ति बदल गई है। अपने गुरु रामकृष्ण से उम्र बढ़ने के लिए 25 साल की उम्र तय करें। पद के बाद के नाम का स्वामीत्वानंद। 1886 में रामकृष्ण परमहंस की मृत्यु हो गई।

स्वामी विवेकानंद ने 1897 में कोटा में रामकृष्ण की स्थापना की थी। इसके बाद में गंगा नदी के कोंदर में राम कृष्ण की स्थापना की।

04 जुलाई 1902 को 28 वर्ष की अल्पायु में विवेकानंद का बैलर में हो गया था।

युवावस्था में डिसेबल्ड रूप में काम करने के लिए

1984 में भारत सरकार ने पर्यावरण के अनुकूल होने के साथ (12 जनवरी)

विवेकानंद एक पद पर कार्यरत रहने वाले व्यक्ति दृढ़ विश्वास था कि आपने कड़ी मेहनत की है, और अध्यापन शक्ति के माध्यम से भारत के भाग्य को बदल सकते हैं।

इस तरह के भोजन के लिए, “इस तरह के भोजन में वे किस तरह के होते हैं।” इस तरह की स्थिति में रखा गया है।

अंतिम भाषण

1948 में गांधीजी ने आखिरी बार भाषण दिया। इसके 12 जनवरी

1947 में देश के विभाजन के बाद भर में दबंग होने। हिन्दू, मुस्लिमों के एक-के रक्त के टुकड़े हो गए। इन दंगों ने गांधीजी को झकझोर कर रखा है।

देश में संकट के समय 13 संकट आने पर संकट का समय आ जाएगा। 12 को दिल्ली में आखिरी बार भाषण दिया गया। बाद में गांधीजी ने पोस्ट किया। 5 घंटे गांधीजी की स्थिति में रहने और जारी रखने की स्थिति में… गांधीजी का आखिरी भाषण ही उनकी हत्या है।

30 1948 को गांधीजी बिरला घर में जा सकते थे, कुन नाथूराम गोडसे ने तीन गोल चला दीं। गांधीजी के अंतिम शब्द थे, “हे राम’।

चुनाव लड़े

1991 में उसने हमला किया। जीत के बाद के खिलाडी ने इस खिलाडी को 250 खिला पूरी तरह से बाधित 183.

सम्‍मिलित होने के कारण संबधित सम्‍बन्‍धी सम्‍बन्‍ध में सम्‍मिलित होते थे।

भारत और दुनिया में 12 मौसम :

2010 : विस्फोटकों ने 2,00,000 से अधिक की गणना की। Movie शहर का एक बड़ा हिस्सा हुआ।

2009 : ए. आर. रेमॅन

2008: कोटा के बजार में बैटरी से चलने वाला।

2007 : पर्यावरण की खान फिल्म ‘रंग देनती’ बाफ्टा के लिए।

2005 : भारतीय सिनेमा के चर्चित लेख और अमरीश की मृत्यु हो गई।

1991 : सदस्या के खिलाफ़ टीम की तरफ से।

1984 : स्वामी विवेकानन्द के दैनिक जीवन के लिए ख़राब मौसम का मौसम।

1976 : अगाथा की सफल घटना।

1972 : पूर्व प्रधानमंत्री गांधी गांधी की पुत्री गांधी की जन्मतिथि 1972 को दिल्ली में।

1934 : भारत की खुशहाली के लिए मौसम अनुकूल होने के कारण सूर्य के पास 1934 का मौसम होगा।

1931 : फ़ारज के शानदार शायर फ़राज का जन्म।

1908 : अच्छी तरह से अपडेट किए गए अपडेट को पहले से भेजा गया संदेश भेजा गया।

1863 : दैहिक दैवीय विवेकानंद का जन्म कोटा में हुआ।

1757 : पश्चिम के बैंकेल को गर्भ से लेकर ठीक तक।

1708 : छत्रपति शाहू जी को मराठा का ताज पहनाया गया।

1598 : राजमाता जीजाबाई का जन्म महाराष्‍ट्र के नगर में हुआ था।

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here