HomeIndia Newsआप में शामिल नहीं होंगे विपुल चौधरी: अब बीजेपी के साथ ही...

आप में शामिल नहीं होंगे विपुल चौधरी: अब बीजेपी के साथ ही रहने का फैसला, अमित शाह ने एक ही मीटिंग में चौधरी को मना लिया

Date:

Related stories

सलमान खान के जीजा ने पापा को दी चुनाव जीतने की बधाई…, कहा- बधाइयां होइए!

नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजों के...

मनपा4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

उत्तर गुजरात के दुग्धसागर क्षेत्र के संस्थापक और उत्तर गुजरात के चौधरी समाज के नेता विपुल चौधरी के पिता मानसिंह पटेल के जन्मदिन पर चराडा में मंगलवार को आयोजित सभा में राजनीतिक जोड़-तोड़ की बातें असत्य साबित हुईं। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को रात में चौधरी समाज और अर्बुदा सेना के अग्रणियों से मिलकर बड़े ऑपरेशन को पूरा कर लिया। समझौते के मुताबिक विपुल चौधरी अब बीजेपी के साथ जीतेंगे।

- Advertisement -

आप में शामिल होने का ऐलान किया था
चुनाव में भारतीय जनता पार्टी से टिकट नहीं मिलने पर विपुल चौधरी आम आदमी में शामिल होने का ऐलान पार्टी ने किया था। हालांकि, अभी वह जेल में बंद हैं, लेकिन यह संदेश जेल से ही सन्नाटा भाजपा के माध्यम से हाईकमान को बताया गया था। इसके बाद अमित शाह विपुल चौधरी मामले में एक्टिव मोड में आए। पूरा दौर शुरू हुआ और कुछ ही घंटों में रिजल्ट आया कि विपुल अब कहीं नहीं जाएंगे, बीजेपी के साथ बने रहेंगे।

800 करोड़ के फर्जी घोटाले मामले में विपुल चौधरी अभी जेल में बंद हैं।

800 करोड़ के फर्जी घोटाले मामले में विपुल चौधरी अभी जेल में बंद हैं।

21 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है
विपुल चौधरी दुग्धसागर दायरे में 800 करोड़ के संभावित घोटाले मामले में अभी जेल में बंद हैं। करप्शन के छींटें उनकी पत्नी और बेटे पर भी पड़ते हैं। आगामी 21 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट में इसी मामले की सुनवाई चल रही है। वहीं, विपुल चौधरी की गिरफ्तारी से चौधरी समाज में खासी नाराजगी है। पिछले कई दिनों से समाज की अर्बुदा सेना गुजरात सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रही है। सूत्र की स्थिति तो अब घोटाले की रकम घटक केवल 6 करोड़ रुपये हो गया है।

विसनगर में संकल्पित है चौधरी समाज
पाटीदार उम्मीदवार आमतौर पर विसनगर में जीत रहे हैं। यहां ठाकोर के साथ चौधरी समाज के वोट भी निर्णायक रहते हैं। चुनाव में ठाकोर और चौधरी वोटों के पद पर आसीन होने से उम्मीदवार के जीतने की संभावना बढ़ गई है। 1995 से 2017 तक बीजेपी ने विसनगर सीट का अवलोकन किया। 1995 में किरीट पटेल विधायक बने। 1998 और 2002 में प्रहलाद पटेल विधायक बने। 2007, 2012, 2017 में स्वास्थ्य मंत्री ऋषिकेश पटेल विजेता बने। इस बार भी यहां से ऋषिकेश पटेल को दोहराया गया है।

दोनों चरणों की मतगणना 8 दिसंबर को होगी।

दोनों चरणों की मतगणना 8 दिसंबर को होगी।

1 और 5 दिसंबर को मतदान होगा
राज्य में पहले चरण का वोटिंग 1 दिसंबर को होगा, जबकि दूसरे चरण का वोटिंग 5 दिसंबर को होगा। वहीं, दोनों चरणों की मतगणना 8 दिसंबर को होगी। पहले चरण की वोटिंग प्रक्रिया के लिए गजट नोटिफिकेशन 5 नवंबर को और दूसरे चरण की वोटिंग प्रक्रिया के लिए 10 नवंबर को जारी किया गया था। स्क्रूटनी पहले चरण के लिए 15 नवंबर को होगी, जबकि दूसरे चरण के लिए 18 नवंबर की तारीख तय की गई है। नाम वापसी की अंतिम तिथि पहले चरण के लिए 17 नवंबर और दूसरे चरण के लिए 21 नवंबर निर्धारित की गई है।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here