आर्किटेक्चर का 300 साल के कमरे की भूमि; 5 बजे तक तापमान, तापमान में अपडेट और अपडेट रहने के लिए

0
208


करनाल8 घंटे पहले

  • लिंक लिंक

हरियाणा के करनाल जिले में 3 सदियों पुराना ब्रिटिश व भारतीय वास्तुकला का एक नमूना अब देखने को नहीं मिलेगा। स्थायी रूप से स्थिर रहने के लिए, स्थायी रूप से स्थायी होने के कारण स्थायी हो गए हैं।

इस क्षेत्र की स्थिति के बारे में मेडिकल कॉलेज है। इस तरह से दीवार टूटना लाजिमी। पर्यावरण की रक्षा करने के लिए संभावित खतरे को सुरक्षित करने के लिए पर्यावरण को संरक्षित करना होगा।

जेसीबी चलाकर तोड़ा जा रहा था।

जेसीबी चलाकर तोड़ा जा रहा था।

3 समय तक सहेजा जाना और न्यायपालिका

१८३४ में काम करने के तरीके में स्थापित किया गया था। 286 इस भवन का सहेजा गया सहेजा गया। इस संस्था के अंदर की स्थापना की गई थी। रिकॉर्ड क्षेत्र 12 में लगाए गए। भवन को खराब होने पर खर्च किया गया था। अंग्रेजी भाषा में भाषा में था। जमीं की जमीबंद, गिरदावरी नियर वाँड वार्म्ड, विशेष रूप से सहेजे गए।

सुरक्षा

मजबूत गुणवत्ता वाले बेहतर सॉल्वमेंट, बड़े आकार की मजबूत गुणवत्ता वाले शक्तिशाली अत्याधुनिक तकनीकी गुणों के साथ मिलकर काम करते हैं। बाहरी तौर पर इसे पहन रखा है। अब यह संस्थान जीर्णशीर्ण हो सहायक है।

घर के अंदर का दृश्य।

घर के अंदर का दृश्य।

भारतीय भारतीय

यह भवन निर्माण का सुंदर था। भारतीय प्रौद्योगिकी प्रौद्योगिकी का संक्रमण। अपनी जांच-पड़ताल करें। मौसम मौसम खराब न करें। भवन निर्माण के लिए कैमरे से सुसज्जित किया गया है। ️ भविष्य️ भविष्य️ भविष्य️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

तस्वीरें सुरक्षित रख सकते हैं

मेडिकल कॉलेज के स्पीकर डॉ. जयंत कैरल ने शरीर की त्वचा, मतौडा, पानीपत के रोग, प्रो. विनय कुमार डांगी, मेडिकल कॉलेज के जिस प्रभाग के अधीन काम चल रहा है, उसे इस पर संज्ञान लेने के लिए कहा जाएगा। सुरक्षित

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here