HomeSports Newsईरान में बचपन से भेदभाव बढ़ा रहे हैं...धमकियों के कारण छोड़ दिया...

ईरान में बचपन से भेदभाव बढ़ा रहे हैं…धमकियों के कारण छोड़ दिया देश | ऑस्ट्रेलियन ब्लाइंड फुटबॉल टीम आमिर आब्दी की सफलता की कहानी

Date:

Related stories

फिर जहरीली हुई दिल्ली की हवा: रविवार को AQI 400 के पार रहा, कंस्ट्रक्शन पर बैन

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली AQI 400, वायु गुणवत्ता खराब होने पर...

क्वींसलैंड5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

दिन-ब-दिन काम करना भी मुश्किल होता है। ऐसे में एक आकर्षण होना शायद कई लोगों को अचरज में डाल देता है। आमिर आब्दी ऐसे ही एक अठ हैं। जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ब्लाइंड फुटबॉल खेलते हैं। वे इस समय भारत में सीरीज खेलने आए हैं। हम आपको बता रहे हैं ऑस्ट्रेलियाई ब्लाइंड फुटबॉल टीम के कप्तान आमिर अब्दी की सक्सेस स्टोरी…

- Advertisement -

आसान नहीं था सफर…असफल ऑपरेशन में चमकी आंखों की रौशनी
आब्दी का अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी बनने की यात्रा बहुत कठिन थी। उनका जन्म ईरान में हुआ था। वह एक कुर्द थे, इसलिए स्कूल में उनके साथ भेदभाव का सामना करना पड़ा। आब्दी के दावे हैं- ’12 साल की उम्र में सिरदर्द की वजह से मुझे अस्पताल ले जाया गया।’ ऑपरेशन इसी वजह से हुआ कि आंखों की रौशनी चली गई।

आंखों की रोशनी फूटने के बाद अब्दी के सारे सपने खत्म हो गए थे। लेकिन, उनकी मां ने कभी हार नहीं मानी। उन्होंने आब्दी के दस्तावेजों के स्कूल में दस्तावेज, लेकिन कुर्द होने का कारण नहीं मिला, जिसके बाद वह इस्फहान के एक स्कूल में पढ़े।

एक बार वे आश्रय नहीं गए थे, तो उन्हें स्कूल के चक्कर लगाने की सजा मिली। वहां एक शिक्षक ने उन्हें खेलते देखा और उन्हें गोलबॉल की टीम में शामिल कर लिया।

2013 में ऑस्ट्रेलिया में अब्दी आबाद हुए थे
वह राजनीति से भी जुड़े हुए हैं और जागरूकता बढ़ाने के बारे में दिनोंदिन काम कर रहे हैं, जिस वजह से ईरान में उन्हें कई धमकियों का सामना करना पड़ा। फिर इसी वजह से 2013 में वे ऑस्ट्रेलिया में शरणार्थी बन गए। कुछ साल से वह इमिग्रेशन डिटेंशन में हैं।

वहां भी वे गोलबॉल खेलते हैं, जिसके बाद उन्हें अस्थायी रूप से चिन्हित कर लिया गया। बहुत मुश्किलों के बाद फरवरी 2022 में उन्हें टैलेंट वीजा दिया गया। वह मेलबर्न में ब्लाइंड फुटबॉल की ओर आकर्षित हुआ। अब्दी का सपना ऑस्ट्रेलिया की ब्लाइंड फुटबॉल टीम को 2024 या 2028 के पैरालिंपिक में क्वालिफाई करवाना है।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here