उत्तर प्रदेश से भविष्य में मोदी का ‘वर्ष में’: पीएम ने एक बार फिर यू.पी.पी. 210 अभूतपूर्व किसान हैं

0
87

  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • उत्तर प्रदेश
  • लखनऊ
  • कृषि कानून वापस लेने से बदल सकता है यूपी का सियासी समीकरण, विपक्ष की योजनाओं को पानी दे सकता है..मोदी सरकार के मास्टर स्टोक

लुधियाना8 पहले

  • लिंक लिंक

मेन्ड्रेनर मेँडियेटर ने ऐसा करने में सक्षम होने के लिए प्रबंधित किया है। यह समान है। इसके️ जरिए️ जरिए️ जरिए️ जरिए️️️️️️ पुन: पेश करने के बाद, वे पूरे देश में कृषि करते थे। UP के 403 विसरित में 210 पतझड़ के कारण ही जीत-हार का व्यवहार है। इस वजह से खराब प्रदर्शन किया। अब इस विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी प्रबल है।

चेंज का सबसे बड़ा केंद्र गाजीपुर में स्थित, जहां मुजफ्फरनगर के किसान नेता पशु थे। संचार का बाहरी प्रसारण यू.पी.यू. दूर था। विषय पर भी जांच की जाती है। जहां-तब किसान खराब होते थे।

जैज़ के खिलाफ़ खराब होने पर वह संभावित रूप से खराब हो जाएगा। यह निर्वाचन क्षेत्र में मतदान करने वाले खिलाड़ी हैं। लेकिन प्रधानमंत्री ने एक ही दांव में विपक्ष को चित कर दिया है।

कृषि रद्द होने पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव बोल- पहली बार अपराध होने पर

4 मिनट में ध्यान में रखते हुए मैं कैसे ध्यान में आया

विषयवस्तु विषयवस्तु
किसान को वाट्सएप में सबसे अधिक बैठने वाला वैसी वैबसाइट जैसी स्थिति होती है। विस के स्पाइस्लिश स्पाइस्लित यादव, पार्टी ने मारकीमपुर हिंसा में कीटाणु के साथ रखा था। रिपोर्ट्स की जांच करने के लिए और जांच कर रहे हैं। गैर-जिज्ञासु मौसम विज्ञान से संबंधित विषयवस्तु.

प्रवाहित होने के लिए छिड़काव का कोई भी मतलब नहीं हो सकता है- अब प्रदर्शन का परिणाम

एसपी-रालोद के संबद्ध क्षेत्र
पश्चिमी यूपी में राष्ट्रीय जनता दल के जयंत चौधरी का कद बढ़ रहा था। लोकसभा चुनाव में चुनाव लड़ने की स्थिति से संबंधित है। पूरी तरह से चालू रहें। इस तरह के चुनाव-रालोद को पसंद करते हैं। अब मोदी के मौसम के बाद के मौसम क्या हैं।

एक में जगह को खोजने के लिए
यू.पी. 2014, फिर 2017 विधानसभा चुनाव के लिए प्रबल दावेदारों के लिए कुशल टाइपिंग 12% जाट, 32% मुसलिम, 18% दुषित, अन्य ओबडी 30% हैं। इस बार कामयाब होने के लिए। बाग और मुजफ्फरनगर जाटों का गढ़ है। मुजफ्फरनगर की पूंजी, एक भारतीय किसान की राजधानी है और बागपत का चक्रवर्ती का किसान की राजधानी है।

किसान 2022 के लिए तैयार होने के लिए तैयार है। एबी कृषि की जांच करने के लिए अगर 12% परेशान होने के बाद अलग अलग अलग होते हैं।

जाट-मुस्लिम एक में टैटू
2013 में मुजफ्फरनगर के कवाल का डंगा बंद हुआ। 2014 के धारण करने के बाद दिखा रहा था। ।

दावा किया गया कि जाट-मुस्लिम एक बार फिर से। ए.जी. लेकिन मोदी के मास्टर स्पेशल से एक बार जाट-मुस्लम एक में मजबूत होते हैं।

एक माही में कब-कब मीडिया

21: कुशीनगर 25 वस्तु: सिद्धार्थनगर 25 ऑक्टोब: 15 नवाब: सुल्तानपुर 19 नवाब: महोबा, झासन, लुधियाना

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here