HomeWorld Newsएआई टेक्नोलॉजी से आप साधेंगी, आतंक रोकने का फैसला किया | ...

एआई टेक्नोलॉजी से आप साधेंगी, आतंक रोकने का फैसला किया | इज़राइल वेस्ट बैंक में रिमोट-नियंत्रित रोबोट गन तैनात करता है

Date:

Related stories

कटल के बाद सैनिक का शव पेड़ पर लटकाया, लोगों से कहा- जनाजे में शामिल न हों | पाकिस्तान तालिबान | तालिबान...

पेशावर2 मिनट पहलेकॉपी लिंकपाकिस्तान सरकार और टीटीपी (तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान)...

एमसीडी चुनाव के नतीजे आज: 42 चुनाव पर वोटों की गिनती होगी, अर्ध सैनिक बलों की 20 कंपनियां

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली एमसीडी चुनाव के नतीजे आज आएंगे: 42...

अक्षर को मिल सकता है मौका; देखें दोनों टीमों की संभावित खेल-11 | भारत बनाम बांग्लादेश दूसरा वनडे लाइव स्कोर अपडेट विराट...

मीरपुर4 मिनट पहलेभारत-बांग्लादेश ऑस्ट्रेलिया सीरीज की दूसरी प्रतियोगिता बुधवार...

एशिया के सबसे बड़े दानवीरों में 3 भारतीय: फोर्ब्स की लिस्ट में अडानी टॉप, 60 हजार करोड़ रु. दान दिया

हिंदी समाचारराष्ट्रीयफोर्ब्स परोपकार सूची; फोर्ब्स एशिया हीरोज; ...

कांग्रेस की राजनीति: भारत जोड़ो यात्रा कोटा पहुंचें, कठपुतली नचा रहे हैं राहुल

एक मिनट पहलेकॉपी लिंककांग्रेस का राज तो ज्यादा राज्यों...

तेल अवीव2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

इजरायल में आजादी के बाद पहली बार धार्मिक कट्टरवादी सरकार बन रही है। इजरायल में प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू देश की सीमा पर तीन रोबोटिक गन का अनुमान लगाते हैं। इनमें से दो वेस्ट बैंक में नियुक्त किए गए हैं, जो फिलिस्तीन और इजरायल के बीच का क्षेत्र हैं।

- Advertisement -

यहां अक्सर फिलिस्तीनी इजरायल के खिलाफ विरोध जताते हैं। ये रोबोटिक गन्स के जरिए आंसू गैस, स्टेन ग्रेनेड (धुआं फैलाने वाला बम) और स्पिल बुलेट छोड़ देंगे। ये गन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) टेक्नोलॉजी से तय करती हैं। ये जानलेवा तो नहीं लेकिन बहुत घातक हैं।

नेतन्याहू मानते हैं कि आंतकीवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए दीवार जरूरी है।

नेतन्याहू मानते हैं कि आंतकीवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए दीवार जरूरी है।

आतंक पर लगाम के लिए फिलिस्तीनी सीमा ब्लॉक होगा
नेतन्याहू खुले तौर पर फिलिस्तीन विरोधी कट्टरपंथियों के साथ हैं। जानकारों का कहना है कि नेतन्याहू फिलिस्तीनियों को रोकने के लिए बनी दीवार का काम आगे बढ़ाया जा सकता है।

►-अनजाने, नरेंद्री मानवाधिकार का कहना है कि इजरायल के चुनावी लोकतंत्र का एक ही मकसद है- फिलिस्तीनी अरब लोगों का दमन और यहूदियों का दबदबा बनाना।

फिलिस्तीनी मानव संगठन ‘इज़राइली सूचना केंद्र फॉर ह्यूमन राइट्स इन ऑक्यूपाइडटेरीज’ या बेतसेलेम ने चुनाव से ठीक पहले कहा कि इजरायली सत्ता एक ही सिद्धांत पर चल रही है- एक समूह यहूदी का दूसरा समूह फिलिस्तीनी पर अधिकार स्थापित करना। इज़राइल की सरकार इन लोगों का जीवन तय करती है, लेकिन उन्हें चुनावों में हिस्सा लेने या वोट डालने का अधिकार नहीं है। फिलिस्तीनी क्षेत्रों में रहने वाले ये लोग फिलिस्तीन के प्रशासन में रहते हैं। अभी इन क्षेत्रों पर हमास और अन्य चरमपंथी गुटों का नियंत्रण है।

इज़राइल के व्यापारों पर असर पड़ेगा
एकस्पर्ट्स का कहना है कि नेतन्याहू के गठबंधन सहयोगी इसराइल के रोज़गार के कारोबार पर असर डालेंगे। हाल ही में नेतन्याहू के सहयोगी और कट्टरवादी नेता बेन ग्विर आतंकवाद के दावे किए जाने का दावा करने वाले स्मृति चिन्ह पर गए थे।

इसके बाद अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने दामों में कहा कि एक संगठन की विरासत का जश्न मनाना निंदनीय है। कहानेसेट (संसद) के सदस्य हैं। उनके संगठन को गतिविधियों से जुड़े होने पर रोक लगा दी गई थी।

नेतन्याहू बोले-अमेरिका के सामान्य मामलों में दखल न दे
इज़राइल कट्टर दक्षिणपंथी नेता स्मोत्रिच को रक्षा मंत्री के तौर पर नियुक्त करना चाहता है। लेकिन अमेरिकी राजदूत नाइड्स ने नेतन्याहू से मिलने के दौरान स्मोत्रिच को ये पद न देने का इशारा किया। इस पर नेतन्याहू ने कहा कि अमेरिका को नई सरकार के सामान्य मामलों में दखल नहीं देना चाहिए।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here