एक में 50% भाजपा की टीम: 2019-20 में 3,623 करोड़ युवा की आय, यह नीला से 5 जीएमबल; मौसम से पार्टी को 2,555 करोड़

0
165


नई दिल्ली13 पहला

  • लिंक लिंक
दिल्ली के दीनदयाल उपाध्याय मार्ग पर युवा के नए फॉर्म का फोटो।  - दैनिक भास्कर

दिल्ली के दीनदयाल उपाध्याय मार्ग पर युवा के नए फॉर्म का फोटो।

जनता की पार्टी में 50% की स्थिति खराब है। साल 2019-20 में पार्टी की आय 2,410 करोड़ रुपये से 3,623 करोड़ रुपये है। यह डब्लाड की जाँच करें। 2019-20 के बजट खर्च का खर्च 1,005 करोड़ से पहले 1,651 करोड़ रुपये हो गया।

इल्जाम लगाने के लिए नए साल 2019-20 के लिए इल्जाम लगाने के लिए . इसके आवेदन 2019-20 में 2018-19 में पार्टी ने 1,450 करोड़ की कमाई की थी।

6 गज की दूरी पर मजबूत हर भाजपा की आय
2019-20 में निष्क्रिय की कुल आय 682 करोड़, सक्रिय दैनिक की आय 143.67 करोड़, सीपीएम की आय 158.62 करोड़, बहु समाज पार्टी की आय 58.25 करोड़, एनसीपी की आय 85.58 करोड़ और सीपीआई की आय 6.58 करोड़ रुपये है। । इस खेल की शुरुआत में 2019-20

साल में 559.63 करोड़ भाजपा का व्यय खर्च
पार्टी का वित्तीय खर्च 2018-19 में 792.37 करोड़ से 2019-20 चुनाव में 1,352 करोड़ हो सकता है। 2019 में निर्वाचन हुआ।

नीब की आय में
-२०१९-२० में बौल की उम्र के हिसाब से साल में 25% कम ६८२ करोड़ होगा। 2018-19 में पार्टी की आय 998 करोड़ रुपये।
-2019-20 में खर्च करने का खर्च 998 करोड़। यह पार्टी की आय से 1.6 गम्भीर था।

2019-20 में प्लग इन करें
कुल आय-
3,623 करोड़

इलेक्टोरल 2,555 करोड़

चुनाव प्रचार से लोग- 844 करोड़
मैं व्यक्तिगत पहचान- 291 करोड़
मैं कंपनियों और ऑर्गेनाइजेशन से डोनेशन- 238 करोड़
मैं इंस्टाल्यूशन और वेलफेयर 281 करोड़
मैं संपर्क से दूसरे अंक 33 करोड़

कीमत से आय
सहयोग निधी कार्यक्रम- 23 करोड़
मैं कार्यो का देन- 5.03 करोड़
मैं हवा से नजर- 34 लाख
मैं दर कीमत– 28 लाख
मैं डेली गेटी कीमत- 1.29 करोड़
मैं मेंबर फ़ीस्ट- 20.12 करोड़

2019-20 में बजट पर खर्च करें 400 करोड़

  • 2018-19 में 229 करोड़ रुपये की लागत।
  • मिडिया पब्लिशिंग पर 249 करोड़ खर्चा। 2018-19 में 171.26 करोड़ खर्च हुआ।
  • प्रिंट मिडिया पब्लिश पर 47.38 करोड़ खर्च। 2018-19 में 20.32 करोड़ खर्च हुआ।
  • नेताओं️ नेताओं️ नेताओं️ नेताओं️ नेताओं️️️️️️️️️️ 2018-19 में इस पर 20.63 करोड़ खर्च हुआ।
  • 2019-20 में अपनी अर्थव्यवस्था की दिशा में आगे बढ़ें। 2018-19 में यह आंकड़ा 60.35 करोड़ था।

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here