एस सी ने एम पी पुलिस की गाड़ी की तरह:

0
204


  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • दिल्ली एनसीआर
  • शिकायतकर्ता को बनाया था हत्या का आरोप और आरोपित थे गवाह, कोर्ट ने तीनों आरोपितों को उम्र कैद की सजा

नई दिल्ली7 पहलालेखक: पवन कुमार

  • लिंक लिंक
आकाशवाणी ने कहा, I NEXT NEXT I  - दैनिक भास्कर

आकाशवाणी ने कहा, I NEXT NEXT I

बीच-बीच में पुलिस हुई। बैटरी की जांच करने वालों की स्थिति खराब होती है। लाईफ-लाईन जान को चाहिए कि वह खराब हो जाए। यह इस तरह से है कि कोर्ट को यह काम करना चाहिए। मगर निचली अदालत और हाईकोर्ट ने अपने दायित्व का निर्वाह सही से नहीं किया है। विषम परिस्थितियों में विषम परिस्थितियों में हम विपरीत होते हैं।

यह निम्नलिखित मामला है: 13 मई 2008 को सहोदरा बाई की तुलना में खराब होने की वजह से यह खराब हो गया था। जांच की गई और जांच की गई। मामा किरुईया द्वारा 250 नबने से क्रुइट फ़ास्ट ने ही पप्पू की घातक की।
फिर से तैयार की गई तस्वीर इस मामले को और अधिक ‘आरोपियों’ को बनाया गया था। दैत्याकार कोर्ट को तय उम्र की सजा सुनाने के लिए। फिर भी! मुकदमा दायर करने वाले पक्ष की याचिकाकर्ता ने मुकदमा दायर किया।

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here