HomeTechnology Newsऐसा करने वाला पहली ऐप, यहां देखें पैसे अटैचमेंट का पूरा टैटू...

ऐसा करने वाला पहली ऐप, यहां देखें पैसे अटैचमेंट का पूरा टैटू | पेटीएम यूपीआई मनी ट्रांसफर; अपंजीकृत मोबाइल नंबर को भुगतान

Date:

Related stories

पति को धीमा जहर देकर मारा: संपत्ति के लिए प्रेमी के साथ रची साजिश, सास की मौत भी ऐसी ही हुई थी

हिंदी समाचारराष्ट्रीयमुंबई मैन डाई स्लो पॉइज़निंग; संपत्ति के...

नई दिल्ली4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

पेटी (Paytm) उपयोगकर्ता अब किसी भी यूपीआई खाते पर पंजीकृत मोबाइल नंबर पर अपना नाम दर्ज करा सकते हैं। अब से उस नंबर का पेटी पर रजिस्टर होना जरूरी नहीं होगा। पेटी कॉल्स बैंक के अनुसार पेटी ऐप के उपयोगकर्ता अब सभी यूपीआई ऐप में किसी भी मोबाइल नंबर पर यूपीआई पर पैसा लगा सकते हैं।

- Advertisement -

पहले क्या थे नियम?
इससे पहले की सूचनाओं के अनुसार पेटीएम उपयोगकर्ता केवल पेटी उपयोगकर्ता के साथ ही यूपीआई लेन देन कर सकते थे। अगर सामने वाले व्यक्ति के पास पेटी की जगह अन्य यूपीआई ऐप जैसे फोनपे या स्माइलपे वेबसाइट है तो पेटी वेबसाइट से आप अपना पैसा आवंटित नहीं कर सकते थे।

ऐसे औपचारिक अन्य यूपीआई ऐप पर पैसा

  1. पेटी ऐप खुलने पर आपका एक ‘यूपीआई मनी ट्रांसफर’ का सेक्शन आएगा, यहां टैप करके आपको ‘टू यूपीआई ऐप्स’ पर जाना होगा।
  2. ‘टू यूपीआई ऐप्स’ पर टैप करते ही आपको ‘एंटर मोबाइल नंबर ऑफ एनी यूपीआई ऐप’ के सेक्शन मिलेंगे।
  3. इस पर टैप करके आपको उसका नंबर डालना होगा जिसे आप पैसा बांधना चाहते हैं।
  4. मोबाइल नंबर डालने के बाद आपको कितनी राशि भरनी होगी और ‘अभी भुगतान करें’ पर क्लिक करना होगा।
  5. क्लिक करते ही आपका पैसा वोटिंग हो जाएगा। और आपके मोबाइल पर पैसे भेजे जाने का मैसेज आ जाएगा।

तेजी से बढ़ रहा यूपीआई चल रहा है
यूपीआई से होने वाले लेन-देन का दायरा लगातार बढ़ रहा है। UPI के जरिए अक्टूबर में कुल 730 करोड़ ट्रांजैक्शन किए गए। अक्टूबर में कुल 12.11 लाख करोड़ रुपये से अधिक का UPI ट्रांजैक्शन हुआ। सितंबर में 11.16 लाख करोड़ रुपये के 678 करोड़ यूपीआई ट्रांजैक्शन हुए थे।

UPI की लॉन्चिंग से क्रांति
2016 में UPI की लॉन्चिंग के साथ ही डिजिटल स्वामित्व की दुनिया में एक क्रांति आई। UPI ने सीधे बैंक खाते में पैसा लगाने की सुविधा दी। इससे पहले डिजिटल वॉलेट चल रहा था। वॉलेट में KYC जैसा झंझट है, जबकि UPI में ऐसा कुछ नहीं करना है।

UPI को NCPI संचालित करता है
भारत में आरटीजीएस और एनईएफटी अकाउंट सिस्टम का ऑपरेशन आरबीआई के पास है। IMPS, RuPay, UPI, जैसे सिस्टम को नेशनल पार्टनरशिप ऑफ इंडिया (NPCI) आपरेट करती हैं। सरकार ने 1 जनवरी 2020 से यूपीआई ट्रांजेक्शन एक्शन के लिए एक जीरो-चार्ज फ्रेमवर्क में डेटरी किया था।

UPI से जुड़ी खास बातें

  • यूपीआई सिस्टम रियल टाइम में फंड आवंटित करता है। एक ऐप में कई बैंक खाता लिंक किए जा सकते हैं।
  • किसी को पैसा देने के लिए आपको सिर्फ उसका मोबाइल नंबर, अकाउंट नंबर या यूपीआई आईडी की जरूरत है।
  • यूपीआई का आईएमपीएस का मॉडल विकसित किया गया है। इसलिए यूपीआई वेबसाइट के जरिए आप 24×7 बैंकिंग कर सकते हैं।
  • यूपीआई से ऑनलाइन शॉपिंग करने के लिए ओटीपी, सीवीवी कोड, कार्ड नंबर, एक्‍सपायरी डेट आदि की जरूरत नहीं है।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here