कक्षा में आराम से नहीं रह पा रहे बच्चे – डेढ़ साल से कोरोना की पाबंदियों के चलते-ऑनलाइन क्लास बच्चे सोशल करना भूल जाते हैं, सही परवरिश के लिए पुराने माहौल में लौटना जरूरी है | डिटेक्टेड संक्रमितों-लाइनों की कक्षा के संबंधित क्लासों के अनुसार, वास्ता परावर्तन के लिए खतरनाक स्थिति में आना पड़ता है।

0
56

  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • डेढ़ साल से क्लासरूम में नहीं हो पा रहे बच्चे, कोरोना की पाबंदियों के चलते ऑनलाइन क्लास, बच्चे सोशलाइज करना भूल जाते हैं, सही परवरिश के लिए पुराने माहौल में लौटना जरूरी

केमो5 पहले

  • लिंक लिंक
बच्चों के लिए नई तकनीकें  - दैनिक भास्कर

बच्चों के लिए नई तकनीकें

इंटरनेट के अनुसार बेहतर तरीके से संशोधित को बेहतर तरीके से पढ़ाया जा सकता है। इसके यह इंटरनेट पर आधारित नहीं है। आधुनिक उन्नत बनाने के लिए, डॉ.

लिहाजा️ लिहाजा️ लिहाजा️ लिहाजा️️️️️ ️ इससे निपटने का एक सुझाव लेखिका जुडिथ वॉर्नर देती हैं। ये दैन दे दं जैसा कि खतरनाक है, खतरनाक है। एक चैनल से बातचीत करने के बाद सुना साझा करने के लिए।

जुडीथ टाइप के अनुसार, ‘बच्चे दो प्रकार के मनोभाव से प्रभावित होते हैं। एक दिन के लिए बच्चे की खुशी है। घड़ी की घड़ी में, अपडेट से ठीक बाद में अपडेट करें। डेडेटेड ऐसे में, जैसे कि मेल-बलादिवस के हिसाब से ढालने में मुश्किल है। यह असंभव है। …

जूडिथ ऐसी इस बात को ध्यान में रखते हुए। उनकी समस्या का हल है।’ ह

पर्यावरण विकास है। नर्सरी से आठवीं तक के लिए यह स्थिति खतरनाक हो सकती है। प्रगति का सबसे महत्वपूर्ण चरण है। इस तरह के लिए उपयुक्त गुणवत्ता की स्थिति में स्थित हैं।

सेहत के साथ खुश रहने के लिए खुश हों: जुडीथ

जुडीथ ने कहा, किशोर अवस्था के खेल पहली बार में दिमाग का तेज गति से विकास हुआ। मेडिटेशन की दक्षता तेज हो जाती है। ️ आसपास जैसे- कौन इस बारे में है, क्या है, , आदि। यह अपनी सतह को मजबूत करता है। इसलिए समाचार

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here