कथक के सरताज: चर्चित कथक के सरताज: 83 साल की आयु में

0
64

5 पहले

चर्चित कथक नॅटर्कट डॉक्टर बिरादरी का दुर्घटना हो गया। पदम विविभन ने 83 साल के बिरजूर ने कहा, ‘आखिर जून की रात’। उनके गाने अदनान सामी ने भी सोशल मीडिया पोस्ट पोस्ट किया था। मैं

बिरजूर महाराज का जन्म 4 फरवरी 1937 को लुधियाना में हुआ था।  रखरखाव नाम पंडित बृजमोहन मिश्री था।

बिरजूर महाराज का जन्म 4 फरवरी 1937 को लुधियाना में हुआ था। रखरखाव नाम पंडित बृजमोहन मिश्री था।

अदनान सामी ने सोशल मिडिया पर पोस्ट किया- ग्रेट कथक पेडनेट बिरादरी के ब्लॉगर ब्लॉगर की बुरी खबर। आज कला के क्षेत्र के क्षेत्र का एक क्षेत्र खो. शारीरिक रूप से अक्षम हैं I

लुधियाना घराने से ताल्लुक दावत में बिरादरी के मालिक का जन्म 4 फरवरी 1937 को लुधियाना में हुआ था। असाधारण नाम पंडित बृजमोहन मिश्र था। ये कथक नैटर्क होने के साथ-साथ गीत भी थे। बिरादरी के महाराज के पिता और गुरु अच्छादन महाराज, मामा शंभु महाराज और लच्छू महाराज भी चर्चित कथक ड्रेटर थे।

बिरजूर को प्रसारित किया गया 2012 में राष्ट्रगान से नवाजा गया।

बिरजूर को प्रसारित किया गया 2012 में राष्ट्रगान से नवाजा गया।

बिरादरी ने देवदास, डेड इश्किया, अरामाव और बैराव मस्तानी जान के लिए स्ट्राइकल को क्लस्ट किया। ‘शतरंज के खिलाड़ी’ संगीत भी थे।

बिरादरी की टीम के दो प्रमुख देवदास डेडेड इश्किया का क्लौइकल को क्लैक्ट किया गया।

बिरादरी की टीम के दो प्रमुख देवदास डेडेड इश्किया का क्लौइकल को क्लैक्ट किया गया।

2016 में बैरव मस्तानी के 'मोहे रंग दो लाल' के लिए बिरादरी को शानदार पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

2016 में बैरव मस्तानी के ‘मोहे रंग दो लाल’ के लिए बिरादरी को शानदार पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

बिरजूर महाराज को 1983 में पद्मविभूषण से अभिमंत्रित किया गया था। रिटैंट्स के साथ फेयरीफाईड इरिटेशन और कालिसा सम्मान भी मिला हुआ है. काशी विश्वविद्यालय और खारागढ़ विश्वविद्यालय ने मेर्रिजर को डॉक्टर की मानद डिग्री दी थी।

2012 में विश्वरुपम फिल्म में ध्वनिक कोरियोग्राफी के लिए ध्वनि ने इसे ध्वनि से युक्त किया। 2016 में बैगराव मस्तानी के ‘गौरी रंग दो लाल’ मंगलास्त्रोषी के लिए उड़ने वाला विमान था।

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here