HomeSports Newsकहा- मुश्किल वक्त में देने वालों का शुक्रिया, खुद को साबित करोगे...

कहा- मुश्किल वक्त में देने वालों का शुक्रिया, खुद को साबित करोगे | भारत बनाम एनजेड टूर 2022; रीवा रेवांचल के गेंदबाज कुलदीप सेन के प्रदर्शन पर

Date:

Related stories

कटल के बाद सैनिक का शव पेड़ पर लटकाया, लोगों से कहा- जनाजे में शामिल न हों | पाकिस्तान तालिबान | तालिबान...

पेशावर2 मिनट पहलेकॉपी लिंकपाकिस्तान सरकार और टीटीपी (तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान)...

एमसीडी चुनाव के नतीजे आज: 42 चुनाव पर वोटों की गिनती होगी, अर्ध सैनिक बलों की 20 कंपनियां

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली एमसीडी चुनाव के नतीजे आज आएंगे: 42...

अक्षर को मिल सकता है मौका; देखें दोनों टीमों की संभावित खेल-11 | भारत बनाम बांग्लादेश दूसरा वनडे लाइव स्कोर अपडेट विराट...

मीरपुर4 मिनट पहलेभारत-बांग्लादेश ऑस्ट्रेलिया सीरीज की दूसरी प्रतियोगिता बुधवार...

एशिया के सबसे बड़े दानवीरों में 3 भारतीय: फोर्ब्स की लिस्ट में अडानी टॉप, 60 हजार करोड़ रु. दान दिया

हिंदी समाचारराष्ट्रीयफोर्ब्स परोपकार सूची; फोर्ब्स एशिया हीरोज; ...

कांग्रेस की राजनीति: भारत जोड़ो यात्रा कोटा पहुंचें, कठपुतली नचा रहे हैं राहुल

एक मिनट पहलेकॉपी लिंककांग्रेस का राज तो ज्यादा राज्यों...

2 पहले

- Advertisement -

रणजी…ईरानी… और भारत-ए में दमदार प्रदर्शन के बाद कुलदीप सेन न्यूजीलैंड दौरे के लिए टीम इंडिया में फिर गए। न्यूजीलैंड की तेज और बाउंसी विकेट पर कुलदीप खुद को साबित करने के लिए तैयार हैं। 26 साल के पेसर कुलदीप सेन टी-20 वर्ल्ड कप के लिए अटैचमेंट नेट बॉलर टीम इंडिया का हिस्सा थे। लेकिन, स्पष्ट नहीं होने की वजह से वो ऑस्ट्रेलिया नहीं पाया जा सकता।

- Advertisement -

- Advertisement -

अब रीवा की रेवांचल एक्सप्रेस (कुलदीप को उसके दोस्त रेवांचल एक्सप्रेस भी कहते हैं।) ऑकलैंड, हैमिल्टन और क्राइस्टचर्च में गति और स्विंग का हुनर ​​दिखाएंगे। टीम इंडिया में सिलेक्शन के बाद कुलदीप सेन ने डेली भास्कर से करियर, अटैच और तैयारियों पर बातचीत की। आप भी पढ़ें टीम इंडिया की इस लेटेस्ट पेस सेंसेशन ने क्या कहा…

प्रश्न: टीम इंडिया में फिर जाने पर बधाइयाँ। सिलेक्शन पर क्या कहेंगे?
उम्मीद नहीं की थी कि इतनी जल्दी मौका मिलेगा। मैं सोच रहा था कि ईरानी ट्रॉफी और इंडिया-ए में खाता अच्छा रहा है। ऐसे में कुछ अच्छा हो सकता है। फिर भी इतनी जल्दी मौका मिलेगा, इसकी उम्मीद कम थी। मुझे वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम नेट बॉलर के तौर पर ऑस्ट्रेलिया जाना था। लेकिन, वीजा नहीं मिला। इससे थोड़ी सी निराशा हुई, लेकिन फिर फोकस मुश्ताक अली ने ट्रॉफी हासिल की। घरेलू टूर्नामेंट खेलने के बाद एनसीए में सीखने के लिए। इसके बाद सिलेक्शन कॉल आया तो खुशी का ठिकाना नहीं रहा। यह मेरे लिए सपने भी बड़ा है। इसके लिए कई साल बहुत मेहनत की। अब मौका मिला है तो बहुत खुश हूं। मुश्किल दौर में परिवार और दूसरे लोगों ने जो सपोर्ट किया, उनका वीनसगुजार हूं।

सवाल- सबसे पहले जानकारी कैसे मिली?
मैं प्रैक्टिस के बाद होटल जा रहा था। रास्ते में एक दोस्त ने फोन पर जानकारी दी। पहले तो भरोसा नहीं हुआ। मैंने उससे भी पूछा कि क्या सच में सिलेक्शन हो गया है। गारंटी। फिर मैंने खुद की टीम की सूची देखी। उसके बाद माँ-पापा और कोच को बताया। फिर तो फोन आना बंद ही नहीं हुआ।

प्रश्न- रीवा से दूसरे…8 साल पहले ईश्वर भी फिर गए थे। ये सफर कैसा रहा?
मेरे लिए बहुत बड़ी बात है कि जिन्हें (ईश्वर पाण्डे) प्रेरणा माना जाता है, अब उनके साथ मेरा नाम जुड़ रहा है। ईश्वर पांडे मेरे काफी करीबी और बड़े भाई जैसे हैं। कठिन समय में वे मेरी काफी मदद कर सकते हैं। उनके बाद जब टीम में मेरा नाम आया तो फख्र महसूस करता हूं।

मैंने भी अपनी तरफ से पूरी कोशिश की। ऐसी जगह जहां क्रिकेट का ज्यादा स्कोप न हो, वहां से इस मुकाम तक चौकियां…ये बड़ी बात है। मेरे लिए भारत तक का सफर अच्छा, लेकिन मुश्किल रहा। बहुत अप एंड डाउन देखें। इसलिए यह सिलेक्शन कलेक्शन बहुत खास है।

सवाल- पहला इंटरनेशनल टूर है। क्या तैयारी और क्या उम्मीद है। 8 साल पहले ईश्वर बिना लौटे लौटे थे।
अभी, मेरा पूरा फोकस घरेलू क्रिकेट पर है। यहां अच्छा प्रदर्शन करके न्यूजीलैंड जाना चाहता हूं। इसके बाद वहां के विकेट और कंडीशन के हिसाब से तैयारी होगी।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here