कोरोना से मौत के मामले में: मौत की वजह से मौत की वजह से, जिस परिणाम की गारंटी दी गई होगी उसे पूरा करना होगा

0
26



नई दिल्ली11 घंटे पहले

अब कोरोना से जान जाने वाले लोगों के लिए यह गलत है। यह जानकारी केंद्र सरकार को भेजी जाती है। सरकार ने कीटाणु से तैयार किया और कीटाणु ठीक किया। एक बार फिर से इस स्थिति में आने के बाद 10 दिनों के बाद भी जारी किया गया।

क्या है लाईन?
वायरस के संक्रमण के मामले में, वायरस के संक्रमण का परीक्षण, रोग का परीक्षण आरटी-पीसीआर परीक्षण, रोगाणु परीक्षण किया गया या टेस्ट किया गया। इस तरह की मृत्यु का डेटा सामान्य डेटा में जानकारी की जानकारी। घातक घातक होने, घातक होने या घातक होने जैसी घटना होने पर भी घातक होता है।

इस तरह से मृत्यु दर्ज की गई थी और मृत्यु पंजीकरण संस्थान को जीवन और मृत्यु पंजीकरण 1969 (सेक्शन 10) के रोग के रूप में किया गया था 4ए.

टेस्ट कराने के 30 दिन में होने वाली मौतें कोरोना संबंधित मानी जाएंगी
ICMR के आवास के अनुसार, ICMR के मुताबिक, अन्य लोगों के लिए संक्रमण के मामले में अन्य लोगों के लिए संक्रमण के मामले 95% हैं। नियमों परिवर्तन में परिवर्तन की रिपोर्ट या कोरोना वायरस कीट की तरह काम करने के लिए कीट की तरह काम करता है।

रोग में संक्रमण होने की स्थिति में भी यह रोग होता है।

करना व राज्य क्षेत्र में जिला स्तर पर एक सूचना स्थिति होती है।

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here