ख़ून भारी मांग के 33 साल: राकेश रोशन ने कामयाबी हासिल की।

0
120


33 इयर्स ऑफ खून भारी मांग: प्रोप्रेसर, राकेश रोशन (राकेश रोशन) के सक्रिय फिल्म ‘खून भारी मांग’ (खून भारी मांग) 12 अगस्त 1988 को लॉन्च हुआ। रोशन लाइन (रेखा) की पंक्ति रोशन (राकेश रोशन), कबीर बेदी (कबीर बेदी), सोनू वालिया (सोनू वालिया) शत्रुघ्न सिन्हा (शत्रुग सिन्हा), अल्टर (टॉम ऑल्टर) ए केंगल (एके हंगल) ) कादर खान (कादर खान) जैसे कलाकार थे। महिला प्रधान फिल्म से पंक्ति ने पुन: पुनरावर्तक कबीर बेदी के शाहरुख ने फिल्म में अभिनय किया था तो कबीर बेदी चौंक थे।

राकेश बेदी को राकेश करना पड़ा था ?
इस तरह के उत्पाद के साथ ऐसा होता है, कुछ ऐसा ही होता है ‘खून भारी मांग’ (खून भारी मांग) के साथ। राकेश रोशन ने इस घटना को अंजाम दिया। अपनी कहानी की कहानी की बनावट वाली छवि के साथ खराब होने की स्थिति को याद रखें। ऐसे में राकेश बेदी (कबीर बेदी)। वह इस फिल्म का ऑफर था तो कबीर का रिएक्शन बड़ा मज़ा था।

किसी भी तरह की अपनी इमेज से रिस्क खराब करना
कबीर बेदी ने 31वें वर्ष सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था। कबीर ने लिखा था ‘मेरी और स्ट्रिंग स्टार की फिल्म ‘खून ख़ून’ ने प्रकाशित किया था। जब बजने वाले बजने के लिए बज रहे हों, तो ऐसा करने के लिए बजने वाले तापमान के साथ ऐसा करने के लिए बजने वाले खिलाड़ी के पास तापमान प्रतिशत होता है। सूचना, मैं? क्या दिन है ? पसंद के अनुसार ‘दुल्हन’ ने कहा कि ‘दुल्हन खराब हो सकता है।

(फोटो साभार: मूवीज एन मेमोरीज/ट्विटर)

पंक्ति नें के रोंगटे
80 के दशक में इस फिल्म में स्क्रीन ने स्क्रीन पर अभिनय किया था। महिला ने सही ढंग से कहा था। ️ विश्वासघात️ विश्वासघात️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

ये भी समान-पंक्तियों के समान दिखने वाले पौधे एक घर बनाने के लिए तैयार होते हैं

सुपरहिट समूह ‘हंसते-हंसते कट…’
‘खून भारी मांग’ (खून भरी मांग) में संगीत राकेश के भाई महेश रोशन ने था। इस मैच का बेहतरीन मैच ‘हंसते-हंसते’

हिंदी समाचार ऑनलाइन देखें और लाइव टीवी न्यूज़18 हिंदी की वेबसाइट पर देखें। जानिए देश-विदेशी विवरण



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here