HomeIndia Newsगांधीजी ने लिखा था- योर रॉयल हाइनेस फेथफुल सर्वेंट: सावरकर विवाद में...

गांधीजी ने लिखा था- योर रॉयल हाइनेस फेथफुल सर्वेंट: सावरकर विवाद में फडणवीस के राहुल का जवाब

Date:

Related stories

टिकट मिलने वाले यात्री से रेलवे कर्मचारियों ने की ठगी: 500 रुपए के नोट को 20 रुपए से बदला; कार्रवाई करेंगे

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन; रेलवे कर्मचारी...

मुंबई4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

वीर सावरकर को सर्वेटेंट बताने वाले राहुल गांधी के बयान के बाद महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने सनसनी फैला दी है। अपने ट्वीटर हैंडल पर उन्होंने दो चिठठियां पोस्ट की हैं। उनका दावा है कि ये चिट्टिठयां महात्मा गांधी ने ब्रिटिश अधिकारी चेफोर्डम्स और ड्यूक ऑफ कनॉट ने अपनी अंतिम पंक्ति में लिखा है- योर रॉयल हाइनेस फेटफुल सर्वेंट एम के गांधी।

- Advertisement -

महाराष्ट्र के उप-भाग देवेंद्र फडणवीस ने महात्मा गांधी की दो चिट्ठी पोस्ट की है।

महाराष्ट्र के उप-भाग देवेंद्र फडणवीस ने महात्मा गांधी की दो चिट्ठी पोस्ट की है।

फडणवीस ने अपने पोस्ट में राहुल के लिए लिखा- कल आपने मुझे एक खत की आखिरी पंक्ति में पढ़ने को कहा था। अब, अब कुछ दस्तावेज़ आज मैं आपको रचनाएँ देता हूँ। हम सब के आदरणीय महात्मा गांधी जी का यह पत्र आपने पढ़ा? क्या वैसी ही अंतिम पंक्तियां इसमें मौजूद हैं, जो आप मुझे पढ़ना चाहते थे?

राहुल ने सावरकर की चिट्ठी लिखी हुई दिखाई दी थी

भारत जोड़ो यात्रा पर निकले राहुल गांधी ने एक बार फिर सावरकर निशान देखा है। राहुल ने गुरुवार को अकोला में मीडिया के सामने एक चिट्ठी दिखाई। उन्होंने बताया कि सावरकर ने ये चिट्ठी लिखने वालों को लिखी थी। वे स्वयं अंग्रेजों के सेवक बने रहने की बात कह रहे थे। साथ ही डरकर जोंग भी होता है। गांधी-नेहरू ने ऐसा नहीं किया, इसलिए वे सालों तक जेल में रहे।

सावरकर की चिट्ठी पर राहुल का पूरा बयान…
राहुल गांधी ने कहा, ‘ये देखिए मेरे लिए सबसे जरूरी दस्तावेज। ये सावरकर जी की चिट्ठी है। इसमें उन्होंने अंग्रेजों को लिखा है। मैं आपका सबसे ज्यादा कर्तव्यनिष्ठ सेवक रहना चाहता हूं। ये मैंने नहीं सावरकर जी ने लिखा है। फडणवीस जी देखना चाहते हैं तो देख लें। सावरकर जी ने अंग्रेजों की मदद की। सावरकर जी ने ये चिट्ठी साइन की।

गांधी, नेहरू और पटेल के साल जेल में रहे और कोई चिट्ठी नहीं साइन की। सावरकर जी ने इस कागज पर हस्ताक्षर किए, उनका कारण डर था। अगर कोई नहीं तो कभी साइन नहीं करते। सावरकर जी ने जब साइन किया तो हिंदुस्तान के गांधी, पटेल को धोखा दिया था। उन लोगों ने भी कहा कि गांधी और पटेल भी साइन कर दें।’

राहुल ने कहा- भारत में पिछले 8 साल से डर का माहौल, द्वेष और हिंसा फैलाई जा रही है।

राहुल ने कहा- भारत में पिछले 8 साल से डर का माहौल, द्वेष और हिंसा फैलाई जा रही है।

फडवणीस ने कहा था- नजरअंदाज करने वालों को उचित जवाब देंगे
राहुल के बयान आने के बाद देवेंद्र फडणवीस ने कहा था कि राहुल बड़े बेशर्मी से झूठ बोलते हैं। महाराष्ट्र के लोग सावरकर का अपमान करने वालों को उचित जवाब देंगे। राहुल गांधी वीर सावरकर के बारे में कुछ नहीं जानते और रोज झूठ बोलते हैं।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here