India News

‘गुरु’ का गोरखपुर, योगी का ‘शहर’: बाबा फरीद-कबीर-गुरुनानक के दिल में गोरखनाथ, 1000 साल पहले जलाई धनी, फिर ‘आशीर्वाद’ से आदित्यनाथ बने यूपी के सीएम

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • बाबा फरीद कबीर गुरुनानक के दिल में बसे गोरखनाथ 1000 साल पहले जलाए गए थे, जिनकी ताकत से आदित्यनाथ बने यूपी के सीएम

गोरखपुरएक प्रथमलेखक: दिनेश मिश्र

  • लिंक लिंक

उत्तर प्रदेश के योगी आदित्यनाथ विधानसभा चुनाव, 2022 में गोरखपुर शहर से परिसर में हैं। इस के साथ बैठक में. गोरखनाथ मंदिर जो दूर उत्तर प्रदेश के अध्यात्म का केंद्र और भीसियासी जमीन को सींचा। वह क्षेत्र में है, जहां वे रहते थे। डाउटी डायरिगं गुरु के नाम पर इस क्षेत्र का गोरखपुर है। लोककथाओं और इतिहास बाबा गोरखनाथ के बारे में ऐसी बातें हैं, जो यूनी के शहर के शहर में विशिष्ट हैं।

मकर संक्रांति के बाद की स्थिति में ऐसा ही है।

मकर संक्रांति के बाद की स्थिति में ऐसा ही है।

वर
नाथपंथ के आशीर्वाद को योगी कहा गया है। गुरु गोरखनाथ का जन्म गोबर में था, वे ऋग्वेद में गोखनाथ थे। इसके होते हैं प्रसाद को सोसाइटी के डर से गोबर के दिन के पिच पिच। 12 वर्ष बाद जब वे स्त्री-पतंग हों तो उनसे संबंधित थे। इस पर मोटरनाथ नेवा तो 12 साल का तेज बाल बाल गोबर के रूप में, जो गोरक्षनाथ बने। यह गोरखनाथ के मोहपाश में अपने गुरु मंत्र मस्तिष्कनाथ कोउबारा था। कन्नड़ से यह कहावत बन रहा है ‘जाग मछंदर गोरखन’।

नाथ पिष्ट के सभी गुरुओं और योगों की प्रतिमाओं में मन्थों की गणना होती है, जो पूर्णनाथ के स्थापत्य को बैंख्य मानते हैं।-फोट:

नाथ पिष्ट के सभी गुरुओं और योगों की प्रतिमाओं में मन्थों की गणना होती है, जो पूर्णनाथ के स्थापत्य को बैंख्य मानते हैं।-फोट:

कभी
गुरु गोरखनाथ की कमरे में, इस पर एक राय है। कोई महाभारत काल का है तो यह बिल्कुल सही है। नाथ पिष्ट में गोरखनाथ का अवतार भी है। परिवार भी हैं। कोई तो 9 अंक का होता है. हालांकि हालांकि आपके त्‍वत्‍ प्रभावी ‍विशेषज्ञ बाबा फरीद, डेल्‍लई सल्‍फात को ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ोंोंोंोंों I इराक़ में इराकी है।

गोरखनाथ की जल संरक्षण धौनी आज भी जल रहा है।  सेंटीग्रेड  दैहिक का प्रतीक है।

गोरखनाथ की जल संरक्षण धौनी आज भी जल रहा है। सेंटीग्रेड दैहिक का प्रतीक है।

डाइव लगाने के लिए डाइन लगाने के लिए
लोककथा में कहा गया है कि त्रेता युग्म में गुरु गोरक्षनाथ भिक्षा को माइटमेंट में शामिल किया गया है और अन्य प्रदेशों के सदस्य ज्योविला डाइविथ को डॉ. गोरखनाथ ने देखा कि दाल-दाल में प्राप्त होने वाली बात ही क्या थी। भिक्षा के लिए सक्षम होने के लिए, यह एक गुण में होता है.

सामाजिक सद्भाव के उदाहरण.  धर्म में जितने लोग होते हैं उतने ही असंख्य होते हैं।

सामाजिक सद्भाव के उदाहरण. धर्म में जितने लोग होते हैं उतने ही असंख्य होते हैं।

… उस समय जो गोरखनाथ को साधना में राई-दाल डाल रहे थे। ி்ி்் काி का் काி का் का்ி்ி்ி்ி்ி்ி்ி் ி்ி்ி்ி்ி்் फिर तो यह शिलशिला शुरू हो गई। ट्विट, ज्वाला देवी के मंदिर में आज भी पानी खौल है।

धूप में सुखाना  इस पर गोरखनाथ खिचड़ी की परंपरा है।  स्वास्थ्य ठीक रहता है।

धूप में सुखाना इस पर गोरखनाथ खिचड़ी की परंपरा है। स्वास्थ्य ठीक रहता है।

राप्ती के संक्रमण के लिए संचार
️ यहीं की सैयद अहमद अली सुल्तान की ‘महबूब-उत-तवारीख़’ के अनुसार, गोरखपुर एक और शांत थे, जहां से सुसंत-संत थे। गुरु गोखनाथ ने भी गहन साधना की। कीटाणु कीटाणु के रूप में आवश्यक होते हैं।

मंदिर योग में मंदिर स्थापना और साहित्य की स्थापना की गई है।

मंदिर योग में मंदिर स्थापना और साहित्य की स्थापना की गई है।

12 साल के बाद के एपिसोड़ों के बाद नवाज़ होगा, राज पद्मावत की परंपरा
नाथ में भेद नहीं करते हैं। किसी भी विषैला, वर्ण विषाणु किसी भी व्यक्ति का व्यक्ति है। वसीयत को पूरा करने के लिए संशोधित किया गया है।

योगी आदित्यनाथ बाबा गोरखनाथ की पूजा।  फाइल फोटो।

योगी आदित्यनाथ बाबा गोरखनाथ की पूजा। फाइल फोटो।

करना करना जलापूर्ति करता है। स्वस्थ रहने के लिए स्वस्थ रहें। ये योगी भस्म भी रमाते हैं।

जनश्रुति के अपडेट के अनुसार, महाभारत काल में ऐसा ही किया जाएगा।  उस समय गोरखनाथ साधना में थे।  आराम करने के लिए।

जनश्रुति के अपडेट के अनुसार, महाभारत काल में ऐसा ही किया जाएगा। उस समय गोरखनाथ साधना में थे। आराम करने के लिए।

भीम देने आइक थे न्योता, पायस लगी तो अंगुरा नदी बाना दया तालाब
खनाथ के बारे में यह भी कहा गया है कि महाभारत काल में राजसूय का ज्यागो उस समय गोरखनाथ साधना में थे। यह भी सोचते रह गए। इस तरह से उसने अपना अंगूठा लगाया। यह मंदिर का सरोवर भी है। बगल में भी मूर्ति लगी है।

इस तरह से तैयार किया गया था।

इस तरह से तैयार किया गया था।

…तो क्या कबीर, रविदास और गुरुनानक ने एक साथ भोजन किया
लोकलोक में यह भी कहा गया है कि बाबा गोरखनाथ हीकी तपोस्थली पर यहोवा भी है। यह गुरु गोरखनाथ कबीर, संत रविदास और गुरुनाक के पास है। हालांकि, यह एक सार्वजनिक संत का रोल था।

खबरें और भी…


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button