HomeIndia Newsचूल्हे की आंच उठाती है तो स्कील ब्लेड से काटनी चढ़ती है:...

चूल्हे की आंच उठाती है तो स्कील ब्लेड से काटनी चढ़ती है: लड़कों के साथ काम करती थी इसलिए पति ने तेजाब फेंक दिया; पिता ने घर बेचकर कराई 15 सर्जरी

Date:

Related stories

टिकट मिलने वाले यात्री से रेलवे कर्मचारियों ने की ठगी: 500 रुपए के नोट को 20 रुपए से बदला; कार्रवाई करेंगे

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन; रेलवे कर्मचारी...

3 मिनट पहलेलेखक: रक्षा सिंह

- Advertisement -

कांच का साँचा, बड़ी-बड़ी काली फ्लैशलाइट, सुंदर सी लंबा नज़ारा। पहली कुंती ऐसी ही दिखती थी। पर अब उसका चेहरा बहुत अलग हो गया है। चेहरे की खाल निकली हुई है। जगह-जगह दाग के निशान हैं। 17 साल की उम्र में कुंती के पति ने अपने चेहरे पर तेजाब डाल दिया।

- Advertisement -

- Advertisement -

आज यानी 25 नवंबर को संयुक्त राष्ट्र में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाया जा रहा है। इस दृश्य पर कुंती ने हिंसा और उसकी लड़ाई की कहानी पढ़ी। एसिड अटैक के बाद उसका चेहरा कैसे झुलसा, लोगों ने ताने सुनाए। पर वो हिम्मत नहीं हारी। आज वो सुपर स्टार है साथ ही बॉलीवुड फिल्मों में भी काम कर चुकी है।

15 साल की थी तो हो गई शादी, पति बेल्ट से किया था क्लोज

फोटो कुंती की शादी है।  15 साल की उम्र में उनकी शादी हो गई।  पति ने ही उस पर तेजाब फेंका था।

फोटो कुंती की शादी है। 15 साल की उम्र में उनकी शादी हो गई। पति ने ही उस पर तेजाब फेंका था।

कहानी शुरू होती है साल 2009 से। कुंती 15 साल की थी। गरीब परिवार था इसलिए कम उम्र में ही उसकी शादी कर दी। शादी के बाद उसका पति हर दिन शराब पीकर घर आता है। कुंती शराब पीने से मना करती है तो पति उस पर चिल्लाता है, उसे काम करता है।

एक रात कुंती ने शराब को लेकर कुछ बात कही तो अपने पति का खून खौल उठा। उसने अपनी बेल्ट निकाली और कुंती को पीटना शुरू कर दिया। वो चिल्लाती-चिल्लई पर पति ने उसकी एक ना सुनी। उस दिन से ये चिलचि हर रोज शुरू हो गया।

घर में चार पैसे कम इसलिए नौकरी करने लगे
कुंती इन सब से बंधी हुई थी। उसके मां-बाप बहुत गरीब थे। बहुत तकलीफों से उसकी शादी कराई गई थी इसलिए उसने मायके में कुछ नहीं बताया। उसने सोचा कि वो नौकरी करने लगेगी तो सब ठीक हो जाएगा। उसका पति इतना बदल जाता है।

वो ज्यादा पढ़ी-लिखी नहीं थी इसलिए पास की एक फैक्ट्री में छोटी सी नौकरी करने लगी। दिन भर की फैक्ट्री में अनुमान। लेकिन रात में अब भी हर रोज पति उसे पीटता है।

पति को हुआ शक कि मेरा अफेयर है
कुंती बताती हैं, “मैं जिस फैक्ट्री में जॉब करती हूं वहां लड़के भी काम करते थे। मेरे पति को शक हो सकता है कि मेरा कहीं अफेयर चल रहा है। वो हर रोज मुझे गालियां देता है। बात आगे ना पहुंची इसलिए मैंने अपने पति की नौकरी भी वहीं लगवा दी। पर उससे कोई फर्क नहीं पड़ा।”

“एक दिन मैं घर पर खाना बना रहा था। वो शराब पीकर आया। मेरे बाल पकड़े और घसीटकर जमीन पर पटक दिया। बेल्ट, ट्राइकर जो भी उसके हाथ में आकर मुझे पीटने लगा। इस बार मैंने मना नहीं किया और मैं घर छोड़कर अपनी मां-बाप के पास चला गया।”

चेहरे की खाल ऐसी टूट गई है जैसे चादर पर प्लास्टिक पिघलता है
शाम करीब 7 बजे। कुंती फैक्ट्री में थी। छुट्टी होने पर बाहर निकली तो पति के सामने खड़ा था। उसे देखकर वो खुश हो गया। लगा कि पति उसे मनाने आया है।

वो कहता है, “पति ने एक कोने में फोन किया। ऐसी ही बात शुरू की उसने जेब से एक खाई निकाली और मेरे सिर पर पानी जैसा कुछ डाल दिया। जब तक मैं समझती हूं मेरे चेहरे की खाल ऐसे झड़ जाती है जैसे पन्नी पर प्लास्टिक पिघलती है।”

पति ने सिर पर एसिड डाला जिससे कुंती का आधा चेहरा जल गया।  उसकी खाल उतरने लगी।

पति ने सिर पर एसिड डाला जिससे कुंती का आधा चेहरा जल गया। उसकी खाल उतरने लगी।

दोस्त ने रुमाल लगाया तो रुमाल और उसका हाथ जल गया
कुंती बताती है कि वह वक्त इतना बेताहाशा दर्द हो रहा था कि मैंने जमीन पर जाने दिया। मेरी एक दोस्त ने ये सब देखा। उसे लगा कि मेरे सिर पर किसी ने पत्थर से हमला किया है। उसने अपना रूमाल घुसे सिर पर रखा। कुछ ही सेकंड में उसका रुमाल और हाथ जल गया। तब हमें पता चला कि मेरे चेहरे पर तेज हो गया है।

आस-पास लोगों की भीड़ लग गई। कुछ लोग आप में फुसफुसाए, तो कुछ फोटो वीडियो मेकिंग करें। लेकिन किसी ने भी मेरी मदद नहीं की। मेरे दोस्त ने ही हिम्मत कर पुलिस को फोन किया।

पुलिस आई। मैंने बताई पूरी बात। मुझे और मेरे दोस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया। मेरे पति ने शराब पी रखी थी इसलिए वो ज्यादा दूर तक भाग नहीं पाया और पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

कुंती की आगे की कहानी भी हम सब्सक्राइब पर उससे पहले देश में एसिड अटैक के आंकड़ों से ये ग्राफिक प्रत्यय देते हैं।

पैसे नहीं थे, पिता ने घर बेचाकर मेरी सर्जरी की
लड़कियों का दर्द से तड़पती हुई कुंती को अस्पताल में दावा किया गया। अब तक उसका आधा चेहरा जल चुका था। वो ना ही कुछ बोल पा रहा था ना उसे कुछ दिखाई दे रहा था। एक महीने तक उसका इलाज चला। इलाज के बाद वो घर वापस आ गया तो सटीक गुमसुम रहता था। ना सोती, ना चौखट पीती, ना ही किसी से बात करती है।

उनका दर्द दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा था। डॉक्टर ने उसके पिता से कहा कि उसकी सर्जरी कर दी गई है नहीं तो वो कोमा में चली जाएगी। पिता डर गए। वे कई जगह से पैसे का अख्तियार करने की कोशिश के लिए ज्यादा पैसे का इस्तेमाल नहीं कर पाते। आखिर में उसके पिता ने अपना घर बेच दिया। उससे आई किसी से कुंती की सर्जरी हुई। हमले के बाद उसकी कुल 15 सर्जरी हो चुकी है।

जहां तेजाब ने वहां की स्किन टिप लगी
कुंती बताती हैं, “जब एसिड पड़ा तो शुरुआत में मेरी खाल बिल्कुल सफेद थी। देर के साथ वो काली चूक गए। जिस जगह तेजाब पड़ा वहां की खाल टपकने लगी।”

“कई बार मैं चूल्हे पर खाना बनाता हूं तो उसकी और से छटपटाहट शुरू हो जाती है। ब्लेड से बचा हुआ कवर। आज भी गर्मी में बहुत परेशानी होती है। ना मैं धूप में ज्यादा निकल पाती हूं ना गैस के पास जा पाती हूं।”

जब पहली बार शीशम देखा तो खुद ही डर गया
कुंती कहती है कि मैंने पहली बार उस पर हमला किया जब उसका चेहरा शीशे में देखा तो मैं डर गई। कई हफ्तों तक सीसा देखने की हिम्मत नहीं हुई। मैं घर पर रहने लगा। मेरा चेहरा देखकर इतना शर्म आती थी कि मैं खुद ही किसी के सामने नहीं आता।

मेरे पिता ये सब देखकर बहुत परेशान हो गए। उन्हें डर था कि मैं कोई गलत कदम ना उठाऊं। मैं दो बार सुसाइड की कोशिश में भी सफल नहीं हुआ। मुझे एक दिन पापा ने मुझे समझाया कि हिम्मत नहीं हारना चाहिए। घर से बाहर निकलना।

पापा ने कहा कि मैं अकेली ऐसी लड़की नहीं हूं। मेरे जैसी कई लड़कियां हैं जिनके साथ ऐसा हुआ है। अगर मैं बाहर निकलूंगा तो उन्हें भी निराशा होगी। मैंने पापा की बात देखी और लोगों से नाश्ता जुलना शुरू किया।

नौकरी के लिए तो मालिक बोला- लोग हैरान होकर भाग जाएंगे
कुंती बताते हैं, “मैंने ज्यादा पढ़ा-लिखा नहीं था। बात करने में ठीक थी इसलिए ऑफिस में होटलों में रिसेप्शनिस्ट की नौकरी के लिए आवेदन किया। जब मैं वहां के एक तरफ मिलने पहुंचा तो उन्होंने कहा कि रिसेप्शन पर सुंदर लड़कियों को नौकरी मिल गई है। अगर देखकर लोग भाग जाएंगे।” वो कहते हैं कि एक नहीं, हर जगह उन्हें ऐसा ही जवाब मिला। वो निराश हो गया। तब एक दोस्त ने उसे शीरोज हैंगऑउट के बारे में बताया।

आगे की कहानी से पहले बताएं कि हम जान लेते हैं कि शीरोज हैंगऑउट क्या है।

एसिड अटैक सर्वाइवर चलाती हैं शीरोज कैफे

पिक्चर शीरोज हैंगऑउट कैफे की है।  ये कैफे एसिड अटैक के शिकार हुए हैं।

पिक्चर शीरोज हैंगऑउट कैफे की है। ये कैफे एसिड अटैक के शिकार हुए हैं।

रेस्टोरेंट्स तो मैंने कई देखें। लेकिन शीरोज हैंगऑउट, एक ऐसा कैफे है जिसे वो लोग चलाते हैं जिन्हें एक समय में लोग देखना नहीं चाहते थे। लखनऊ, आगरा और नोएडा में मौजूद हैं ये कैफे एसिड अटैक पीड़ित भागते हैं। कैफे का नाम शीरोज शी और हीरोज से मिलकर बना है।

ये कैफे एसिड अटैक पीड़ितों का पुनर्वास, उनके इलाज से लेकर दुर्बलता के लिए काम करता है। साथ ही उन लड़कियों को नौकरी करने का मौका देता है क्योंकि कोई और उन्हें नौकरी नहीं देता।

ये तो थी शीरोज की बात। अब कुंती की कहानी पर लौटते हैं।

मुझे लगता है मैं सबसे सुंदर हूं
कुंती कहती है कि उसे कहीं नौकरी नहीं मिली और लोगों के ताने सुनने के बाद वो हिम्मत हार चुकी थी। लेकिन दोस्तों के बारे में बताएं कि जब वो शीरोज कैफे पहुंचता है तो वहां ऐसी ही कई लड़कियां मिलती हैं।

कुंती अपना चेहरा ढांककर वहां पहुंचा था। जिस पर वहां एक एसिड अटैक मौजूद है, सर्वाइवर ने कुंती से कहा है कि चांदा तो आधा चेहरा जला देता है तब भी सुलझता हुआ कटोरा क्षतिग्रस्त हो जाता है। मेरा तो पूरा चेहरा, आंखें सब खराब हो गईं फिर भी मैं चेहरा नहीं ढ़कती। ऐसा इसलिए क्योंकि चेहरा हमें नहीं, उन्हें रोकना चाहिए जिन्होंने हमारे साथ ऐसा किया है।

ये बात सुनकर कुंती के अंदर हिम्मत आ गई। अब वो भी अपना चेहरा नहीं ढ़कती। वो कहता है कि मैं नहीं बल्कि बहुत सुंदर हूं। अपनी खूबसूरती का एहसास मुझे यहां आया।

वर्कर के साथ फिल्म में भी काम किया है
अब कुंती शीरोज में काम करने के साथ कसरत भी करती हैं। वो कहता है कि अब लोग नहीं, पास आने के साथ में सेल्फी खिचवाते हैं। बातें करते हैं।

वो बताता है कि कार्यक्षेत्र बनाना उसे बहुत अच्छा लगता है। उसी के साथ उन्होंने दीपिका पादुकोण के साथ एसिड अटैक सर्वाइवर पर बनी उनकी फिल्म छपाक में भी काम किया है।

असली में एसिड अटैक के बाद होने वाला कानूनी दंड का ये ग्राफिक ग्रुप देख रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here