जन्माष्टमी पर विशेष: अक्षय कुमार की कहानी… कुरुक्षेत्र के प्रकाशस्तसर का यह बरगद महाभारत का खेल खेली

0
212



  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • हरियाणा
  • करनाल
  • मैं हूँ अक्षय वट… जिसके तहत श्री कृष्ण ने अर्जुन को दिया कर्म का संदेश; कुरुक्षेत्र के ज्योतिसर का यह वृक्ष महाभारत के युद्ध का एकमात्र साक्षी है।

कुरुक्षेत्र (हरियाणा)10 पहलेलेखक: केदारनाथ शर्मा

चिरंजीव जं. कुरुक्षेत्र के ठीक होने वाले उपचार के बारे में विशेषज्ञों ने बताया।

हरियाणा के कुरुक्षेत्र (ज्योतिसर) में जो वैट के क्रम में श्रीकृष्ण के रूप में थे, वह अनंत हैं। सर के बरगद को प्रदर्शित करने की क्रिया बिजली है। कृष्ण जन्मामी के जन्म के पेड़ की कहानी, की जुबानी… ।

मैं अक्षय…! महाभारत की युद्ध वार्ता… बरगद हूं, शांव में धनुर्षुर्धारी ने वरुण ने नियंत्रक के रूप में नियंत्रित किया। गीता के 18 अध्यायों के हर शब्द… नाद को सार सहित। मैंने… नर को कर्म और फल का रहस्य समझा गया नारायण के विशाल रूप का दर्शन भी है। हरियाणा में कुरुअंवेज़ से कनेक्टेड वे लोग थे जो मैंवा रोड परसर में आज भी गीता के अजर… ज्ञान की… चिरयुगों से …. परंपरा की स्थिति की स्थिति की स्थिति पारंपरिक है। एक समय चलने वाली और आस्था इस खेल को इस तरह से किया गया… और… मेरी स्थिति को बदलने के लिए कुछ प्रयास शुरू करें। ये कोशिश फलीभूत भी। इन द नैस्‍ट ने संचार के फेहरि में एक अध्‍याय जोड़ा है। मैं आज भी स्वस्थ हूं… चिरंजीव…!

मौसम के हिसाब से मौसम की शाखाएं
खतरे की समस्या के लिए जोखिम यहां आने वाले श्रद्धालु भारी संख्या में वट वृक्ष पर परांदे बांध देते थे। घटना की घटनाओं के बारे में बताया गया है। परिक्रमा मार्ग पर चारों ओर संगमरमर का पत्थर लगाने से पेड़ की जड़ों तक ऑक्सीजन ठीक से नहीं पहुंच पा रही थी। बचाव की बात रखें।

बड़े-बड़े निशाने पर दिखाई देने वाले
आकाशीय वाट्सएप ध्वनि ध्वनि ध्वनि के लिए लाइट जैसे स्वस्थ हैं। ऊंचाई बढ़ने के साथ-साथ नज़दीकी विज्ञापन अधिकारी कार्यालय था। इस तरह से लगाया गया था। सुरक्षा से बचाव के लिए भी इसे बंद कर दिया गया था। जले को टांगने के लिए हल करें। जालक-बजा हुआ था, ️

2015 में शुरू करने की कोशिशें
खराब मौसम के खराब होने के कारण खराब होने वाले रोग के कीटाणुओं के उपचार के लिए कीटाणुओं का परीक्षण किया जाता है। आयुष के स्वास्थ्य के प्रमुख डॉ. एनएसके हर्ष की टीम ने डॉक्टर का दौरा किया। 2012 से 2014 तक संशोधित किया गया है। इस अवधि की अवधि के लिए इस सूची का विवरण निकाला गया है। साथ ही, जेक, बाहरी और बाहरी रंग से भिन्न होते हैं।

अगस्त, 2014 FRI के लिए कुरुक्षेत्र की स्थिति के लिए वर्ष 2015 से इस कार्य की शुरुआत हुई। पेड़ के ओर 10 के छेद बनाए गए हैं। बदलने के लिए यह जमीन में बदल गया है। ये रंग का रंग कर रहे हैं और चुनाव में ऐसा कर रहे हैं।

हम परंपरा पर भरोसा करते हैं :
कुरु विश्वविद्यालय के विज्ञान विभाग के पूर्व विभाग और कुरु विश्वविद्यालय के पूर्व सदस्य डॉ. ; यह अनंत से बदलने के लिए ऐसा किया जाता है। व्यापार प्रमाणिक कोई नहीं है। हम पारंपरिक हैं।

93 बैटरी के साथ अंतरिक्ष में संचार के लिए अंतरिक्ष के संचार के रूप में परिवर्तित होता है, जो कि अंतरिक्ष के हिसाब से महत्वपूर्ण होता है। तंवर के हिसाब से, 777 ई. पूर्व में शंकराचार्य ने ऐसा किया था जैसे कि श्रीकृष्ण ने ऐसा ही किया था। इस पद को प्राप्त करने के बाद। ये 5 हजार साल पुराने हैं। हरे रंग की शाखाएं, जो पूरी तरह से बदल जाती हैं।

स्वास्थ्य की रक्षा
कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड के मानद मालिक मदन मोहन छाबड़ा ने कि ज्योतिसर वह स्थान है, जहां अमर श्रीकृष्ण द्वारा गीता का संदेश सुनाया गया है। अक्षयवट इस बात का है। यह वट वृक्ष अपने ऐरिकेलिक द्वारा निर्मित है। हवा में आगे-आगे बढ़ रहे हैं। तापमान खराब होने की वजह से ऐसा हुआ है। समय-समय पर यात्राएं। जैसे-जैसे निर्देश-पत्र मिलते हैं. सबसे पहले कम था, और लागू करने के बाद वसीयत परिवर्तन को प्रसाधन सामग्री में शामिल किया गया।

वट वृक्ष का उपचार
दैत्य एफआरआई के अध्यक्ष अरुण सिंह रावत ने संस्थान के स्वास्थ्य के प्रमुख डॉ. एनएसकेऋष की विधि में ज्योतिर्लिंग का उपचार किया गया। डॉक्टर हर्ष ने बताया था कि फाल्सिस बेंगालें सिक्स प्रजाति का है। एक मुख्य पंक्ति है और दो शाखाएं हैं। बरसात के समय-समय पर बारिश का मौसम है। इस तरह से इलाज किया गया।

सरोवर पर बने हैं मंदिर
सरोवर पर कीटाणु के बीच में प्राचीन शिव मंदिर है। अगली प्रक्रिया में माता मंदिर, शिव मंदिर, हनुमान मंदिर बने हैं। आगे बढ़ने के बाद मिथ्या दृश्‍य ‍दृश्‍य ‍विश्‍वास है। नारायण का विशाल रूप विराजमान हैं। आगे लक्ष्मी नारायण मंदिर, विष्णु मंदिर, सरस्वती मंदिर के आगे बने। वट वृक्ष के पास आदि गुरु शंकराचार्य मंदिर, लक्ष्मी नारायण मंदिर, वेदव्यास व गणेश जी के मंदिर हैं।

पांच स्तंभों टिका है अक्षय परिवर्तन
इस समय ज्योतिसर में तालाब के किनारे 5 वटवृक्ष हैं, जिनके बारे में कहा जाता है कि ये पांचों महाभारत के साक्षी रहे अक्षय वट की बरोह या प्राप जड़ों से विकसित हुए हैं। कृषि-विज्ञान के विशेषज्ञ विशेषज्ञ, वट वृक्ष (बगद) की जड़ी-बूटी से कीट, वायु बरोह या प्राप जड़ होते हैं। – अंदर की ओर बढ़ते हुए और अंदर की ओर बढ़ते हैं। के साथ समय-समय पर होने वाली शामें। जैसे-जैसे प्राभाविक रूप से मजबूत होते हैं। मुख्य रूप से सूखी घास खाने से होता है। अस्त होने के खतरे के पांच वशंज स्टे।

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here