HomeIndia Newsजेल में ही रहेंगे नेता सत्येंद्र जैन: मनी लॉन्ड्रिंग केस में सीबीआई...

जेल में ही रहेंगे नेता सत्येंद्र जैन: मनी लॉन्ड्रिंग केस में सीबीआई कोर्ट ने नहीं दी जमानत, याचिका खारिज

Date:

Related stories

4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

आम आदमी पार्टी के नेता सत्येंद्र जैन को सीबीआई कोर्ट ने फिर झटका लगा है। गुरुवार को कोर्ट ने सत्येंद्र जैन और दो अन्य को मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में जमानत देने से इनकार कर दिया। इसके एक दिन पहले दिल्ली के राउज एवेन्यू कोर्ट के विशेष जज विकास ढुल ने फैसला सुरक्षित रखा था। कोर्ट ने मेन केस में सुनवाई के लिए अगली तारीख 29 नवंबर तय की है।

- Advertisement -

ऐतिहासिक जेल में बंद हैं सत्येंद्र जैन
प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सत्येंद्र जैन को 30 मई को मनीड्रिंग केस (पीएमएलए) के निवारण के मामले में गिरफ्तार किया था। इसके बाद से सत्येंद्र जैन ऐतिहासिक जेल में बंद हैं। ईडी के अनुसार, सत्येंद्र जैन मनी लॉन्ड्रिंग के लिए इस्तेमाल करने वाले 4 शेल ऑब्जर्वेट्स के वास्तविक नियंत्रण में थे, और सह-आरोपी काउंट्स जैन और वैभव जैन सिर्फ डमी थे।

दूसरी ओर, सत्येंद्र जैन के वकील ने तर्क दिया कि उनकी भूमिका पीएमएलए के दायरे में नहीं आती है। जीन से संबंधित जांच पूरी तरह से बंद हो चुकी है और दायर किया गया आरोप पत्र विफल हो गया है। जैन के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का कोई मामला नहीं बनता है। वकील ने कहा कि यह आरोप लगाया गया है कि 2010 में मनी लॉन्ड्रिंग का षड्यंत्र रचा गया था। उस समय न तो जैन विधायक थे और न ही मंत्री। ऐसे में वह मनी लॉन्ड्रिंग की साजिश कैसे रच सकते हैं?

जैन ने अदालत से उन्हें जमानत देने का अनुरोध करते हुए कहा था कि उनका और हिरासत में रखने का कोई उद्देश्य पूरा नहीं होगा। इससे पहले सीबीआई ने सत्येंद्र जैन, उनकी पत्नी और अन्य पर भ्रष्टाचार निरोधक कानून के तहत आरोप लगाया था।

2.85 करोड़ नकद, 133 सोने के सिक्के मिले
31 मार्च को ईडी ने अस्थायी रूप से मंत्री के स्वामित्व और नियंत्रण प्राधिकरण से संबंधित 4.81 करोड़ रुपए की संपत्ति सीज कर दी थी। 6 जून को, जांच एजेंसी ने सत्येंद्र जैन, उनकी पत्नी और सहयोगियों से जुड़े कई मामले सामने आए। वे या तो प्रत्यक्ष या संबंध से उनकी सहायता की या मनीड्रिंग की धाराओं में भाग लिया था। पकड़ के दौरान 2.85 करोड़ रुपए नकद और 1.80 किलोग्राम वजन के 133 सोने के सिक्के बरामद किए गए।

संग्रह जाने का दावा किया गया था
जैन पर आरोप है कि उन्होंने दिल्ली में कई शेल कंपनियों को लॉन्च किया या उधार लिया था। उन्होंने कोलकाता के तीन खुलासे की खोली के माध्यम से 16.39 करोड़ रुपये का काला धन भी सफेद किया था। जैन के पास प्रयास, इंडो और अकिंचन नाम की आज्ञा के शेयर बड़ी संख्या में थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 2015 में अजहर सरकार में मंत्री बनने के बाद जैन के सभी शेयर उनकी पत्नी के नाम कर दिए गए थे। गिरफ्तारी के बाद जब ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग के दस्तावेज दिखाकर जैन से सवाल पूछा तो उन्होंने कोरोना के कारण एकत्रित होने का दावा कर दिया था।

इतिहास और सत्येन्द्र जैन से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें…

तिहाड़ जेल के अधीक्षक निलंबित, केजरीवाल के मंत्री सत्येंद्र जैन को वीआईपी पद देने का आरोप

तिहाड़ जेल के बैरक नंबर 7 के अधीक्षक अजीत कुमार को निलंबित कर दिया गया है। कुमार पर आम आदमी पार्टी सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन को वीआइपी नियुक्त करने और जेल में बंद सुतुगकेश चंद्रशेखर को धमकी देने के आरोप में कुमार पर यह कार्रवाई की गई है। पूरी खबर यहां पढ़ें…

इतिहास में ऐश की जिंदगी जी रहे हैं सत्येंद्र जैन, ईडी ने कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया है

दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन ऐतिहासिक जेल में मजे की जिंदगी जी रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ईडी ने कोर्ट में एक हलफनामा और कुछ तस्वीरें देकर इसकी शिकायत की है। ईडी ने कहा कि सत्येंद्र जैन को ऐतिहासिक जेल में कई तरह की सुविधाएं मिल रही हैं। जेल की सीसीटीवी फुटेज में वे बैक और वर्किंग दिखने लगे हैं। पूरी खबर पढ़ें…

ठग सुकेश का दावा-आप को 50 करोड़ दिए, मंत्री सत्येंद्र जैन ने 10 करोड़ की गारंटी मनी हड़प ली

जेल में बंद ठग सुकेश चंद्रशेखर ने दिल्ली के लेफ्टिनेंट गवर्नर वीके सक्सेना को चिट्ठी लिखते हुए आम आदमी पार्टी सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन को लेकर बड़ा दावा किया है। सुकेश ने कहा कि जेल में सुरक्षा और सहूलियत के नाम पर जैन ने 10 करोड़ रुपए लगाए थे। ये रकम उनके एक करीबी के जरिए ली गई थी। सुकेश ने दावा किया कि उसने आप को भी 50 करोड़ रुपए दिए थे और बदले में पार्टी ने दक्षिण भारत में जिम्मेदारी सौंपने का वादा किया था। पढ़ें पूरी खबर…

जेल से सुकेश का आरोप- चार्जर महाठग:कहा- राज्यसभा सीट के बदले मुझसे 50 करोड़ के लिए

मनी लॉन्ड्रिंग केस में दिल्ली की मंडोली जेल में बंद ठग सुकेश चंद्रशेखर ने मीडिया के नाम एक चिट्ठी लिखी है। इसमें अरबी में गंभीर आरोप हैं। 3 वैज्ञानिक चिट्ठी में सुकेश ने लिखा है- मैं अगर टैग हूं तो स्मार्टफोन महाठग हैं। उन्होंने सीट के बदले औसतन 50 करोड़ रुपए मांगे थे, जो मैंने दिए। पढ़ें पूरी खबर…

दिल्ली की रोहिणी जेल के 82 अफसरों पर हुई थी एफआईआर, ठग सुकेश से हर महीने डेढ़ करोड़ रिश्वत लेते थे

दिल्ली की रोहिणी जेल में बंद रहने के समय सुकेश अलग बैरक और मोबाइल फोन इस्तेमाल करने के लिए अफसरों को हर महीने 1.5 करोड़ रुपये की रिश्वत देता था। इस मामले में आर्थिक अपराध शाखा (EWO) ने जेल के 82 अधिकारियों-कर्मचारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। पूरी खबर पढ़ें…

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here