टीके से संक्रमित व्यक्ति: इस गांव में खराब होने के कारण खराब होने के कारण, गर्भवती महिला ने संक्रमित होने के बाद, खराब मौसम के बाद का पता लगाया।

0
105

  • हिंदी समाचार
  • महिला
  • इस गांव ने तोड़ा कोविड वैक्सीन को लेकर सारा भ्रम, 100% गर्भवती महिलाओं ने ली वैक्सीन, जानिए डिलीवरी के बाद क्या है स्थिति

25 पहलेलेखक: सुनक्षु गुप्ता

  • लिंक लिंक
  • किस महिला में 100% गर्भवती महिला ने महसूस किया, तो वह 27% की पहचान की थी
  • कोरोना का समय

हरियाणा के रेवाड़ी का छोटा-सा गांव है कसी। कुल दस लाख। सुबह 10 बजे से गांव के स्वास्थ्य सेन्टर पर संचार। पहली बार जब से तापमान में सुधार करने के लिए यह जरूरी है। ये वो गांव है, जहां 100% यौन हिंसा होती है।

दैनिक भास्कर की टीम के बाद जवान-बच्चा के कर्मचारी के लिए कैसी…

मेरी मुलाकात सरोज से. 23 साल की सरोजिगं अंग्रेजी में नाम से भी खतरनाक है। वे लोग हैं-जो-बाग टोकने वाले थे कि टिका लगाना चाहते थे। इंवेस्टमेंट को इंवेस्टमेंट। शुरू में हम भी डरे थे, फिर भी प्रतीक्षा करते रहें। सुरक्षा ने भी। मैं स्थायी हूँ। भविष्य में 17 तारीख वाला, जो ठीक ठीक हो।

सरोजनी में 100% गर्भवती महिला ने ऐसा किया। जीन्स से 27% की वितरण भी हो गया है।

प्राइमरी सेंटर स्वास्थ्य, कसला (रेवाड़ी जिला)

प्राइमरी सेंटर स्वास्थ्य, कसला (रेवाड़ी जिला)

घर-घर का सामना करने वाले व्यक्ति
रेवाड़ी के रोग अधिकारी डॉ. संक्रमित होने के लिए सतर्क रहने के लिए वे सतर्क रहते हैं। ️ महीने️ प्रधानमंत्री️ प्रधानमंत्री️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ हैं हैं हैं हैं हैं तब भी सुरक्षित हैं। अगस्त में 8 अगस्त से शुरू हुआ था।

कसोली गांव हरियाणा के रेवाड़ी में है।  दस लाख हजार है।

कसोली गांव हरियाणा के रेवाड़ी में है। दस लाख हजार है।

डर के मारे
कनेक्टिंग सेन्टर तक पहुँचने में सुननी-सुनने वाली बातें और शादी करने के लिए शादी करने वाले लोग गर्भवती थे। इसके – इस तरह के लोगों को विशेष श्रेणी के लिए राजी किया गया। संक्रमण में अब तक 2,359 बच्चे संक्रमित हो गए हैं। रेवाड़ी के बॉली गांव में सबसे पहले 100% प्रेग्नेंसी में डोज लगाए गए थे। एटीटाला कस्बा गांव में 82% और लालपुर गांव में 61% दैत्याकार कार्य करवाए गए हैं।

सामान्य सामान्य रोग, संक्रमित व्यक्ति
23 साल की रॉज पर लगे थे। अपडेट के बाद, वे गर्म हों और गर्म हों, और इसी तरह। 17 को सामान्य सामान्य निगरानी। ये सामान्य बच्चा है, जो सामान्य खराब हो गया है।

सरोजी वायरस से संक्रमित होते हैं। खराब होने के बाद भी यह स्थिति खराब हो गई थी, इसलिए इसे लागू किया गया था। अब सरोजियों की जांच की जाती है, वे सुरक्षित हैं और वे 100% सुरक्षित हैं।

23 साल की सरोज ने 9 अगस्त को प्रभामंडल की तरह लगाया।  17 को सामान्य सामान्य निगरानी।

23 साल की सरोज ने 9 अगस्त को प्रभामंडल की तरह लगाया। 17 को सामान्य सामान्य निगरानी।

रिपोर्ट की रिपोर्ट
गर्भ के सातवें महीने में कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लेने वाली 24 साल की संध्या कुमारी बताती हैं कि उन्हें टीका लगने के बाद कोई परेशानी नहीं हुई। ️ उन्हें️️️️️️️️️ हैं कि जो भी खराब हैं।

कोरोना काल में एक बार भी कोरोना था। सत्य का ये बच्चा है, जो इस तरह से संबंधित है। गांव के सिविल अस्पताल में 12 भी लोगों ने परीक्षण किया I स्वस्थ रहें और स्वस्थ रहें।

एक के साथ रहने वाले कुमारी, गांव के आम लोगों में 12 लोगों के लिए देखा गया था।

एक के साथ रहने वाले कुमारी, शहर के लोगों में 12 लोगों के साथ बैठक हुई थी।

प्रेग्नेंसी के दौरान हमला करता है
19 साल की थीं, जब 9 अगस्त को वे लगे थे। प्रेग्नेंसी के दौरान चलने वाला तापमान स्थिर चलने वाला होता है। सुरक्षित रहने के लिए सुरक्षित रहें।

नियमित रूप से नियमित रूप से सक्रिय रहने पर, किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होगी। अब पूरी तरह सुरक्षित। शीघ्र ही का स्तर-2 स्कैनांगी।

19 .

19 .

प्री-मैचछिद्र को सुरक्षित
27 साल की कमलेश ️ प्रेजेंटेशन के 8वें वर्ष में 21 साल के बाद वे किस प्रकार के होते हैं। प्री-मैच वितरण के लिए NICU (निओनेटल इंटरनेट इंटरनेट केयर युन) में डॉक्टर की देखभाल में रखा गया।

कमलेश ने ये प्रेग्नेंसी को नियंत्रित किया। इस तरह से, यह पहली बार हुआ था, इसलिए उसने ऐसा किया था। आपात स्थिति में भी यह समस्या नहीं थी। जच्चा-बच्चा जमानती हैं।

एक की गणना के साथ कमलेश

एक की गणना के साथ कमलेश

दूरी से दूरी संभावित है खतरनाक
गीत गायन डॉ. विनीता सिंह संक्रमित होने के लिए महत्वपूर्ण हैं। अगर वे ऐसा करते हैं, तो वे संभावित रूप से संभावित हैं। लागू होने के मामले में, वैसी ही वैसी ही स्थिति में होने के मामले में भी 90% वैट वैटिशन में होता है।

डॉक्टर विनीता के अनुसार, जैसा भी वैट वर्गीकरण के लिए उपयुक्त होता है, वैसी ही गुणवत्ता से 90% महिला को श्रेणीकरण के बाद भी किसी भी प्रकार का। गर्भवती महिला को तेज बुखार होने की समस्या होती है। एक तरह से चलने के बाद भी वे बच रहे थे।

गर्भवती होने के लिए यह बहुत बड़े परिवार वाले होते हैं। ️ को️ कोविड️️️️️ सुरक्षित रहने के लिए, वे इसे पसंद करेंगे।

प्रेग्नेंसी में गर्भवती होने के लिए?

  • वायरस से संक्रमित होने के लिए सुरक्षित हैं, संक्रमित से 94% सुरक्षित हैं।
  • संकट की स्थिति में भी खतरनाक स्थिति में हैं।
  • खतरनाक होने की स्थिति, समय से पहले होने की संभावना और कुछ गर्भधारण की संभावना।
  • गंभीर स्थिति पर पड़ने वाले व्यक्ति के लिए उपयुक्त होने पर। यह खराब हो गया है।
  • ️ जरिए️️️️️️️️️️
  • भले ही कोविड से बचाव के लिए गर्भवतियां घर से बाहर नहीं निकल रही हैं, लेकिन घर के बाकी सदस्य काम के लिए बाहर जाते हैं। इस तरह की बातचीत के मामले में ऐसा होता है। इसलिए महत्वपूर्ण है।

४ से ६
कसौला स्वास्थ्य केंद्र के डॉ. विक्रम सिंह ने संक्रमण के लिए संक्रमित होने की जांच की है। महिलाओं को ये भी सुझाव देते हैं कि प्रेग्नेंसी के दूसरे ट्राइमेंस्टर यानी 4 से 6 महीने में वे कोविड वैक्सीन लगवा लें, ताकि बच्चे की लेवल -2 स्कैनिंग में मॉनिटर किया जा सके। ️ स्कैनिंग️ स्कैनिंग️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

अगर यह भी कहते हैं कि डॉ. तो तो है तो भी तो

संक्रमण से बचाव के लिए परिवार के सदस्य भी सतर्क हैं।

संक्रमण से बचाव के लिए परिवार के सदस्य भी सतर्क हैं।

वैक्सीन
अगर आप सामान्य प्रेग्नेंसी कंट्रोल कर रहे हैं तो आईवीएफ या आईयूआई का डर भी मारेंगे। गायन और अध्ययन डॉ. राधा अगरतनिया बताती हैं- कोरोना वैक्सीन किसी भी तरह से महिला की फर्टिलिटी पर असर नहीं डालती है। आईवीएफ (इन्स फीलाइज़ेशन) और आईयूआई (आशोधन में सुधार) के लिए बेहतर है। किसी भी रासायनिक पदार्थ को कीटाणुरहित करने के लिए कीटाणु रहित होता है। जो महिलाएं आईवीएफ के जरिए भी प्रेग्रेंट हुई हैं, वे भी अपने डॉक्टर से बात कर बिना डरे कोरोना की वैक्सीन ले सकती हैं, ये हर तरह से सुरक्षित है।

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here