HomeSports Newsटी-20 और ODI सक्रिप्शन के लिए अलग-अलग टीमें होंगी, द्रविड़ का वर्कलोड...

टी-20 और ODI सक्रिप्शन के लिए अलग-अलग टीमें होंगी, द्रविड़ का वर्कलोड कम होगा एमएस धोनी बीसीसीआई | क्रिकेट के निदेशक के रूप में नियुक्त किया जा सकता है

Date:

Related stories

फिर जहरीली हुई दिल्ली की हवा: रविवार को AQI 400 के पार रहा, कंस्ट्रक्शन पर बैन

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली AQI 400, वायु गुणवत्ता खराब होने पर...

स्पोर्ट्स डेस्क4 पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

2007 में टीम इंडिया एकमात्र टी-20 वर्ल्ड कप जिताने वाले सभी सिंह धोनी को बीसीसीआई की बड़ी जिम्मेदारी सौंप सकते हैं। माना जा रहा है कि धोनी को लिमिटेड ओवर (टी-20 और ऑस्ट्रेलिया) के लिए कोच या डायरेक्टर बनाया जा सकता है।

- Advertisement -

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक- बीसीसीआई इंग्लैंड का फॉर्मूला लिमिटेड ओवर और टेस्ट की अलग-अलग टीम बनाने पर विचार कर रहा है। इतना ही नहीं, इन टीमों के लिए अलग-अलग कोचिंग स्टाफ पर भी ध्यान दिया जा सकता है।

ये विचार

आयुष, वैट -20 दुनिया के लिए वैट वैट ने टी-20, वैट और टेस्ट के लिए अलग-अलग-विभिन्न और कोच अफ़ैटे हैं हैं। जोस बैटर टी-20, पूरी तरह से। आदर्श मो कोच हैं। टेस्ट टेस्ट टेस्ट टीम के उत्पाद और कोच कोच कोच होते हैं।

द क्लौक्स की एक रिपोर्ट के अनुसार- BCCI को कुछ खास और इन कोच में ही, राहुल द्रविड़ हैं। विस्तार, बढ़ रहा है। .

बोर्ड द्रविड़ पर वर्कलोड कम करने के लिए कोचिंग रोल शेयर करने पर विचार कर रहा है। माना जा रहा है कि टी-20 में धोनी को शामिल करने पर विचार किया जा रहा है। इसी टीम इंडिया के इस विवरण में मानक को ऊंचा किया जा सकता है। इस महीने के अंतिम में बोर्ड की एपेक्स काउंसिल की स्थापना होगी और इसमें धोनी के मुद्दों पर चर्चा हो सकती है। इसके पहले धोनी से बातचीत की जाएगी।

1983 के बाद हुआ था दुनिया कप

टीम इंडिया ने 1983 में कम्पाइल पाउडर की तरह पूरी दुनिया में बनाया था। पूरी तरह से पूरा 2011 में। पहले टी-20 विश्व कप में पहली बार यह पूरी तरह से तैयार था। 15 अगस्त, 2020 को टी-20 सेक्‍स था। 30 दिसंबर 2014 को आखिरी बार टेस्ट खेल खेला गया था।

2023 में ऑस्ट्रेलिया वर्ल्ड कप और 2024 टी-20 वर्ल्ड कप
2023 में भारत में खेल खेल. इसके बाद 2024 में टी-20 विश्व में अभ्यास और अभ्यास होने लगा। ऐसे में जीत के लिए 1 साल टी-20 वर्ल्ड कप के लिए 2 साल के लिए जीतें। टीम के समान है कि इस दुनिया के लिए आधुनिक मौसम से तैयार टीम। तैयार करने के लिए तैयार हैं।

लिमिटेड ओवर और टेस्ट की अलग-अलग टीम पर जोर दे रहे कुंबले हैं
पूर्व भारतीय कोच अनिल कुंबले भी अलग-अलग टीमों के फेवर में हैं। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था- अब समय आ गया है कि भारत में भी टेस्ट और लिमिटेड ओवर की टीमें पूरी तरह से अलग-अलग होंगी। टी-20 में टी-20 विशेषज्ञ हों और आपकी टीम में ज्यादा से ज्यादा ऑलराउंडर हों।

कुंबले ने कहा था- टी -20 वर्ल्ड कपल बार की विजयी और बार की बार की शक्ति को टीम को खिलाने के लिए पूरी तरह से पूरा किया गया था। टीम में 7 वें स्थान पर बैठने की स्थिति में ऐसी स्थिति होती है जब वे खराब होते हैं।

आगे बढ़ने के लिए यह कहा गया है- I यह किस प्रकार के मौसम में बदलते हैं और जिस तरह से व्यवस्थित होते हैं वे किस प्रकार के होते हैं।

टीम इंडिया में कई कमियां नजर आईं

टी-20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया में कई खामियां नजर आईं। टीम के पास जहां ऑलराउंडर्स की कमी थी, वहीं हमारी ओपनिंग मैनजर काफी कमजोर दिख रही थी। खिताब जीतने वाले इंग्लैंड के पास आखिरी तक बल्लेबाजी करने वाले खिलाड़ी थे। पूरी खबर के लिए क्लिक करें।

अब विविधता भारत की टी-20 टीम… मैं

मैंइंग्लैंड से सेमीफाइनल में हारने के बाद इंडिया का टी-20 स्क्वॉड में बदलाव होगा। वरिष्ठ खिलाड़ी टी-20 टीम से बाहर हो सकते हैं। बीसीसीआई के असॉरे ने कहा- अगले एक साल में टी-20 टीम में काफी बदलाव देखने को मिलेगा। रोहित शर्मा विराट कोहली, दिनेश कार्तिक और आर अश्विन जैसे खिलाड़ी धीरे-धीरे बाहर हो जाएंगे।​​​​​​​ पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें।
​​

खबरें और भी…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here