HomeIndia Newsठंड और स्मॉग से फिर खराब हुई राजधानी की हवा: पराली की...

ठंड और स्मॉग से फिर खराब हुई राजधानी की हवा: पराली की घटनाओं में आई कमी, फिर भी बढ़ रहा प्रदूषण

Date:

Related stories

नई दिल्ली2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

दिल्ली में ठंड और स्मॉग की वजह से हवा खराब हो रही है। पराली की घटनाओं में कमी आई है, फिर भी पॉल्यूशन कम नहीं हो रहा है। सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिलोइट (सफर) के मुताबिक, रविवार को यहां खराब एयर क्वालिटी देखने को मिली। सुबह करीब सात बजे एक्यूआई 297 दर्ज किया गया।

- Advertisement -

यहां शनिवार को सीजन का सबसे कम तापमान दर्ज किया गया था। मौसम विभाग के अनुसार शहर में न्यूनतम तापमान 9 डिग्री रहा, जो सामान्य से बहुत कम था। इसकी पहली राजधानी में 23 नवंबर 2020 को 6.2 डिग्री तापमान दर्ज किया गया था। उसके बाद से ये पहला मौका है कि यहां सबसे कम तापमान है।

14 क्षेत्रीय में सबसे खराब स्थिति
राजधानी के 14 क्षेत्रों में सबसे खराब हवा दर्ज की गई है। बिहार में सबसे ज्यादा खराब स्थिति है। यहां एक्यूआई 378 दर्ज किया गया। इसके अलावा अलीपुर में 312, शादीपुर में 304, द्वारका में 320, आईटीओ में 318, अशोक नगर में 306, पटपड़गंज में 314, सोनिया विहार में 321, जहांगीरपुरी में 326, रोहिणी में 311, विवेक विहार में 316, बवाना में 313, मुंडका में 308, बुरी में 314 है। एक्यूआई 301 से 400 तक को बहुत खराब माना जाता है। अंतर्क्षेत्रों में लोगों को सांस लेने में भी मुश्किल हो रही है।

पराली और प्रदूषण के कारण हो रही वायु गुणवत्ता खराब
पकड़ से हो रहे प्रदूषण की वजह से भी हवा पर भारी प्रभाव पड़ रहा है। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (आईएआरआई) के मुताबिक, पंजाब में शुक्रवार को 701 के प्रचार पर शनिवार को 426 पराली रोशनी की जानकारी सामने आई है। वहीं कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्ली के PM2.5 प्रदूषण में पराली का हिस्सा शुक्रवार को 11% से बढ़ा शनिवार को 14% दर्ज हुआ।

दिल्ली में जीवन का हिस्सा बन गया समग्र
राजधानी के लोगों का कहना है कि संपूर्ण जीवन का हिस्सा बन गया है। अक्टूबर और नवंबर में दिल्ली और एनसीआर में इसकी वजह से बहुत खराब हालात हैं। इन दो महीनों में हम दुर्घटना से बचते हैं। वहीं कुछ लोगों का कहना है कि निर्माण, धूल, पराली रोशनी और कई अन्य कारणों से प्रदूषण बहुत अधिक बढ़ गया है।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here