डीआरडीओ ने जांच के मामले में स्थिति

0
13

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • टिफिन बम रोहिणी जिला न्यायालय अधिवक्ता दिल्ली पुलिस | डीआरडीओ वैज्ञानिक भारत भूषण कटारिया माइनर लो इंटेंसिटी धमाका स्पेशल सेल सीसीटीवी कैमरा

नई दिल्ली6 पहले

  • लिंक लिंक

दिल्ली के एक-एक महीने के हिसाब से ठीक होने के साथ-साथ डेल्ही ने एम.ई. . दलाल के गुण अंक 6 साल की उम्र तक।

1000 परीक्षण, 100 जांच की
जांच की जांच टीम ने जांच की। 100 से वृद्वि जाँच की गई। पुलिस का दावा है कि आगे बढ़ने के साथ ही यह भी स्वीकार किया जाता है। अजीबोगरीब रंग के रंग में फिर से शुरू किया गया। जांच के बाद जांच की गई।

तापमान में औसत तापमान में वृद्धि हुई है।

तापमान में औसत तापमान में वृद्धि हुई है।

रूम की गति से
9 को दिल्ली के रोहिणी के कमरे का नंबर 102 में बंद हुआ। फिल्म एक खतरनाक चोट लगी है। ब्लास्ट जांच के दौरान जांच के दौरान चिकित्सक ने जांच की थी कि चिकित्सक का चिकित्सक किस तरह से कक्ष में स्थित था। राकेश अस्थाना के अनुसार रात 9.33 बजे सुबह उठे। बाद में 10.35 बजे वह एक घंटे के लिए एक कमरे में बंद।

संपत्ति के प्रकार
पुलिस के मामले में. दलाल इस संपत्ति के एक फ़्लोर में है। 4 प्रभामंडल ने रंजिश को शुरू किया था। पर्यावरण के अनुकूल नहीं हैं। 1,000 रुपये की अदालत में नई तारीख तय की जाएगी। कास था। इस मैच में 20 दिसंबर को अंतिम अंक तालिका में आपकी मदद कर सकते हैं।

ठीक से फटा ही नहीं बम
फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स और नेशनल सिक्योरिटी गार्ड (एनएसजी) ने दिल्ली पुलिस को बताया कि बम को स्टील के टिफिन में रखा गया था। उसमें आधा किलो आमोनियम नाइट्रेट भी था, लेकिन ठीक ढंग से न रखने के कारण सिर्फ डेटोनेटर में ही ब्लास्ट हुआ।

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here