HomeWorld Newsड्रैगन ने 21 देशों के 25 शहरों को गलत थाने में रखा,...

ड्रैगन ने 21 देशों के 25 शहरों को गलत थाने में रखा, यहाँ अपने नागरिकों को सताना दुनिया भर में चीनी पुलिस थानों की संख्या में वृद्धि एक गंभीर चिंता का विषय है

Date:

Related stories

टिकट मिलने वाले यात्री से रेलवे कर्मचारियों ने की ठगी: 500 रुपए के नोट को 20 रुपए से बदला; कार्रवाई करेंगे

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन; रेलवे कर्मचारी...

वजह से रुका है शोएब-सानिया का तलाक!: द मिर्जा मलिक शो पूरा होने के बाद ही कर सकते हैं

8 मिनट पहलेपाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक और सानिया मिर्जा...

टोरंटो (कनाडा)3 पहले

  • लिंक लिंक
- Advertisement -
ये पोली कंट्रोल स्टेशन की जांच की गई है।  - दैनिक भास्कर
- Advertisement -

ये पोली कंट्रोल स्टेशन की जांच की गई है।

- Advertisement -

एक चार्ज करने वाले कर्मचारी ने दावा किया है कि यह सही है। पॉलिटिकल kimaur औ rurे दूस r में r में r में r में rasaurिकों चीनी kasaurिकों बंदी kayaur बंदी बंदी kayraur बंदी kayraur बंदी बंदी चीन की बीमारी में संक्रमण की रोकथाम होती है।

राइट एंड सेकेंडरी के लिए इंटरनेशनल रिजर्वेशन कुछ रिपोर्ट्स का हवाला देते हुए कहा- चीन ने नीदरलैंड, कनाडा, आयरलैंड, नाइजीरिया समेत 21 देशों के 25 शहरों में अवैध पुलिस स्टेशन बनाए हैं। ये सीधे तौर पर किसी भी देश की संप्रभुता और सुरक्षा के खिलाफ है।

घटना के बाद होने वाली घटनाओं और घटनाओं की घटना शुरू हो जाती है।

अवैध पुलिस स्टेशन होने की खबर सामने आने के बाद कनाडा और नीदरलैंड ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है।

अवैध यौन संबंध स्थापित करना 2
अपराध के मामले में स्टेट के अधिकारियों ने पुलिस कंट्रोल किया। उनके🙏 सुपर🙏🙏🙏🙏🙏🙏
इन पुलिस छात्रों के लिए मकसद हैं। पहला-दूसरे देशों में बने रहे चीनी संबंधों को वापस चीन जाने के लिए राजी करना। दूसरा- चीन की कम्युनिस्ट पार्टी और राष्ट्रपति शी जिनपिंग के खिलाफ जाने वाले या उठाने वालों को डराना, धमकाना और टॉर्चर करना।

ऑफ हाउस ऑफ ऑफिस में भी व्यवस्था की गई थी।  देश का कहना है कि देश में अवैध सेन्टर्स बनाए गए हैं।

ब्रिटेन में हाउस ऑफ कॉमन्स में भी इसी तरह का मेल किया गया था। सांसद सारा का कहना था कि देश में अवैध सेंटर बनाए जा रहे हैं।

चीन का जवाब स्पष्ट नहीं
चीन में सही ढंग से साफ करने के लिए. इस तरह के प्रबंधन के लिए भी सुरक्षित है। डिब्बे में डालने की सुविधा के लिए ये डिब्बे डिब्बे में डाले गए थे। इस तरह के मामले में ऐसे मामलों को शामिल किया जाता है।

दूसरे देशों की जासूसी करता है चीन
चीन अफ्रीका में ऐसे ही जासूसी करता था। अब दूसरे देशों में भी जाल बिछाया जा रहा है। 2018 में इथोरिया की राजधानी अदीस अबाबा में अफ्रीकन यूनियन बिल्डिंग के कुछ सरवर मिले थे। चीन ने एक ऐसा डिजिटल नेटवर्क बनाया था जिससे सिक्रिट डेटा और वीडियोज चीनी सरकार के पास ट्रांसफ़र किए गए थे।

2015 से अब तक 99 एक्टिविस्ट को जबरदस्ती साइकेट्रिक हॉस्पिटल में भर्ती करने के बाद टॉर्चर किया गया।

2015 से अब तक 99 एक्टिविस्ट को जबरदस्ती साइकेट्रिक हॉस्पिटल में भर्ती करने के बाद टॉर्चर किया गया।

ट्रेनिंग सेंटर और साइकेट्रिक हॉस्पिटल पर भी सवाल उठाएं
ऐसा पहली बार नहीं है जब चीन अपने ही नागरिकों को परेशान कर रहा हो। इसके पहले एक ह्यूमन राइट्स ग्रुप ने दावा किया था कि चाइना पॉलिटिकल प्रिजनर्स और एक्टिविस्ट्स को मनोरोग अस्पताल में सजा दी जा रही है। देम वोकेशनल एजुकेशन एंड ट्रेनिंग सेंटर और साइकेट्रिक अस्पतालों में उपचार के संगठन से भर्ती निगरानी करता है। यहां उनके साथ मार-पीट की जाती है, इलेक्ट्रिक शॉक दिया जाता है। कई बार तो उन्हें महीनों तक कमरे में बंद कर दिया जाता है।

इगर मुसलिमों की
चीनी सरकार के अधिकारी डिटेंशन सेंटर में अल्पसंख्यकों को रिकॉर्ड करके रखते हैं। यहां उन्हें जबरन दिवाइयां देते हैं। उन पर परिवार समझौता और बर्थ समझौता की समझौता पूर्ण नीति लागू की जाती है। चीन पर कई बार आरोप लगते हैं कि डिटेंशन सेंटर्स में लोगों के अंग निकाले जा रहे हैं।

चीन ऐसा नहीं करता है

चीन के शिंजियांग क्षेत्र में उइगर, जातीय और धार्मिक अल्पसंख्यक अल्पसंख्यक का शिकार हो रहे हैं। यहां लोगों के मानवाधिकारों का उल्लंघन किया जा रहा है। उन्हें बंधक बनाकर रखा गया है। इसका खुलासा संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग की रिपोर्ट से हुआ है। चीन नहीं चाहता था कि ये रिपोर्ट पब्लिश हो। जिनपिंग सरकार का कहना था कि रिपोर्ट चीन की छवि खराब करने के लिए बनाई गई है।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here