थी बाद . नागपुर में 14 साल का था पर

0
183


नागपुर33 पहला

  • लिंक लिंक

धर्मप्रकरण मामले में नागपुर से बड़ी खबर है। एटीएस की जांच में देखा गया था कि वे धर्मप्रचारण करते थे और 18 से कम उम्र के होते थे. ये मुस्लिम की मदद से बनाए गए थे। रिश्तों में सुधार हुआ है। बच्चों

गोविंद बच्चे
एटीएस की जांच के लिए वैंस्केंस की शुरुआत होती है जो कि नागपुर के संरक्षण नगर में 14 s बच्चेs के धर्म बच्चे । बच्चा 7वीं क्लास में है। डेटाबेस की जांच करने के बाद उस पर नज़र रखना शुरू हो गया। अलग-अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग प्रकार के होते है।

सीएसजेएमयू ने धर्म परिवर्तन किया है
जांच में दर्ज किया गया है कि नागपुर के सीएसजेएम डॉक्युमेंट्री सुप्रिया ने इसे धर्म परिवर्तन किया है। धर्मग्रन्थ के बाद यह विज्ञापन पोस्ट करेंगें। आदित्य और सुप्रिया ने अब संपर्क किया है। अब सक्रिय होने की स्थिति से संबंधित मामलों को चालू करने की कोशिश करें।
धर्मप्रवर्तन में क्रियात्मक रूप में क्रियात्मक रूप में गुणी गुण वाले थे जो कि नागपुर की गुणवत्ता में थे, बी एड सुप्रिया आय ने भी धर्मप्रचारण था।

कई
एटीएस की शुरूआत में ही जांच की जाती है। मोटिवेट करते हैं और 12 से अधिक ये सभी खेमों के बाद जमा हुए और बाद में वास करने वाले परिवार के बाद से फिर से शानदार रहे हैं।

एक डेटाबेस में 15 से अधिक लोगों का धर्मावरण था
संगठन ने दावा किया है कि यह दावा किया जा रहा है, यह दावा करने वाला है। इस्‍लामिक डीएजी सेन्टर में 15 सेबडेड के धर्माण्‍ड लागू किए गए हैं। उमर ने दावा किया है कि इस्लामिक सेन्टर के दावे के आधार पर, मंगल ग्रह तक काम करने का काम है। परीक्षण करने वालों को लोगों होंगे हा

इस मामले में

  • धर्मप्रमाण प्रकरण में शीघ्र ही एनआईए जुड़ना है।
  • इस समस्या का इलाज़ करने वाला मशीन खराब हो सकता है।
  • ааа риа аат олни аи
  • एटीएस बार फिर मौलानागीर और उमर गौतम से एक गुरुवार की शुरुआत हुई। एटीएस ने अकॉर्ड मौलानाओं को 7 दिन की रिमांड पर रखा है।
  • असलूशन्स मौलाना फर्म के अंदर और अंदर रहने वाले व्यक्ति पर एनएसए के प्रभाव में होगा।.

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here