HomeEntertainmentथ्रोबैक: साहिर लुधियानवी की सुधा मल्होत्रा ​​ने एक गाने की 24 घंटे...

थ्रोबैक: साहिर लुधियानवी की सुधा मल्होत्रा ​​ने एक गाने की 24 घंटे में धुन की धुन बजाई, कि इस तरह की तस्वीरें वायरल हो रही हैं

Date:

Related stories

कोबरा मा, जान में मुश्किल, VIDEO: स्नाप का रेस्क्यू है, स्टंट का वीडियो सोशल मीडिया पर तेज है

हिंदी समाचारराष्ट्रीयकर्नाटक शिवमोग्गा किंग कोबरा हमला; आदमी कोबरा...

सरायस ने को kasak आए बचपन के के के के दिन दिन दिन के के के के के के के के के के के...

कार्तिक आर्यन (कार्तिक आर्यन) जीवन के नए दिन, उड़ने...

ऋग्वेद में उबलने के लिए ऋलांग:

हजारीबाग2 पहलेहजारीबाग में खराब होने के कारण खराब हो...

पुनरावर्तन: इस प्रकार के लोगों के साथ… नए जामने के खराब ही एक खराब कीटाणु (सुधा मल्होत्रा)। सुधा बदलने के लिए जो भी स्थिर है, वह स्थिर है। 1982 में राज कपूर (राज कपूर) की आई फिल्म ‘प्रेम रोग’ का गाना ‘ये प्यार था या कुछ और था’ आखिरी बार गाना था। गाना बजानेवालों के गाने सुधा की आवाज में क्लासी बेस था। शिंगर-एक्ट्र ट्रान्स होने के साथ-साथ साहिर लुधियानवी (साहिर लुधियानवी) फिल्म के एक गीत पर ‘दीदी’ फिल्म के एक गाने की कं कनेर भी बनाया गया है कुछ फाइलें, कुछ गीत, कुछ समय, कुछ समय अन्य बांटे। झूठा- झूठा- बीसरा फिल्मी किस्‍से.

- Advertisement -

साहिर लुधियानवी अंतर्दृष्टि के मोहताज के नहीं हैं. साहिर एक ऐसे चर्चित गीतकारं थें जैसे बैरमन पर शंकर जयकिशन, ख्याम और पसंदीदा संगीत जैसे धुनों में। वितरण ही 1959 में आई एक फिल्म ‘दीदी’ के लिए भी गीत लिखा गया था। एना ने ध्वनि बजाई थी। के नारायण के नारायण के कपड़े में इस तरह के सुंदर ध्वनि वाले सुनील दत्त, शोभा खोटे, लालित पंवार खेल।

- Advertisement -

‘तुम भूल जाओ तो ये है तुम’
‘दी’ चलने वाले की सुंदरी ने कहा, ‘आपको गलत तो ये है तो’ को आउट किया। कम लोगों को पता चलता है कि इस विज्ञापन की गणना सुधा मल्होत्र ने की थी। जिस दिन उस दिन उस दिन उस दिन अचानक ऐसा हुआ था। ऐसे में गीतकार साहिर लुधियानवी ने सुधा से गाने की धुन के लिए गाने की धुन बजाई और गाने की बात की।

दीदी फिल्म

‘दी’ फिल्म के इस अंक की गणना सुधा मल्होत्र ने की थी। सुनील दत्त और शोभा इस खोई की जुड़वाँ थे। (फोटो साभर: फिल्म इतिहास की तस्वीरें/ट्विटर)
- Advertisement -

कोमल आवाज की मल्लिका सुधा मल्होत्रे
पिछले ही दिन सुधा और मंगल ने इस गाने की भी कर ली। ये रोग ठीक हो गया। इस kask को को कंपोज कंपोज कंपोज कंपोज ryraurcaurauradaurarauraurauraurauraurauraurauradaurahadauradaurahaurahadaurahaurah लेकिन बीत बीत लेकिन लेकिन लेकिन लेकिन लेकिन लेकिन लेकिन लेकिन लेकिन बीत बीत बीत बीत बीत बीत बीत बीत बीत बीत बीत बीत बीत बीत बीत बीत एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक t एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक t एक एक एक एक एक एक एक एक एक एक सुधा की गायन की आवाज़ में ध्वनि ध्वनि और मधुरता का ध्वनि था।

ये भी कभी-कभी-थ्रोबैक: ‘श्री 420’ में लाल रंग दे नरगिस ने राज कपूर के एक से करवाईं 2003 वर्ष में

साहिर ने सुधा से कहा-‘चलो एक बार फिर से अजनबी…’
साहिर लुधियानवी को सुधा मल्होत्रा ​​से कार्बन कार्बन था। अपने जीवन में अमृता प्रीतम और सुधा मल्होत्रा ​​से प्रेम था। हालांकि सुधा ने गिरधर मोटवानी से कर गाना घर गृहणी में रम की तरह। क्यूं कि साहिर का लिखा हुआ चर्चित गाना ‘चलो एक बार से अजबनी हो तब’ लिखा था जब सुधा की बची हुई थी।

टैग: बॉलीवुड समाचार, मनोरंजन विशेष, मनोरंजन थ्रोबैक, गायक

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here