HomeIndia Newsदक्षिण में कांग्रेस में फूट का डर: पार्टी नेताओं ने शशि थरूर...

दक्षिण में कांग्रेस में फूट का डर: पार्टी नेताओं ने शशि थरूर पर गुटबाजी का आरोप लगाया, थरूर बोले- डरने की जरूरत नहीं

Date:

Related stories

कटल के बाद सैनिक का शव पेड़ पर लटकाया, लोगों से कहा- जनाजे में शामिल न हों | पाकिस्तान तालिबान | तालिबान...

पेशावर2 मिनट पहलेकॉपी लिंकपाकिस्तान सरकार और टीटीपी (तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान)...

एमसीडी चुनाव के नतीजे आज: 42 चुनाव पर वोटों की गिनती होगी, अर्ध सैनिक बलों की 20 कंपनियां

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली एमसीडी चुनाव के नतीजे आज आएंगे: 42...

अक्षर को मिल सकता है मौका; देखें दोनों टीमों की संभावित खेल-11 | भारत बनाम बांग्लादेश दूसरा वनडे लाइव स्कोर अपडेट विराट...

मीरपुर4 मिनट पहलेभारत-बांग्लादेश ऑस्ट्रेलिया सीरीज की दूसरी प्रतियोगिता बुधवार...

एशिया के सबसे बड़े दानवीरों में 3 भारतीय: फोर्ब्स की लिस्ट में अडानी टॉप, 60 हजार करोड़ रु. दान दिया

हिंदी समाचारराष्ट्रीयफोर्ब्स परोपकार सूची; फोर्ब्स एशिया हीरोज; ...

कांग्रेस की राजनीति: भारत जोड़ो यात्रा कोटा पहुंचें, कठपुतली नचा रहे हैं राहुल

एक मिनट पहलेकॉपी लिंककांग्रेस का राज तो ज्यादा राज्यों...
  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • शशि थरूर केरल यात्रा विवाद; कांग्रेस आईयूएमएल एलडीएफ पार्टी | केरल समाचार

तिरुअनंतपुरम3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

कांग्रेस पार्टी की केरला इकाई में फूट का डर सता रहा है। दरअसल, कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव में मल्लिकार्जुन खड़गे के खिलाफ चुनाव लड़ रहे पार्टी सांसद शशि थुरूर केरेला दौरे पर हैं। यहां उन्होंने मलप्पुरम में कांग्रेस एलायंस (UDF) के प्रमुख सहयोगी यूनियन इंडियन मुस्लिम लीग (IUML) के नेताओं से मुलाकात की।

- Advertisement -

इसके बाद यह चर्चा शुरू हो गई कि पार्टी में थरूर अपना नया गुट खड़ा करना चाहते हैं। हालांकि थरूर ने इन चर्चाओं पर विराम लगाने की कोशिश की और कहा- मुझे किसी को डरने की जरूरत नहीं है।

विशिष्ट के नेता और केरल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वी डी सतीशन ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि राज्य में किसी भी नेता को समानांतर लक्ष्यीकरण की अनुमति नहीं है। अगर कोई ऐसा करने की कोशिश करता है तो सख्ती से लग जाएगा।

केरल में कांग्रेस 2016 से सत्ता से बाहर है।  तब से थरूर पर गुटबाजी का आरोप लगता है।

केरल में कांग्रेस 2016 से सत्ता से बाहर है। तब से थरूर पर गुटबाजी का आरोप लगता है।

क्यों शुरू हुई फूट की झटके?
केरल में 2016 से कांग्रेस पार्टी सत्ता से बाहर है। यहां वामपंथी गठबंधन एलडीएफ की सरकार है। तब से केरल में कांग्रेस पार्टी का एक भ्रम थरूर पर गुटबाजी का आरोप लग रहा है। थरूर भी केरल के तिरुअनंतपुरम से सांसद हैं। मुस्लिम लीग के नेताओं से थरूर के अच्छे संबंध हैं। इसके बाद कांग्रेस के एक वर्गीय राज्य में पार्टी के भीतर ‘थरूर गुट’ को हवा दी जा रही है।

बता दें कि केरल विधानसभा की कुल 140 सीटों में से सत्ताधारी LDF के पास 99 सीटें हैं। वहीं कांग्रेस के यूडीएफ गठबंधन के पास 41 विधायक हैं। इनमें अकेले कांग्रेस के पास 21 और आईयूएमएल के पास 15 सीटें हैं।

थरूर ने कांग्रेस के सहयोगी दलों से मिलने को सिर्फ प्रबंधकों को बताया है।

थरूर ने कांग्रेस के सहयोगी दलों से मिलने को सिर्फ प्रबंधकों को बताया है।

थरूर बोले- मैं किसी से नहीं डरता
शशि थरूर से मीडिया ने किया सवाल। उनसे पूछा गया कि आपके कैंसर का दौरा वास्तव में किससे डरता है? जवाब में थरूर ने कहा- मैं किसी से नहीं डरता और किसी को मेरे डरने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी राज्य कांग्रेस में गुटबन्दी नहीं है। पंकड़ में सादिक अली शिहाब थंगल के आवास पर इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) के नेताओं से उनकी बैठक केवल एक कर्मचारी थी।

कांग्रेस बोले- नेता- गुटखा सुरक्षित नहीं
केरल विधानसभा में विपक्षी नेता वी डी सतीशन ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस पार्टी में किसी भी तरह का गुटबाजी या बदलाव बर्दाशत नहीं किया जाएगा। इसी तरह से चेतावनियों को इस तरह के कदम पर ग्रेविटेट्स से प्रदर्शित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की प्रदेश इकाई विधानसभा चुनाव में दो बार लगातार हार के बाद राज्य की सत्ता में वापसी के रास्ते पर है। ऐसे में किसी की भी पूरी तरह से सजीव गतिविधियां नहीं हो पातीं।

मीडिया से बातचीत में सतीशन ने कहा कि कई तरह की एफ़ेयर की खबरें उनके जैसे नेताओं को नष्ट नहीं कर सकतीं क्योंकि वे नज़रबंदी को पूरा नहीं करते हैं, उनमें से किसी एक पिन की चुभन सेरा के लिए फोटा जा सकता है। हालांकि मीडिया निरीक्षक ने अपनी इस टिप्पणी को लेकर बार-बार पूछा कि ये क्या बात उन्होंने थरूर के लिए कही है, लेकिन उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया।

केरल विधानसभा के विपक्षी नेता वी डी सतीशन ने थरूर के समानांतर गतिविधियों पर चेतावनी दी है।

केरल विधानसभा के विपक्षी नेता वी डी सतीशन ने थरूर के समानांतर गतिविधियों पर चेतावनी दी है।

पार्टी में हर नेता की जगह, पार्टी के नियम सर्वोपरि
थरूर के बांग्लादेश दौरे के सवाल पर सतीशन ने कहा कि कांग्रेस पार्टी में हर नेता की अपनी एक जगह है। कोई भी इसके खिलाफ नहीं है, लेकिन पार्टी के अपने नियम और व्यवस्था है। उन्होंने किसी का जिक्र न करते हुए कहा कि विधानसभा चुनावों में दो बार हार के बाद पार्टी राज्य में वापसी की दिशा में है। सभी सदस्य इस समय टीम की तरह काम कर रहे हैं। ऐसे में अगर कोई गुटबाजी की कोशिश करेगा तो उसे बंधक नहीं बनाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि हम कांग्रेस पार्टी को कमजोर करने वाले एजेंडे को स्वीकार नहीं कर सकते। फिर भी यह किसी मीडिया या सोशल मीडिया के जरिए किया जा रहा है। अगर पार्टी का कोई भी सदस्य ऐसा करता है, तो उसके साथ ग्रॅटविट्स करेगा।

थरूर ने अध्यक्ष चुनाव में पार्टिसिपेंट्स के आरोप लगाए थे
कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव के दौरान शशि थरूर ने पार्टी के बड़े नेताओं पर पार्टियों का आरोप लगाया था। उन्होंने तब राज्यों में अपने प्रचार-प्रसार के दौरान प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) के अध्यक्ष सहित बड़े नेताओं के गायब रहने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा कि उसी समय मल्लिकार्जुन खड़गे के अभियान के दौरान भी यही नेता उनके साथ जुड़े हुए हैं।

थरूर ने चुनाव से जुड़े जरूरी दस्तावेज देने में भी नेताओं पर भेदभाव का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि मेरे चुनाव में मतदान करने वाले कांग्रेस प्रतिनिधियों की अधूरी सूची बना दी गई थी। इसके अलावा लोगों के नंबर देने में भी भेद किया गया था।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here