HomeIndia Newsदेश में हिमाचल का 'डंका': छात्र नामांकन और पीटीआर सबसे बेहतर; ...

देश में हिमाचल का ‘डंका’: छात्र नामांकन और पीटीआर सबसे बेहतर; बिहार में 47, गुजरात व यूपी में 31-31 और हिमाचल में 14 छात्रों पर एक शिक्षक

Date:

Related stories

सलमान खान के जीजा ने पापा को दी चुनाव जीतने की बधाई…, कहा- बधाइयां होइए!

नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजों के...

देवेंद्र हेटा/शिमला6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

हिमाचल के स्कूलों में दूसरे प्रदेशों की तुलना में छात्रों की भीड़ कम है। कम छात्र नामांकन के साथ-साथ राज्य में छात्र व शिक्षक अनुपात (PTR) भी राष्ट्रीय औसत से काफी बेहतर है। यूडीआईएसई (यूनिफाइड डिस्ट्रिक्ट इंफॉर्मेशन सिस्टम फॉर एजुकेशन) की 2021-22 की रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है।

- Advertisement -

रिपोर्ट के अनुसार हिमाचल के प्रत्येक स्कूल में औसत 80 विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं, जबकि राष्ट्रीय औसत 178 विद्यार्थियों की है। इस लैदर से हिमाचल के स्कूलों में कम से कम छात्र हैं। हिमाचल से कम मैसेज में 61 छात्र और मिजोरम में 79 छात्र हरेक स्कूल में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं।

कई राज्यों के स्कूलों में 500 से भी ज्यादा छात्र हैं

इसके विपरीत देश में कुछ ऐसे राज्य हैं, जहां प्रति स्कूल 500 से भी ज्यादा छात्र शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। चंडीगढ़ में सबसे ज्यादा 1153 छात्र प्रति स्कूल पंजीकृत हैं।

इसी तरह दिल्ली में 814 छात्र-छात्राएं, पुड्डुचैरी में 347 छात्र, केरला में 396, लक्ष्य द्वीप में 358, बिहार में 295, दादरा और नगर हवेली में 290, गोवा में 202, गुजरात में 214, हरियाणा में 254, महाराष्ट्र 206, पंजाब तमिलनाडु में 222 और तमिलनाडु में 218 छात्र प्रति स्कूल पंजीकृत हैं।

इसलिए हिमाचल में कम छात्र

शिक्षा विभाग के अधिकारियों की राय तो हिमाचल में जगह-जगह स्कूल नामांकन जाने और जनसंख्या घनत्व कम होने की वजह से यहां के स्कूलों में छात्र का पंजीकरण राष्ट्रीय औसत से काफी कम है।

इसी तरह अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) में भी प्रत्येक 1.5 किमी में प्राथमिक स्कूल शिक्षा का प्रावधान है। इस कारण से राज्य में स्थान- स्थान प्राथमिक स्कूल बनाया गया है।

PTR में भी विशेषण में टॉप-4 में

हिमाचल प्रदेश के छात्रों की बेहतर शिक्षा के लिए पीटीआर (छात्र शिक्षक रेशो) का अच्छा होना भी जरूरी है। पीटीआर में भी हिमाचल की स्थिति राष्ट्रीय औसत से बहुत अच्छी है। देश में पीटीआर 28 की है जबकि हिमाचल में 14 की है। प्रत्येक पृष्ठ 14 छात्र पर एक शिक्षक है।

बिहार में 47 बच्चे एक शिक्षक

वहीं उत्तर प्रदेश और गुजरात में PTR 31-31 और बिहार में सबसे ज्यादा 47 की है। हिमाचल से बेहतर पीटीआर 3 ही राज्य हैं। इनमें सिक्किम के 10, मिजोरम के 13 और इंडिकैंस का पीटीआर 13 है।

हिमाचल के 18,028 स्कूलों में 14.38 लाख छात्र

हिमाचल प्रदेश में कुल 18028 प्री-प्राइमरी से लेकर हायर पेजिनरी सरकारी निजी स्कूल है। इनमें 14,37,022 बच्चे पंजीकृत हैं। इनके लिए 1,00,137 शिक्षक कार्यरत हैं।

देश में 14.90 लाख स्कूल
देश में 14,89,115 स्कूल हैं। इनमें से 26,52,35,830 पंजीकृत हैं। इनके काम में 95,07,123 शिक्षक कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here