HomeIndia Newsनशे ने मचाई हरियाणा सरकार में खलबली: इस साल 84 युवकों की...

नशे ने मचाई हरियाणा सरकार में खलबली: इस साल 84 युवकों की मौत; एनसीबी-पुलिस ने मेरा संयुक्त संपर्क, हेल्पलाइन नंबर जारी किया

Date:

Related stories

वाक्य में चुनाव: गुजरात जैसा चमत्कार न तो कभी देखा, न कभी सुना

हिंदी समाचारराष्ट्रीयनरेंद्र मोदी मैजिक; गुजरात विधानसभा चुनाव 2022...

गुजरात में बीजेपी की सबसे बड़ी जीत: हिमाचल में कांग्रेस की वापसी; नामांकन की सीट अब डिंपल की

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदैनिक भास्कर समाचार की सुर्खियां; नरेंद्र मोदी...
  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • हरयाणा
  • मनोहर लाल मुख्यमंत्री हरियाणा | ड्रग्स पर हरियाणा के सीएम मनोहर लाल, डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला, हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज

चंडीगढ़3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
हरियाणा में नशा की रोकथाम को लेकर अधिकारियों के साथ सीएम मनोहर लाल खट्‌टर की बैठक।  - दैनिक भास्कर
- Advertisement -

हरियाणा में नशा की रोकथाम को लेकर अधिकारियों के साथ सीएम मनोहर लाल खट्‌टर की बैठक।

- Advertisement -

हरियाणा में नशे से इस साल अब तक 84 युवा दम तोड़ चुके हैं। खास बात यह है कि इनकी उम्र 18 से 35 साल के बीच है। इस आंकड़े ने हरियाणा की भाजपा-जजपा सरकार में खलबली मचा दी है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर ने अफसरों से इस पर झूठा जाहिर किया है।

जिसके बाद नशे के खिलाफ बड़ा प्लान तैयार किया। तस्करों को पकड़ने के लिए कुल 3 हजार टीमें लगाई गईं। इनमें 30 हजार अधिकारी और कर्मचारी शामिल हैं। सहयोग के लिए इस टीम से 45 हजार आम लोगों को भी जोड़ा गया है।

यह टीमें गुपचुप कैसे से गांव और शहरों से तस्करों का डेटा तैयार कर रही हैं। जिसके साथ ही नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) और पुलिस की संयुक्त टीमें ताबड़ का क्षयकारण शुरू कर देंगी।

​​मोबाइल नंबर भी जारी किया
राज्य से धूम्रपान करने वालों को पकड़ने के लिए सूबा सरकार की ओर से एक मोबाइल नंबर जारी किया गया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इस एंटी ड्रग्स हेल्पलाइन नंबर 90508-91508 प्रचार के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा है कि इस नंबर को राज्य की बसों और सार्वजनिक स्थानों पर अलग कर दिया जाएगा, ताकि छुट्टियों को विशेष रूप से देखा जा सके।

नशेड़ियों का रिकार्ड भी तैयार होगा
नशे की लत लगाने के साथ-साथ राज्य नशाखोरी का रिकॉर्ड भी तैयार करता है। इसके लिए नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो एक मोबाइल एप भी बना रहा है। इसमें अभी तक सूबे द्वारा बनाई गई कई टीमें रिकार्ड एप में अपडेट की जाएंगी। इसके बाद सरकार और संबंधित विभाग उन लोगों को नशामुक्त करने का प्रयास करेंगे।

10 राज्यों से संपर्क किया गया है ऑक्सिन ड्रग्स
हरियाणा में देश के 10 राज्यों से यहां भारी मात्रा में खतरनाक ड्रग ब्लॉक हो गए हैं। जो किसी भी ज़बरदस्त पंजाब की तरह हरियाणा के युवा मौत का तांडव मचा सकते हैं। इसे देखते हुए हरियाणा राज्य नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने एक रिपोर्ट तैयार कर सरकार को अतिसंवेदनशील थी। जिसके बाद नॉर्थ रीजन में नशे को लेकर अलर्ट है।

हरियाणा में इन स्टेट्स से आई ड्रग्स
असल में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने हरियाणा में एनडीपीएस एक्ट के तहत दर्ज मामले दर्ज कर तस्करों से पूछताछ की। उन्होंने स्वीकार किया कि हरियाणा के कई हिस्सों में उन्होंने गूगल पर निशाने साधे हैं। इसके आधार पर तैयार ब्यूरो की रिपोर्ट के अनुसार ब्यूरो दिल्ली, उड़ीसा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड राजस्थान, यूपी, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और बिहार के ब्यूरो स्मगलरों ने हरियाणा के कई हिस्सों में आपूर्ति की है।

हरियाणा में ऐप्स में 18% की पहचान
हरियाणा नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की रिपोर्ट में एक और बड़ी खबर सामने आई है। हरियाणा में नशे की आपूर्ति में 18% की कमी हुई है। इसमें हेरोइन, गांजा, चरस, अफीम, स्मैक, कैप्सूल और कफ सिरप जैसे नशे शामिल हैं। इसके लिए हरियाणा से राज्यों के राज्यों और दूसरी जगहों पर सप्लाई की गई है।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here