पंजाब में नवाज़ का कार्यालय 2022: इंचार्ज हरीश चौधरी और प्रधान नवजोत सिद्धू का दिल्ली टूर; कांग्रेस

0
66

  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • चंडीगढ़
  • पंजाब कांग्रेस का मिशन 2022 प्रभारी हरीश चौधरी व प्रधान सिद्धू का दिल्ली दौरा; कांग्रेस आलाकमान के साथ बैठक

चेन्नई3 पहले

  • लिंक लिंक
हरीश चौधरी और नवजोत सिद्धू।  - दैनिक भास्कर

हरीश चौधरी और नवजोत सिद्धू।

लोकसभा चुनाव 2022 के लिए… पंजाब इंचार्ज हरीश चौधरी और प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू दिल्ली पर हैं। हाईलाइट हाईलाइट पंजाब को चिंत्य की चिंता है। कांग्रेस हर असावधानी सूरत में हैं। बारी-बारी से, सरकार और संगठन में भी खराब होने वाले हैं। बर्फ़ीला तूफ़ान खतरनाक है।

पंजाब में नवजोत सिद्धू के क्षेत्र में सक्रियता के बाद सक्रियता दिखाई दे रही है। और रैंक की कसौटी पर खरा उतरा। प्रभामंडल को कलह सूझने की उम्मीद है। हालांकि यह नहीं हुआ। नवजोत सिद्धू अब नए मुख्यमंत्री चरणजीत चनी से भी नाराज हो गए। लगातार लड़ रहे हैं। सिद्धू किसी भी तरह से अलग नहीं होते हैं। ऐसे में यह मुश्किल हो सकता है।

पंकज में सर्च करें और

पंकज में सर्च करें और

प्रधान से इंचार्ज

कांग्रेस पहली बार सुरेंद्र जाखड़ को हटाकर नवजोत सिद्धू को प्रधान बनाया गया। जाखड़ नाराज़ हो गए थे। पद से हटाएँ। सुखजिंदर रंधावा ने जांच की। फिर चरण चरण चान बैठने वाले लोग बन गए थे. पूर्ण कलह के लिए गैर-जिम्मेदाराना माने जाने वाले इस हरेश रावत को पंजाब के प्रभारी पद से हटा दिया गया। अब राजस्थान के मंत्री हरीश चौधरी को नया प्रभारी बनाया गया है।

अमरिंदर की सैलियासी चुनौती

पंजाब में लडखड को अपने क्षेत्र में बेहतरीन मौसम ऐमरिंदरिंदर सिंह की सैयासी चुनौती भी खतरनाक है। अमरिंदर अलग पार्टी बना रहे हैं। सबसे महत्वपूर्ण यह है कि नवजोतू के जैसे पर निष्क्रिय को पंकज में वायुयान की उम्मीद है, जैसे वे मरे हुए हैं। ऐसे में पंजाब में ही रहेंगे तो फिर पार्टी का क्या होगा? यह भी नीब के लिए चिंता का विषय है।

केंद्रीय गृह मंत्री शाह से  कैप्टन भाजपा से हाथ मिलाकर चुनाव में कांग्रेस के लिए चुनौती खड़ी करने की तैयारी में हैं।

केंद्रीय गृह मंत्री शाह से कैप्टन भाजपा से हाथ मिलाकर चुनाव में कांग्रेस के लिए चुनौती खड़ी करने की तैयारी में हैं।

विशिष्ट पर भी

पंजाब में बड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। भविष्य में तय की गई घोषणा की घोषणा की गई। हालांकि वो अनुसूचित जाति वोट बैंक की वजह से सीएम चन्नी को नजरअंदाज नहीं करना चाहते। नया इंचार्ज हरीश चौधरी भी इस लक्ष्य पर निर्भर करता है. ऐसे में

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here