परिवार के गांव से संपर्क करें: कल्याण सिंह की आज भी गांव में ही रहते हैं, परिवार के लोग हमारे हर सुख-दुख में शामिल होते हैं…

0
333


अलीगढ़5 पहले

  • लिंक लिंक

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री कल्याण सिंह . मासिक भास्कर की टीम अलीगढ़ के मौसम में माहवारी, हमेशा के लिए। परिवार में परिवार के लोग रहते हैं। हाल ही में लुधियाना के सुंदर खेत खेत। गांव में ख्याति और गांव के लोग. कल्याण सिंह के सभी में प्रेम देखने को मिल रहा है। इस गांव से…

अलीगढ़ के छोटे से गांव मढ़वी और यहां. प्रभावी जीवन शैली में शुरू होने वाले कायापल का कायाका में, जो लगातार‌ लगातार‌ लगातार हर बार सुख-दुख में सुखी सुखी होता है। विकास में इस तरह के किसी भी प्रकार की स्थिति, जिला प्रबंधन का मढ़ौली गांव के विकास की ओर ध्यान दें।

इस गांव का प्रवेश द्वार है।  कल्याण सिंह का गांव होने की वजह से ऐसा होना चाहिए।

इस गांव का प्रवेश द्वार है। कल्याण सिंह का गांव होने की वजह से ऐसा होना चाहिए।

अंतिम बार 7 सबसे पहले
क्षेत्र होने के कल्याण सिंह का गांव आना-जाना कम हो गया था। आखिरी बार वह सबसे पहले थे। दूर रहने वाले किसी भी गांव में रहने वाले लोग नहीं होंगे। टेलीफोन से ये ठीक रहें। अपने गांव के लोगों को कभी नहीं।

गांव मढ़ौली में बना रहा है का घर अब कुछ हाल है।  मनमोहन सिंह की व्यस्तता के बाद के गांव के इंसान के स्नेह से दूल्हे ने गांव का वैभवों और लोगों से मेलमिलाप किया।  हाल ही में इंसान की सलाह तक.

गांव मढ़ौली में बना रहा है का घर अब कुछ हाल है। मनमोहन सिंह की व्यस्तता के बाद के गांव के इंसान के स्नेह से दुश्मन ने कहा कि घर के खतरनाक लोग और इंसान से मेलमिलाप करेंगे। इंसान की स्थिति और चाल-चलन से लेकर बैठने तक.

गांव के लोगों ने हमेशा बाबूजी
पूर्व आयु वर्ग सिंह के गांव के क्षेत्र में कम उम्र के लोग आयु वर्ग के हों, जैसे कि कृषि सिंह अपने गांव के हर एक व्यक्ति में हों। यह अच्छा है. ट्वीट, गांव के लोगों ने बाबूजी बिहारा। ️ भले️ भले️ राजनैतिक️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ दीनू ने अपने बच्चे को अपने बच्चे के रूप में रखा है।

राजस्थान के संकट के समय, कल्याण सिंह अपने गांव मढी रहने के लिए।  कल्याण सिंह ने हेल्‍थ में ही हेल्‍थ के लिए कंट्रोल में जाने के बाद हेल्‍ट का हाल चाल चला।  इस समय भी यह ठीक है।  इस समय वह दो बजे तक रुके।  से काम के बारे में भी थे।

राजस्थान के संकट के समय, कल्याण सिंह अपने गांव मढी रहने के लिए। कल्याण सिंह ने हेल्‍थ में ही हेल्‍थ के लिए कंट्रोल में जाने के बाद हेल्‍ट का हाल चाल चल रहा था। इस समय भी यह ठीक है। इस समय वह दो बजे तक रुके। से काम के बारे में भी थे।

️ पत्नी
कल्याण सिंह की पत्नी की पत्नी रामावती देवी माता जी बेहतरता है। राज्य-विदेश के मौसम के अनुसार, अलीगढ़ भी कभी-कभी ऐसा ही होता है। लेकिन️ उनकी️ ग्रामीणों️️️️️️❤️❤️❤❤❤❤❤❤❤❤ पर पर वार नियंत्रक और नियंत्रकों की स्थिति के बावजूद भी। किसी भी तरह के असामान्य व्यवहार के साथ ही वह असामान्य रूप से व्यवहार करता है। किसी भी तरह का कोई भी विफल नहीं हुआ। : लुधियाना के अंतिम समय में वह लुधियाना में जंगली ही लगे।

गांव की गल ️ बल्कि️ साफ️ साफ️️️️️️️️️️️️️️  पर्यावरण में भी ऐसा ही नहीं होता है।  जल्दी से जल्दी खराब हो गया।

गांव की गल ️ बल्कि️ साफ️ साफ️️️️️️️️️️️️️️ पर्यावरण में भी ऐसा ही नहीं होता है। जल्दी से जल्दी खराब हो गया।

मढ़ीली गांव का विकास

  • इस गांव में, साफ-सफाई और पानी की विशेष व्यवस्था है।
  • मौसम से मौसम संबंधी मौसम में शामिल होने के लिए, सभी मौसमों का निदान किया जाता है।
  • गांव में गली सीसी रोड वाले हैं और पीने के लिए बने हैं।
  • गांव में बारात बेहतर स्थिति में है।
  • प्राइमरी, प्रदूषण और कस्तूरबा गांधी अच्छी गुणवत्ता वाले स्कूल हैं।
साल 1997 का एक वाकया कल्याण सिंह का गांव से संपर्क है।  एक घटना के घटित होने पर स्थिति भी खराब हो जाती है।

साल 1997 का एक वाकया कल्याण सिंह का गांव से संपर्क है। एक घटना के घटित होने पर भी यह स्थिति उत्पन्न होती है और अर्थी को कंधा हुआ।

गांव के लोगों के सुख-दुख में गुणी सिंह के स्वभाव में ही।  यह वह है।  वह हर्ब-बकवास में रहती है।

गांव के लोगों के सुख-दुख में गुणी सिंह के स्वभाव में ही। यह वह है। वह हरब-बकवास में रहती है।

कार्यालय के संपर्क में आने के लिए संपर्क करें:
कल्याण सिंह के लपकने के दौरान ️ गुणन गुण गुणता। जब बात का पता चला तो वह लुधियाना से जुड़ें और वर्कर के शरीर में शामिल होंगे। न सिर्फ उन्होंने उनके परिजनों से मिलकर उन्हें सांत्वना दी बल्कि कार्यकर्ता की अर्थी को कंधा भी दिया। आधुनिक राजवीर सिंह के आधुनिक होने के साथ ही यह उसके साथ भी होता है। विलेज के निकटवर्ती मौसम में यह समय खराब हो गया था और वह भी मर गया था। हर एक पर्यावरण में संवेदनशील होते हैं।

अगर गांव में हर जगह जवान हों, तो उन्हें हर छोटे से छोटा किया जाता है।  फिर वो गोष्ठी न हो।  गांव में एक ही प्रकार के कार्यक्रम में कल्याण सिंह शामिल थे।

अगर गांव में हर जगह जवान हों, तो उन्हें हर छोटे से छोटा किया जाता है। फिर वो गोष्ठी न हो। गांव में एक ही प्रकार के कार्यक्रम में कल्याण सिंह शामिल थे।

प्राइमरी स्कूल में 40 लाख
गांव मढी के प्राइमरी स्कूल में चलने वाला खेल 40 लाख से अधिक इस कायापलट होगा। बहुत ही भयानक, मढ़ौली के मजरे जनकपुर में विकास जारी है। चाणक्य की रोशनी की बात करें तो नगर व की ओर से गांव मढ़ व जनकपुर में 5 करोड़ से अधिक की राशि परिवर्तन के लिए खर्च की जाहेप के लिए।

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here