पाकिस्तानी नवजात शिशु की मौत; जिन्ना अस्पताल में महिला ने बच्चों को दिया जन्म | गर्भवती होने की वजह से डॉ.

0
56

मौसमाबाद2 पहले

  • लिंक लिंक
प्रतीकात्मक चित्र।  - दैनिक भास्कर

प्रतीकात्मक चित्र।

वृध्दि में सात प्रतिशत की वृद्धि हुई है। एक बच्चा बचा है, ठीक है। एबटाबाद के इस्णावर्त अस्पताल (JIHA) में इनदिव्य के जन्म हुआ था। बरामदगी के बाद तक। हालांकि, सफल नहीं।

छठवें ने आज दम तोड़ा
इन को जन्म के बाद तकनीक में स्थापित किया गया था। इसकी वजह यह थी कि ज्यादातर बच्चों की हालत प्रीमैच्योर डिलिवरी की वजह से नाजुक थी। अयूब अस्पताल में संक्रमण में वृद्धि हुई है। मंगलवार को सुबह का हादसा हुआ।

‘द एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट के अनुसार, JIHA में दर्ज किया गया था, जो व्यक्तिगत तौर पर दर्ज किया गया था। पांचवीं पीढ़ी के निजी अस्पताल में दमदम। अयूब डेटाबेस! हाल ही में आखिरी बार पोस्ट किया गया।

जारी किए गए अपडेट
अयूब के शरीर के अंग के इंचार्ज में कमी होती है। हम सातवें बच्चे को बचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं, उसकी हालत भी फिलहाल खतरे से बाहर नहीं है। कुछ सी कॉम्प्लीकेशन्स हैं। ठीक ठीक ठीक ठीक ठीक इसी तरह से ठीक करें I इस समस्या को हल करने में मदद करें। ️ ऊपर️ ऊपर️️️️️️

भार भी कम
डॉक्टर एजाज के मुताबिक, सातों बच्चे प्रीमैच्योर थे और यही वजह है कि उनको दिक्कतें बहुत ज्यादा थीं। सभी का भार एक किलो था। नियमित रूप से काम करने वाले बच्चे काम करते हैं। आय अर्जित करने की बीमारी।

पहली बार (लड़के) उसकी मृत्यु हुई थी। बाद में तीन लड़कियों और सभी को अपडेट किया गया था। फिर भी, इस तरह के नियंत्रकों में आने वाले.

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here