प्रभामंडल के हिसाब से प्रभावित होने पर यह उचित होगा:

0
49


  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • हरियाणा
  • रोहतक
  • रेवाड़ी
  • डिस्कस थ्रो में हासिल किया स्थान, घर में खुशी से नाचने लगे परिवार के सदस्य, आतिशबाजी से ढोल, लड्डू खिलाकर किया मुंह मीठा, योगेश को 2006 में हुआ था लकवा

झज्जरएक प्रथम

  • लिंक लिंक
अहद में बैठने के लिए योगेश के मौसम के अनुकूल।  - दैनिक भास्कर

अहद में बैठने के लिए योगेश के मौसम के अनुकूल।

टोक्यो में चल रहे पैरालिंपिक में बहादुरगढ़ शहर के योगेश कथूनिया ने डिस्कस थ्रो में रजत पदक जीता हैं। बाद के योग आसनों के लिए… घर के बाहर ढोल की थाप पर नाच नाच रहा है। इंटरनेट भी खराब है। योगेश के खुशियों में शामिल हों। ढोल की पार्टी के साथ ढोल की थीप पर नाचते अपनी खुशी का इजहार। सभी ने एक-एक-क्लिक को इस लड्डू में हल किया। बता दें कि योगेश कथूनिया बहादुरगढ़ की रहने वाले है। साल २००६ में योगेश को परनालासिस हुआ था। 2016 में योगेश ने भविष्यवाणी शुरू की। .. . इस योगेश ने अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर देश का नाम रोशन किया है। I I मैंने यह भी किया है।

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here