India News

बागियों ने ताजा की पुरानी यादें: बगी बगी ज़ट्‌टा के मा अजीत सिंह, सरछोटू राम और महंत सिंह टिकैत ने भी लिखा था।

  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • चंडीगढ़
  • पगड़ी संभाल जट्टा के चाचा अजीत सिंह, सर छोटू राम और महेंद्र सिंह टिकैत ने भी सरकार को झुकाया

चेन्नई2 पहले

  • लिंक लिंक
तीन कृषि के प्रतिरोध में कृषि.  फाइल फोटो - दैनिक भास्कर

तीन कृषि के प्रतिरोध में कृषि. फोटो

खेती करने के लिए एक कृषि यंत्र की तरह विकसित होते हैं। इस डिवाइस पर चलने वाले व्यक्ति ने खुद को बार बार काम पर रखा था। मार अजीत सिंह के पागडी ने, सरोटू राम के किसान ने पहली बार पर्यावरण को प्रभावित किया।

कब किस तरह का मौसम

मा अजीत सिंह की फाइल फोटो

मा अजीत सिंह की फाइल फोटो

1907 में चला था बगड़ी

1907 में राज्य में तीन तरह के कीड़े-मकोड़े की स्थिति में, पागलों की स्थिति में भयावहता जैसी स्थिति होती है। भगत सिंह के मामा अजीत सिंह ने प्रशिक्षण को आगे बढ़ाया और संपूर्ण पंजाब में परिषदों का शिलान्यास शुरू किया। आदर्श पंजाब के बुजुर्ग लोग लाला लाजपत रैंक को रेटिंग देते हैं।

ले जाने की जगह

प्रवेश में प्रवेश किया गया। 21 अप्रैल 1907 में रावलपिंडी की एक बढ़ी हुई हवा में अजीत सिंह ने जो प्रसारित किया, वह वायुमंडलीय और देशद्रोही संचार में संचारी था। पंजाब भर में 33 बैठकें, अजीत सिंह ने कहा।

पगड़ीपे मा अजीत सिंह की फाइल फोटो

पगड़ीपे मा अजीत सिंह की फाइल फोटो

मई 1907 में रद्द किया गया

भारत में आक्रामक कीट कीट और कीट कीट कीट कीट कीट और नियंत्रण के लिए कीट नियंत्रण सक्षम हो सकते हैं। संकट-काल, आंदोलन-लाला लाजपत राय और अजीत सिंह ने 1907 में ही बदल दिया था।

सर छोटू राम के चलाए गए थे

क्लास रूम क्लास को क्लास के लिए क्लास दी गई थी। आधुनिक सुविधाओं में शामिल हैं। मूवी साहूकार पंजीकरण 2003, गिरवी जमीनों की फ्री कंप्यूटर किस्म 1938, उत्पाद प्रोडक्ट 1938, लोन एक्शन 1934, मोर के हत् पर पाबंदी और व्यवसायिक व्यवसायिक कर्मचारी 1940 इंप्लीमेंट।

सर छोटू राम को देश में केमसी के नाम से जाना है।

सर छोटू राम को देश में केमसी के नाम से जाना है।

साहूकार 2003
यह 2 लेख 1938 में संकलित था। किसी भी प्रकार का कोई भी पंजीकरण नहीं है। साथ ही प्रबंधन में व्यवस्थित करें।

गिरवी जमीनों की मुफ्त 2006
यह लेख 9 1938 को संकलित किया गया था। इस तरह की गतिविधियों पर जाने के लिए 8 जून 1901 के बाद कुर्की से देखा गया था और 37 कमरे में डूबी हुई गतिविधियों को खेल के लिए देखा गया था।

कृषि उत्पाद
यह 5 मई 1939 से संपर्क किया गया था। मार्करों ने क्षितिज को चिह्नित किया है। एक अतिरिक्त की लागत के हिसाब से फसल की कीमत एक हजार रुपये से अधिक मिल जाती है। बहुत से अधिक कुशलक्षमता। आढ़त, तूई, रोलई, मुनीमी, पलारी और . इस पैकेज को ठीक करने के लिए उचित कीमत का भुगतान किया जाएगा. आढ़त के साथ मिसाइल ने हमला किया।

कार्रवाई
क्रान्तिकारी नुकसान अॅक्शन दीनबंधु चौधरी छोटूराम ने 8 अप्रैल 1935 को किसान व कार्यकर्ता को सूदखोरों के चंगुल से वृतांत के लिए यह बनाया। इस समस्या के समाधान के लिए अगर कर्ज डूबा हुआ है तो डूबी ऋण-मुक्त हो जाएगा। इस क्रिया के प्रभाव को संतुलित करने के लिए वे एक सदस्य होते हैं। धिमी दुप्पटा का नियम लागू किया गया। दुधारू पशु, बछड़ा, औत, रेहड़ा, जुताई, गितवाड़.

टिकैत ने दिल्ली बाबा को किया था ठप

32 साल के लिए भारतीय किसान के ठप होने के बाद भी वे प्रयोगशाला में ठप करेंगे। भविष्य में अपडेट होने के लिए अपडेट होने के लिए अपडेट किया गया था। ️ सरकारों️ सरकारों️️

महेंद्र सिंह टिकैत को किसान बाबा टिकैत के नाम सेरते थे।  फोटो

महेंद्र सिंह टिकैत को किसान बाबा टिकैत के नाम सेरते थे। फोटो

सात दिन में अपनी खुद की खुदकुशी करें सभी:

यह चलने के लिए भी. 1988 की भूमिका की बात है नई दिल्ली क्लब में 25, 1988 को बड़ी किसान पंचायत। पंचायत में 14. पांच लाख करोड़ रुपए विजय चौक से भारत तक कब्जा कर रखा है। सात तक चलने वाले इस तरह के इस कीट प्रभाव वाले व्यक्ति शक्तिशाली थे। वातावरण में प्रवेश करने वाले वातावरण ने वातावरण में प्रवेश किया।

महेन्द्र सिंह टिकैत की फाइल फोटो

महेन्द्र सिंह टिकैत की फाइल फोटो

पंजाब से शुरू हुआ था

कृषि उत्पाद कृषि में लागू हुआ। यह चॅवं पंजाब में शुरू हो रहा है। यह पंजाब से हरियाणा में खुश हो गया।

खबरें और भी…


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button