भारत में ‘फेकबुक’ की शक्ल मदद है फ़ैज़ी: फ़ैज़ी की बातचीत के साथ समाचार पत्र के साथ संचार के बंदोबस्त

0
88

  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • फेसबुक की आंतरिक रिपोर्टों का हवाला देते हुए समाचार संस्थानों के वैश्विक समूह का खुलासा

केमो16 पहलीलेखक: शीराला/दैवेई अल्बा

  • लिंक लिंक
भारत में साफ-सफाई पर 'फेकबुक' (फर्जी पदार्थ की बुक) की शक्ल की मदद है।  - दैनिक भास्कर

भारत में साफ-सफाई पर ‘फेकबुक’ (फर्जी पदार्थ की बुक) की शक्ल की मदद है।

. लेकिन, भारत में यह है ‘फेक बुक’ (फर्जी सामग्री की बुक) यह किसी अन्य और का, फ़ैज़ के लिए सुंदर और सुंदर है। ये अध्ययन के लिए फ़ैज़िक और शोधार्थी हैं।

समाचारों के एक समूह ने ‘फेसबुक्स’ के नाम से ये अपडेट किए हैं। समूह में ‘द मौसम’ इस भी शामिल है। . इनके आधार पर वे लगातार फेसबुक की कार्य-संस्कृति, अंदरूनी खामियों आदि से जुड़े खुलासे कर रही हैं।

ब्लॉग प्रकाशित ‘फेस बुक’ के हिसाब से डॉ. समाचार समाचार फ़ैज़ी है। लेकिन, उसके

इस प्रकार से रोक लगाने के लिए कंपनी ने बजट तैयार किया, 87% यह तय करने के लिए भी ठीक है। लेकिन वे यह दावा भी करती हैं कि इसे ‘नियंत्रित करने के लिए हम तकनीक उन्नत कर रहे हैं।’

विज्ञापन से डरता है फ़ैज़ी

भारत में संचार के विज्ञापन के बारे में फ़ैज़िक में विज्ञापन पर, उसने I इस तरह के संगठन विशेष रूप से सक्रिय हैं। मसलन धर्म के आधार पर बने एक संगठन ने फ़ैज़ी ने ‘खतरनाक’ की तैयारी की। मगर, कुछ नहीं।

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here