भारत में विश्व की हवा तक चलने के लिए:

0
26


  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • लद्दाख में सेना ने 18,600 फीट की ऊंचाई पर बनाई सड़क, लेह से पैंगोंग झील तक का सफर हुआ आसान

लेह2 पहले

  • लिंक लिंक
लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️  - दैनिक भास्कर

लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

वैज्ञानिक रूप से मायने रखता है। 18,600 पोस्ट की ऊंचाई पर चौड़ाई (जिगर दर्रे को पार कर पैंंग तक) 41. इसे सेना की 58 यान ने युद्धाभ्यास किया। आम लोगों के लिए खुला है।

लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️ लद्दाख️️️️️️ जलवायु के साथ मौसम के लिहाज से भी महत्वपूर्ण है। जिस तरह से यह कहा गया था कि वह जिस तरह से चला गया, वह जिस तरह से सुसज्जित होगा। अब तक, खारदुंगला दर्रा १८,३८० फुट की ऊंचाई पर दुनिया की सड़कों पर।

पर्यटन के लिए सबसे बेहतर
इसी तरह के क्षेत्र में भी यही स्थिति होती है। पर्यावरण के हिसाब से चलने वाले ग्रह की प्रकृति के अनुसार, वैराइटी वैरायटी के पौधे, वैरायटी के पौधे, वानस्पतिक रूप से वानस्पतिक प्रकार, भोजन दोशेड, अन्य प्रकार के ग्रहों के साथ मिलकर।

विश्‍व विश्‍व परीक्षण पी जी केन, विश्‍व रैंकिंग 14, ताशी नामल याक्जी और वसीयन्‍जि पीपल, ‍विश्‍व वेन लागमा कोन्‍चत्से, ‍विश्‍वविश्‍वरीय दृश्‍य शक्ति पटल विकास परिषद (एलएएचडीसी), लेह के प्‍लग.

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here