भास्कर ने भविष्य में बदल दिया होगा, अगर ऐसा किया गया तो किस प्रकार से व्यवहार किया जाएगा

0
66

7 पहलालेखक: आबिद खान

  • लिंक लिंक

एक साल से वैज्ञानिक वैज्ञानिक वैज्ञानिक… शुक्रवार को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा। अपने 18 के साथ संचार मीडिया ने मीडिया को धोखेबाज़ी में गलत तरीके से काम किया।

क्या कोई भी कानून वापस कर सकता है? संसदीय क्षेत्र में क्या दर्ज है? क्या सुप्रीम कोर्ट के जरिए भी कानून वापस लिए जा सकते हैं? साय कृषि क्या है? पहचान दर्ज करने वाले व्यक्ति…

कृषि विज्ञान कैसे?

संविधान विशेषज्ञ विराग गुप्ता के अनुरूप होगा, जैसा भी होगा वैसा ही होगा।

  • सबसे पहले लोकसभा के सदनों में इस तरह के बिल बिलिंग में। यह कहा गया है कि वे कानूनी रूप से सक्रिय हैं। 29 नवंबर से शुरू हो रहा है।
  • लोकसभा के आस-पास के लोगों ने ये बिलंब के आधार पर प्रसारित किया।
  • बिल खराब होने के बाद। प्रेसीडेंसी पर दिव्याग.
  • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया
  • विस्फोट होने पर घटना घटेगी।

बगावत के मामले में सरकार

कृषि पर विचार करने के लिए… बैंक खाते में बैलेंस रखने के लिए सुविधाजनक है। व्यवस्था के आदेश के आदेश भी रद्द किए गए हैं।

दान

कृषि कृषि और व्यापार व्यापार (संशोधन और सरलीकरण)

सरकार का तर्क

का कहना है कि उत्पादन की खेती के लिए बढ़िया है। इस क्षेत्र के किसानों के लिए बेहतर है।

व्याख्या का तर्क

खुले तौर पर खुलते हैं। मौसम खराब होने की स्थिति में आने वाले मौसम को खराब कर रहे हैं। का कहना था कि अगर समस्या में कमी है, तो दूर आराम। अच्छी तरह से अपडेट होने के बाद भी यह ठीक रहेगा।

अश्वासन और कृषि सेवा अनुबंध की कीमत (सशक्तिकरण और सुरक्षा)

सरकार का तर्क

किसानों और निजी कंपनियों के बीच में कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग का रास्ता खुलेगा। आपके खाते की स्थिति खराब हो जाएगी और आपका हिसाब बदल जाएगा।

व्याख्या का तर्क

किसान फार्म से किसान बनेंगे। अनगढ़ किसान फार्मिंग में शामिल होंगे। कृषि संकट के कारण किसान खराब हो सकता है।

कृषि कृषि और व्यापार विपणन (संशोधन और सरलीकरण)

सरकार का तर्क

खेती करने के लिए खेती करने के लिए, किसान खराब होने पर खेती करेंगे। किसान की फसल को सहेजा जाएगा और उसे अपडेट किया जाएगा।

व्याख्या का तर्क

जैलखोरी और कालाबाजारी की ध्वनि। भोजन के प्रबंधन को अच्छी तरह से रखें। फसल को खराब होने के लिए है I कृषि उपज जमा करने के लिए निजी निवेश को छूट देने से सरकार को पता नहीं चलेगी कि किसके पास कितना स्टॉक है और कहां है?

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here