मछलियां: पावले के जाल में एक फंसा हुआ 157 सी गोल्ड मछलियां, यूपी और बिहार के लिए 1.33 करोड़ में

0
21


पालघरकुछ समय पहले

  • लिंक लिंक
मछलियों को पकड़ने के बाद खुशी दर्शाते चंद्रकांत के बेटे सोमनाथ तरे।  - दैनिक भास्कर

मछलियों को पकड़ने के बाद खुशी दर्शाते चंद्रकांत के बेटे सोमनाथ तरे।

महाराष्ट्र के पौलघर में एक मछुआरे पर भाग्य कुछ और है कि एक बच्चे में करोड़पति बन गया। पौल के चंद्राकांत 7 के साथ शांत थे। जब इन ने समुद्री में जाखे, तो ‘सी गोल्ड’ जाने जाने वाले लोग दुर्लभ गीत गाने वाले थे।

माना

माना

चंद्राकांत ने इसी तरह की समस्याओं के चलते 157 घाल मछलियों को एक साथ रखा। ये मछलियां 1.33 करोड़ रुपये में बिक रही हैं। ऑक्शन पोल घर के मुर्बे में लगा हुआ है. चंद्रकांत के सोमनाथ ने हरि को 85 हजारा में बदल दिया।

समुद्री तट से 20 से 25 नॉ
सोम ने कहा कि 7 लोगों के साथ खेलने वाली देवी नाम नाव से मछली में 20 से 25 की गति से चलने वाली आंतरिक वाधवान की दिशा में थी। रहस्यमयी प्राणी 157 घाल मछलियां फँस गए। इसके रखेंगे।

‘सी गोल्ड’ का प्रयोग
घोल के मंत्री ‘प्रोटोनीबिया डायकैंथस’ है। यह ‘सी गोल्ड’ भी कहा जाता है। . , सर्जरी के दौरान इस्तेमाल होने वाले धागे, जो अपने आप गल जाते हैं, वे भी इसी मछली से बनाए जाते हैं।

टांके में इस्तेमाल होने वाली क्रियाएँ ठीक हो जाती हैं।

टांके में इस्तेमाल होने वाली क्रियाएँ ठीक हो जाती हैं।

यू.पी
समुद्र में प्रदूषण की मात्रा बढ़ जाने की वजह से अब ये मछलियां किनारे पर नहीं मिलती हैं। इन समस्याओं को दूर करने के लिए महत्वपूर्ण है। सोमनाथ के मुताबिक, इन मछलियों को यूपी और बिहार से आए व्यापारियों ने खरीदा है।

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here