HomeIndia Newsमहाराष्ट्र प्राइडर को मिला उपमुख्यमंत्री की पत्नी का साथ: अमृता फडणवीस बोलीं-...

महाराष्ट्र प्राइडर को मिला उपमुख्यमंत्री की पत्नी का साथ: अमृता फडणवीस बोलीं- राज्यपाल दिल से एक मराठी मानुष

Date:

Related stories

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • भगत कोश्यारी विवाद; राज्यपाल के बयान पर देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता

मुंबई2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

महाराष्ट्र में छत्रपति शिवाजी पर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की टिप्पणी पर भारी विवाद के बीच, उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस उनके समर्थन में उतरे हैं। उनका मानना ​​है कि राज्यपाल दिल से एक मराठी मानुष हैं। महाराष्ट्र आने के बाद वे मराठी सीखते हैं।

- Advertisement -

उद्र, वायुमार्ग समूह के नेता संजय राउत ने राकांपा नेताओं के नामांकन पत्र से मुलाकात की और राज्यपाल के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करने को लेकर चर्चा की।

अमृता बोलीं- राज्यपाल मराठी से प्यार करते हैं
अमृता फडणवीस ने कहा- मैं राज्यपाल को व्यक्तिगत रूप से निर्दिष्ट करता हूं। वह वास्तव में मराठी से प्यार करते हैं। मैंने खुद इसका अनुभव किया है, लेकिन कई बार ऐसा हुआ है कि उन्होंने कुछ कहा है और इसका मतलब कुछ और निकल गया है, लेकिन वह दिल से एक मराठी मानुष हैं। राज्यपाल कोश्यारी की टिप्पणी के विरोध में अब चमक के रास्ते भी आ गए थे। ऐसे में अमृता की टिप्पणी ने एक नया राजनीतिक माहौल खड़ा कर दिया है।

अमृता फडणवीस महाराष्ट्र के राज्यपाल के समर्थन में आया है।  उनके समर्थन के बाद कई राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं।

अमृता फडणवीस महाराष्ट्र के राज्यपाल के समर्थन में आया है। उनके समर्थन के बाद कई राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं।

पहले गवर्नर का बयान पढ़ा
राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने पिछले शनिवार को औरंगाबाद में कहा था- पहले जब आपसे पूछा गया था कि आपका आइकॉन कौन है, तो जवाहरलाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस और महात्मा गांधी होता था। अब महाराष्ट्र में आपको कहीं और देखने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यहां बहुत सारे आइकॉन हैं। छत्रपति शिवाजी महाराज तो पुराने दिनों के आइकॉन हैं। अब भाई आंबेडकर और नितिन गडकरी हैं। हालांकि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने एक कार्यक्रम को मराठी में संदेश देते हुए कहा कि शिवाजी महाराज हमारे भगवान हैं।

विधायक बोले गए राज्यपाल के रूप में ‘अमेजन पार्सल’ वापस ले जाएं
एक दिन पहले ही मदरबोर्ड ठाकरे ने कहा था कि केंद्र सरकार के गवर्नर सरकार के रूप में ‘अमेजन पार्सल’ को वापस बुला लें। हम यहां महाराष्ट्र में यह पार्सल नहीं चाहते हैं। केंद्र सरकार इस नमूने को दूसरी जगह भेज या वृद्धाश्रम भेज दे। उड़ने वालों ने कहा कि सभी महाराष्ट्र प्रेमी उनके बयानों का विरोध करते हैं। अगर बीजेपी के लोग भी असहमत हैं तो वे भी शामिल हो सकते हैं। पूरी खबर यहां पढ़ें…

शिंदे गुट के नेता ने भी राज्यपाल के बयानों का विरोध किया था
राज्यपाल के बयान पर शिंदे गुट के नेता ने भी विरोध जताया। संजय गायकवाड़ ने कहा था- राज्यपाल को यह भरना चाहिए कि छत्रपति शिवाजी महाराज के आदर्श कभी पुराने नहीं होते और उनकी तुलना दुनिया के किसी भी महान व्यक्ति से नहीं की जा सकती। केंद्र में बीजेपी नेताओं से मेरा अनुरोध है कि एक ऐसा व्यक्ति जो राज्य के इतिहास को नहीं जानता है और यह कैसे काम करता है, उसे कहीं और भेज दिया जाए। पूरी खबर यहां पढ़ें…

महाराष्ट्र के राज्यपाल से जुड़ीं और खबरें यहां पढ़ें…

महाराष्ट्र के बोले गवर्नर- मुंबई से राजस्थानियों-गुजरातियों को निकाल दो तो यहां पैसा नहीं बचेगा

भगत सिंह कोश्यारी ने मुंबई में एक कार्यक्रम में मुंबई की आर्थिक राजधानी होने का श्रेय राजस्थानियों और गुजरातियों को दिया था। कोश्यारी ने कहा था, ‘महाराष्ट्र से, विशेष रूप से मुंबई और ठाने से गुजरातियों और राजस्थानियों को निकाल दो तो यहां कोई पैसा नहीं बचेगा। ये आर्थिक राजधानी कहलाएगी नहीं।’ पूरी खबर पढ़ें….

कोश्यारी के बयानों पर रेडियो ने कहा- राज्यपाल ने महाराष्ट्र में हर चीज का आनंद लिया, अब कोल्हापुरी चप्पलें भी देखें

महाराष्ट्र के पूर्व दावेदार ठाकरे ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के गुजरातियों और राजस्थानियों वाले बयानों पर जवाब दिया था। उडाऊ ने कहा कि राज्यपाल ने महाराष्ट्र में हर चीज का आनंद लिया है। अब समय आ गया है कि वो कोल्हापुरी चप्पलें भी देखें। पूरी खबर पढ़ें….​

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here