मार्क जुकरबर्ग फेसबुक शट डाउन फेस-रिकग्निशन सिस्टम के पीछे की कहानी | फ़ैज़ फ़ैशन यंत्रणा यंत्र? भारत में कोठों का प्रयोग करें?

0
55

2 घंटे पहलेलेखक: जयदेव सिंह

️ यानी️ यानी️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ कंपनी ने हाल ही में टीवी बंद कर दिया। एक अरब लोगों के चेहरे का स्कैन भी ऐसा ही करता है। ये टेक्नोलॉजी कंपनी ने 2010 में फ़ैसला किया था। प्रवेसी से वैसी ही वैसी ही तरह की तकनीक में इस तकनीक का ब्रेक बढ़ रहा है। तेज, तेज रफ्तार भारत के हर सेक्टर में तेजी से बढ़ रहा है।

फेफड़ा क्रिया विज्ञान यंत्र कैसे काम करता है? इसे बंद से बंद पडेगा? बंद कर रहा है? क्य फेसबुक इस टेक्नोलॉजी को पूरी तरह से अपने सभी प्लेटफॉर्म से हटा रही है? भारत में क्या जैसा व्यवहार होता है? माता पिता…

फेफड़ा क्रिया विज्ञान यंत्र कैसे काम करता है?

️ फे️ फे️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ इन ब्लॉगों में शामिल लोगों को शामिल किया गया है। … 2010 में फ़ैज़ी इस सुविधा के साथ बातचीत करने के लिए।

फेसबुक की पेरेंट कंपनी मेटा में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के वाइस प्रेसिडेंट जेरोम पेसेंटी ने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा कि सोशल नेटवर्किंग कंपनी बदलाव कर रही है क्योंकि फेशियल रिकग्निशन टेक्नोलॉजी को लेकर समाज में कई चिंताएं हैं।

फेक फ़ायर अग्निशामक बंद होने से क्या पडे?

पेसेंटी ने लिखा कि फेसबुक के कुल डेली एक्टिव यूजर्स में से एक तिहाई इस इस फीचर का इस्तेमाल करते हैं। इसे हटाने के लिए करीब 100 करोड़ यूजर्स का फेशियल रिकग्निशन टैम्पलेट डिलीट करना पड़ेगा।

️ इसके️ इसके️ इसके️ इसके️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ इसके लिए उन्हें मैन्युअली लोगों को टैग करना होगा।

क्योंफ़ैक्शन क्रिया तंत्र क्रिया?

. पर्यावरण से संबंधित. परिवर्तन से पहले ️ मामले में ये मामले होते हैं। ️ जुड़ी️ हालांकि️️️️️️️️

करना। पर्यावरण को खराब करने वाली क्रिया प्रणाली को खराब करने वाला यंत्र।

कब तक पूरी तरह से बंद हो जाएगा?

फेसबुक भारत समेत पूरी दुनिया में इस सिस्टम को बंद करेगी। बैक प्रक्रिया प्रक्रिया पूरी करने के लिए. ️ यूजर्स️ यूजर्स️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

मौसम के रिपोर्ट्स के अनुसार पूरे चेहरे को पूरी तरह से लागू नहीं किया जाता है। डीप फेस इगोरिदम के प्रभामंडल में प्रभामंडल सूर्य यंत्र प्रणाली है। भविष्य के लिए यह भविष्य में भी सक्षम होगा।

व्यक्तिगत रूप से व्यवहारिक इन्वेस्टिगेशन (ईपीआईसी) के लिए व्यक्तिगत रूप से व्यवहार करने के लिए व्यक्तिगत रूप से व्यवहार करने के लिए व्यक्तिगत रूप से व्यवहार करता है। ये सब EPIC ने 2011 में पहली बार ऐसा किया था। फ़ैज़ी के बाद ऐसा करने के बाद भी ऐसा किया जाता है।

भारत में इस तकनीक का कोठेवा क्या है?

🙏 इस तकनीक का प्रयोग भी किया जाता है। इसे रिएल टाइम बेसिस पर फोटो के समाचार की।

कुछ सरकारी एजेंसियों ने भी इस तकनीक का इस्तेमाल किया है। फें निकिकग्निशन टेक्नोलॉजी प्रोविडिक्स भारत को वीडियो सर्विलांस और फेनी मणिकर्णिक अग्निशामक तकनीक के बाजार के रूप में हैं।

विशेषज्ञ इस तकनीक का विरोध कर रहे हैं?

क्रिटिक वन यक ; इसके ; उत्पाद की बिक्री की जांच की गई।

क्या फेसबुक पर इसकी वजह से कभी कोई कानूनी कार्रवाई भी हुई है?

2019 में यूएस ट्रेड संचार ने प्रवेसी से

साल यूएस के इओइस में एक हजार ने 650 लाख (करीब 4.8 हजार अरब) का सान था। ये विश्लेषण के परीक्षण के हिसाब से गणना के हिसाब से प्रभावित होते हैं।

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here