यह दावा करने के लिए:

0
50

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • भारत रूस | भारतीय सेना रूस द्वारा आपूर्ति किए गए उपकरणों के बिना प्रभावी ढंग से संचालन नहीं कर सकती है

नई दिल्ली3 पहले

  • लिंक लिंक
CRS की घटना में यह कहा गया था कि भारत की तरह व्यवहार में भी ऐसा ही होगा।  (फाइल फोटो) - दैनिक भास्कर

CRS की घटना में यह कहा गया था कि भारत की तरह व्यवहार में भी ऐसा ही होगा। (फोटो फोटो)

कंप्यूटर से संबंधित अमेरिका की बैंकिंग सेवा (सीआरएस) ने यह जानकारी दी है। हालांकि, यह भी कहा गया था कि भारतीय सेना से भी सक्षम है। साथ में आने वाला समय भी इसी तरह रहेगा।

यह इस तरह के मौसम के अनुकूल है। अमेरिका सीएएटीएसए के मामले में भारत पर पाबंदी का विचार करता है। किसी भी प्रकार से खतरनाक स्थिति से निपटने के लिए आवश्यक है। यह गलत है।

तकनीक से S-400 वायु विज्ञान की खरीद 2016 बैठी
मौसम में बने S-400 वायु विज्ञान की खरीद की योजना 2016 से बैठी भारत। यह डील हो रही है। यह कि सीआरएस जानकारों के अलग-अलग समय-समय पर अलग-अलग होते हैं। : समस्याओं को हल करने में मदद करने के लिए।

मेडिटेशन के बारे में
सीआरएस की रिपोर्ट के अनुसार, 2015 के बाद दोबारा चालू होने के बाद उसे पूरा किया जाएगा। 2010 से दो-तिहाई (62%) गुणवत्ता की खरीद कर। इस तरह का सबसे बार टायलेट, टाइप का एक-तिहाई (32%) भारत को दी गई।

भारत के शस्त्रागार में प्रजनन में
यह कहा गया है कि द मिलिट्री सेना 2021 के लिए शस्त्रागार भारत में तैयार की गई होगी या डिज़ाइन की गई होगी। । परमाणु संवाद-संक्रमण में बैठने की स्थिति पर सत्र पर बैठने की स्थिति में है और सुविधा में 14 पन्नेपन डबब्बियों में “रूसी” हैं।

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here