HomeWorld Newsयह पृथ्वी का समय एक पैमाना आगे बढ़ाने वाला सिस्टम, 50 साल...

यह पृथ्वी का समय एक पैमाना आगे बढ़ाने वाला सिस्टम, 50 साल पहले शुरू हुआ था | लीप सेकंड 2035 में सेवानिवृत्त हो जाएगा

Date:

Related stories

महबूबा मुफ्ती का केंद्र को संदेश: कश्मीर का मसला हल नहीं किया, तो कितने भी आरोप लगाते हैं कोई नतीजा नहीं निकलेगा

हिंदी समाचारराष्ट्रीयजम्मू कश्मीर मुद्दे पर महबूबा मुफ्ती बनाम नरेंद्र...

10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

लेखक: एलाना मिशेल

- Advertisement -

लिप्स या पृथ्वी के समय को एक-एक करके आगे बढ़ाने की व्यवस्था 2035 में खत्म हो जाएगी। शुक्रवार को वर्सेलिस, फ्रांस में साइंस एंड मेजरमेंट स्टैंडर्ड की अंतरराष्ट्रीय संधि के सदस्यों ने यह फैसला किया। इसके लिए प्रस्ताव लगभग आमराय से पास कर दिया गया। वैश्विक वैज्ञानिकों के आँकड़े इस पर राहत की सांस लेते हैं। पिछले कई सालों से कुछ संतों से लीप की समस्या हल करने के लिए दबाव डाला जा रहा था।

लिपोपचार क्या है?
शुरुआत के 50 साल पहले से लीप पैंसेज से समस्या हो रही है। इंटरनेशनल एटॉमिक टाइम क्लॉक से मिलान करने के लिए यह तरीका आजया गया है। धरती के अपने धुरे पर घूमने की गति एटॉमा घड़ी के समय से थोड़ी धीमी है। इसलिए जब एटोमिक टाइम एक पेज आगे रहता है तब उसे पृथ्वी के बराबर करने के लिए एक छिपाने से रोकते हैं। 1972 में जब बदलाव शुरू हुआ तब दस लीप एटॉमिक टाइम स्कैन में जोड़े गए। उसके बाद उसके 27 और पहचान पत्र टूट गए।

लिप्स से जुड़ी कई परेशानियां होती हैं
1972 के बाद से लिप पेपर के कारण रुकावट हो रही है। आज टेक्निकल पेचीदगियां लगने लगी हैं। यह सटीक सटीक संकेत देता है कि अगले लिप्स की आवश्यकता कब दिखती है ताकि कंप्यूटर नेटवर्क को उसके होश से तैयार किया जा सके। विभिन्न नेटवर्क ने अतिरिक्त विस्तार जोड़ने के लिए स्वयं के तरीके अपनाए हैं। फिर आधुनिक तंत्र एक-दूसरे से बहुत अधिक जुड़े हुए हैं।

वे पूरी तरह नामधारी समय पर स्थायी हैं। कई बार तो यह आंकड़ा के अरबवें हिस्से तक होता है। टेलीकम्युनिकेशन नेटवर्क, बिजली कनेक्शन, वित्तीय आवंटन और अन्य गंभीर काम से संबंधित संबद्ध मंडलों में एक अतिरिक्त जुड़ाव जुड़ा हुआ जोखिम भरा होता है। वे ठप या अस्तव्यस्त हो सकते हैं।

रूस ने छलांग लगाने का समय आगे बढ़ाया
अनाधिकृत समय प्रणाली ने धीरे-धीरे दुनिया के अधिकृत अंतर्राष्ट्रीय समय, समन्वित यूनिवर्सल टाइम (यूटीसी) की जगह लेना शुरू कर दिया है। यूटीसी के लिए लीप को खत्म करने का फैसला किया है। रूस लीप सभी को खत्म करने का समय आगे बढ़ाना चाहता है क्योंकि उसके ग्लोबल नेवीगेशनल पोजीशनिंग सिस्टम में अतिरिक्त आकार शामिल हैं। दूसरी ओर अमेरिका के आतंक में ऐसा नहीं है। रूस की चिंता को ध्यान में रखते हुए लीप को 2035 तक खत्म नहीं किया जाएगा।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here