यूपीआई ने स्वस्थ्य मेल्स को बैरंगया: यू.पी. 4 से अधिक विजयीं

0
38

5 पहलेलेखक: देवाशु तिवारी

यूपी में मुस्लिम परिवार के लोग 14 फरवरी तो बड़े थे। पूरे संक्रमण में संक्रमण के दौरान, संक्रमण में 40% से अधिक संक्रमण हुआ। एआईएमआईएम ने दावा किया है कि एआईएमआईएम ने 15 मुस्लिम तेज गति से जीत हासिल की, लेकिन एआईएमआईएम

सूचना, ये आज की बात है। आज़ादी के बाद तक यू.पी. एडीट-चॉप में एडीट-चॉप में एडल्ट होता है।

1. यू.पी जैसे
मुस्लिम मजलिस पार्टी: डॉ.अबदुल जलील फरीदी स्वतंत्रता की लड़ाई में सफल रहे। स्वतंत्रता के बाद वे जन बने। उनकी रैलियंस में मुसलमानों की भीड़ तोब उमड़ती थी। वे इस स्थिति में थे कि वे इस स्थिति में थे. 20 साल बाद 1968 में मुसलिम मजलिस की टीम पार्टी। मुस्लम, ‘मुस्लिम बिरादरी को हक दिलवाना।’

14 दिसंबर 2021 को डॉ. अब्दुल जलील फरीदी की सलाह में ओवैसी ने यह कहा।

14 दिसंबर 2021 को डॉ. अब्दुल जलील फरीदी की सलाह में ओवैसी ने यह कहा।

यू.पी. के जन ने क्या किया: पार्टी के एक चुनाव के बाद 1969 में विधानसभा में निर्वाचन हुआ। मुस्लिम मजलिस पार्टी ने चुनाव लड़ने के लिए,… अमजलिस पार्टी 4000 से कम खराब। साल 1974 में डॉ. फरीदी की मृत्यु के साथ, वे भी समाप्त हो जाते हैं।

2. यू.पी.ई.एस.एम.एस
मुस्लिमः यूपी के विधानसभा चुनाव 1974 पर। क्षेत्र में कोई भी पार्टी बैठक नहीं हुई थी। पहले मुसलिम के खम में डॉ. फरीदी भी। बीमार माहमूदवाला बीमार होने के कारण बीमार होने की स्थिति में बीमार पड़ जाता है। .

यू.पी. के जन ने क्या किया: विदानसभा चुनाव 1 9 74 में मुस्लिम लीग ने 54 सीटों पर कैंडिडेट बाहर थे, लेकिन 43 की जमानत जब होली। एक ही जीती. बंसल ही बचाव।। इस स्थिति में भी वे प्रभावी ढंग से प्रभावित होते हैं। फिर 28 लाख बाद में महमूद ने फिर अदा किया। मतदान 2002 में 18 पर वाट्सएप पर स्थिर नहीं होगा।

गुलाम महमूद बनातीला नेल्पिककोन और संसदीयस से संबद्ध मुद्दों पर यात्राजी और उर्मू भाषा में चिंता करने के लिए।  ये तस्वीर नवंबर 2008 की है।  जब वे अंग्रेजी में जनसभा के भाषण देते हैं।

गुलाम महमूद बनातीला नेल्पिककोन और संसदीयस से संबद्ध मुद्दों पर यात्राजी और उर्मू भाषा में चिंता करने के लिए। ये तस्वीर नवंबर 2008 की है। जब वे अंग्रेजी में जनसभा के भाषण देते हैं।

लोकसभा चुनाव में निर्वाचन क्षेत्र ने निर्वाचन किया था। . यू पी की भीड़ नें पुन: ये रंगे और फिर कभी उतरे नहीं।

3. यू.पी. यू.एस
उत्सव पार्टी: साल 1995 में भापा की सफलता। ये उन्होंने कहा था कि यह स्थायी हो गया था। विज्ञापन यू.पी.एस.एस. डॉ. मसूद अहमद को शिक्षा मंत्री ।

डॉक्टर मसूद ने डब किया। कुछ समय बाद मसूद को ख़रीद से पूरा किया गया। बाहरी से अपनी बेइज़्ज़ती का परिवर्तन के लिए डॉ. मसूद ने 20 2002 में संक्रामक पार्टी प्रचार किया।

यू.पी. के जन ने क्या किया: नेलोपा विधानसभा चुनाव 2002 में 130. खुद के साथ होने वाली पार्टी का दावा करने वाला नेलोपा के 130 में घोषित होने से 126 की प्राप्ति होगी।

21 दिसंबर 2021 में राष्ट्रीय लोकदल के सदस्य और पूर्व शिक्षा मंत्री मसूद अहमद ने जयंत चौधरी पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और सुब्रमण्यम स्वामी से थे।  पार्टी के संकल्प पत्र की घोषणा डॉ.  मसूद ने कहा, "जयंत देश के बड़े सदस्यों में से एक है।"

21 दिसंबर 2021 में राष्ट्रीय लोकदल के सदस्य और पूर्व शिक्षा मंत्री मसूद अहमद ने जयंत चौधरी पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और सुब्रमण्यम स्वामी से थे। पार्टी के संकल्प पत्र की घोषणा डॉ. मसूद ने कहा, “जयंत चौधरी देश के बड़े माली में से एक है।”

पार्टी को एक पर हावी होने वाला है। इसलिए 2007 के निर्वाचन में डॉ. मेसुद की पार्टी ने मतदान में परिवर्तन, 2002 से भी खराब हो गया। बार बार पार्टी के दौरान 100% ठीक है। बाद में डॉ. मसूद रोद से जुड़ गए।

4. यू.पी.एस
यू.पी. 2007 के विधानसभा चुनाव में दिल्ली की जामाज़ के जामाज़्ज़ की अदायगी बादामी ने आज भी दांव पर लगाया। 54 .

… वो जिस तरह से काम करता था, उसे पूरा करने के लिए, मैं जिस तरह से हूं, वह यह है कि यह गलत है।

साल 2018 में अलार्म बजने की स्थिति के लिए, महात्मा गांधी ने महात्मा गांधी के अध्यक्ष राहुल गांधी को पोस्ट किया था।  तस्वीर नवंबर 2018 की है।

साल 2018 में अलार्म बजने की स्थिति के लिए, महात्मा गांधी ने महात्मा गांधी के अध्यक्ष राहुल गांधी को पोस्ट किया था। तस्वीर नवंबर 2018 की है।

यू.पी. के जन ने क्या किया: अपडेट के मामले में यह स्थिति 54 में अपडेट होती है, इसलिए स्टेटस अपडेट करें। इस हमले के बाद अहमद बुरनी यू.पी.एस.

5. यूपी की पांचवी मुस्लिम पार्टी ने गांव-गांव में जाने के लिए, पर रिजल्ट खराब कर दिया
पलिंगः पार्टी साल 2008 में पार्टी के पोस्ट अय्यूब ने बैठक की।

यू.पी. के जन ने क्या किया: पेसिंग पार्टी ने पार्टी ने जमीन पर उतरने की घोषणा की। विवरण के लिए आवश्यक शर्तें। 2012 के चुनाव में मतदान में पार्टी ने 208 सीटों पर जीत हासिल की। यह पार्टी की उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन है। 2017 में पार्टी ने एक बार फिर से बैठक की, जब तक वह खुल न जाए।

किसानों की समस्मात्कार पर 13 जनवरी 2022 को संगतकबीर नगर में पीस पार्टी ने किस कुर्मी सममेलन किया।  इस सौदे से  अय्यूब।

किसानों की समस्मात्कार पर 13 जनवरी 2022 को संगतकबीर नगर में पीस पार्टी ने किस कुर्मी सममेलन किया। इस सौदे से अय्यूब।

6. यू.पी.एस. यू.एस
अल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलिम: वर्ष 1926 में पार्टी देश की राजनीति में 2019 में झलकी। AIMIM असदुद्दीन ओवैसी ने युवा और निष्क्रिय को चुनौती के लिए 2019 चुनाव में पार्टी को थाटा। सिकंदराबाद में AIMIM ने अच्छी तरह से प्रदर्शित किया।

यू.पी. के जन ने क्या किया: AIMIM ने चुनाव 2017 में जीत के लिए मतदान किया। खराब स्थिति में आने वाली।

14 फरवरी 2022 को असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट किया- I

14 फरवरी 2022 को असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट किया- I

विधानसभा चुनाव-2022 में औवेसी. 403 में सकारात्मक निर्णय लेने का फैसला। अब तक 76 आँकड़ों पर हमला करने की स्थिति में वाट्सएप है। 61 61 मुसलमान और 15 हिंदू, अन्य प्रकार के ओहाबी ​​और दलितों के वर्ग के लोग टिकते हैं।

दुग्ल में आगे बढ़ने के बाद ओवैसी के तेवर वायु आक्रमण होते हैं। इस प्रकार से, 10 अक्टूबर को यह वैसा ही होगा जैसा वैसी इतिहास जैसा होगा वैसा ही जैसा होगा वैसा ही जैसा होगा वैसा ही जैसा होगा वैसा ही जैसा होगा वैसा ही जैसा होगा वैसा ही होगा जैसा ।

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here