HomeWorld Newsये कोरोना काल में सबसे ज्यादा, 66 लाख की आबादी वाले 8...

ये कोरोना काल में सबसे ज्यादा, 66 लाख की आबादी वाले 8 लॉकडाउन में | 30,000 से अधिक मामलों के साथ, चीन का दैनिक कोविड टैली रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया

Date:

Related stories

फिर जहरीली हुई दिल्ली की हवा: रविवार को AQI 400 के पार रहा, कंस्ट्रक्शन पर बैन

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली AQI 400, वायु गुणवत्ता खराब होने पर...

झा4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

चीन में कोरोना संक्रमण फिर से बढ़ने लगा है। गुरुवार को 31,454 नए मामले मिले। कोरोना काल में ये सबसे ज्यादा है। इससे पहले सबसे ज्यादा 28,000 मामले इसी अप्रैल में मिले थे। राष्ट्रीय स्वास्थ्य ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार महामारी की शुरुआत के बाद से चीन का औसत औसत मामला रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया है।

- Advertisement -

इस बीच मामला बढ़ने की आड़ में चीनी प्रशासन ने झेंगझाउ और उसके आसपास के 8 लोगों के 66 लाख की आबादी को लॉकडाउन कब्जा कर लिया है। इस ऑर्डर से पहले इस क्षेत्र की 2 लाख की आबादी लदान महीने से लॉकडाउन में है। नया आदेश शुक्रवार से लागू हुआ।

मामलों में चीन के लिए बहुत अधिक युवावस्था है, क्योंकि नेताओं को यह तय करना होता है कि वायरस के प्रसार को सहन किया जाए, ताकि हर संभव प्रतिरक्षा हो सके।  या उद्योग को प्रभावित करने वाले सख्त प्रतिबंध फिर से लागू किए गए।

मामलों में चीन के लिए बहुत अधिक युवावस्था है, क्योंकि नेताओं को यह तय करना होता है कि वायरस के प्रसार को सहन किया जाए, ताकि हर संभव प्रतिरक्षा हो सके। या उद्योग को प्रभावित करने वाले सख्त प्रतिबंध फिर से लागू किए गए।

फैक्ट्री में प्रदर्शन
लॉकडाउन वाले क्षेत्र में शहरी शहर भी शामिल है, जहां एक दिन पहले आइसोलेशन और अन्य कार्य स्थिति को लेकर बगावत हुई थी। कर्मचारियों ने विरोध-प्रदर्शन किया। यहां पुलिस और फाइलों के बीच झड़पें भी हुई थीं। विरोध के अचूक प्रभाव के अलावा आसपास के अन्य कारक भी परेशान थे।

कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य
झेंगझाउ के अधिकारियों ने बड़े पैमाने पर परीक्षण अनुसंधान का आदेश दिया, जिससे शहर सहित आसपास के शहरों में प्रतिवाद करने की कोशिश की गई। आदेश में यह भी कहा गया है कि लोग तब तक अपना क्षेत्र नहीं छोड़ सकते जब तक कि उनके पास कोरोना निगेटिव रिपोर्ट न आयें और स्थानीय अधिकारियों की मंजूरी न हो। वह घर से बाहर भी नहीं निकल सकता।

बीजिंग से लेकर चोंगकिंग और ग्वांगझू तक के प्रमुख शहरों में मामलों में काफी हद तक स्थिरता है, क्योंकि संक्रमण अपार्टमेंट, ऑफिस और शॉपिंग सेंटर में फैलाव सीमित है।  शहर एक बार फिर से अपना टेस्ट बढ़ा रहे हैं।  वहीं, नए अस्थाई अस्पताल बनाने का काम तेज कर दिया गया है।

बीजिंग से लेकर चोंगकिंग और ग्वांगझू तक के प्रमुख शहरों में मामलों में काफी हद तक स्थिरता है, क्योंकि संक्रमण अपार्टमेंट, ऑफिस और शॉपिंग सेंटर में फैलाव सीमित है। शहर एक बार फिर से अपना टेस्ट बढ़ा रहे हैं। वहीं, नए अस्थाई अस्पताल बनाने का काम तेज कर दिया गया है।

चीन की जीडीपी का 20% क्षेत्र लॉकडाउन की जद में
लॉकडाउन का चीन का कारोबार पर लगातार असर हो रहा है। जानकार के अनुसार, चीन की जीडीपी में 20% योगदान देने वाला क्षेत्र इस लॉकडाउन भी या सख्त पाबंदियों से गुजर रहा है। उसके सेंट्रल बैंक को भी अगले साल चीन में 4.3% घटाकर 4% हाइलाइट किया गया है। पंजीकृत घटा की सबसे बड़ी वजह मुख्य व्यवसायी हब शंघाई में दो अप्रैल से लागू हुए दो महीने का भी लॉकडाउन है।

मांग: जीरो महामारी नीति चीन छोड़ें
झिंजियांग और तिब्बत के इलाकों में महीनों से ताला लगा हुआ है। अधिकारियों ने यह मांग उठाई है कि कोरोना को डूबने के लिए शंघाई जैसे बड़े शहरों को पूरा करने से लॉकडाउन से छूट दें। कुछ जीरो वाइड पॉलिसी में भर्ती की राय भी दे रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here