HomeIndia Newsराम रहीम को कर्तव्य मानने का डर: रोहतक जेल लौटने से पहले...

राम रहीम को कर्तव्य मानने का डर: रोहतक जेल लौटने से पहले कहा- बिकाऊ मत बनना, पुराने सेवादारों की तरह विश्वास बनाए रखना

Date:

Related stories

19वीं सदी में बनी 2 मंजिला इमारत जल कर खाक हुई | 19वीं शताब्दी में बनी दो मंजिला इमारत जलकर खाक हो गई

प्रत्यक्षएक मिनट पहलेकॉपी लिंकअमेरिका के प्रत्यक्ष में रविवार सुबह...

हिसार3 मिनट पहले

- Advertisement -

राम रहीम का 40 दिन का पैर टूट गया। सुनारिया जेल जाने से पहले राम रहीम ने 23 नवंबर की रात अपने सेवादारों को आखिरी संदेश दिया। राम रहीम ने हिमाचल चैय नगरी, पावंटा साहिब, सिरसा ट्रू डील में जुड़े सेवादारों को शामिल विश्वास रखने की बात कही।

- Advertisement -

- Advertisement -

राम रहीम ने कहा कि सेवा का कोई मुकाबला नहीं है। सेवादार सुबह और शाम 15 मिनट सिमरन करें। खाने के बाद 1 किलोमीटर रेंजा करें। नंबरों के चक्करों में पढ़ना नहीं, दृश्‍य विश्‍वास रखना है, जैसा कि पहले सेवादारों ने रखा है। ताकि कोई यह न कह सके कि आपकी सेवादार बिकाऊ है।

मैं ही देखने की सप्लॉइटी हूं
राम रहीम ने कहा कि संबंध में अखंडता जायज है। अति दृढ़ता भावना अपनी मां, बाप, भाई-बहन के साथ रखी है, ताकि समाज के लोग आपको फालो करें। वो आप को देखकर बुराईयां छोड़ दें। डेरे में या घर में भी जब आप आएं तो सफाई रखें। राम रहीम ने कहा कि मैं खुद को देखता हूं जैसा कि सप्लॉइट हूं। चादर, कंबल या रजाई को लपेटते हैं, हर चीज को अपने हाथों से करते हैं, आपको भी इन चीजों को फालो करना चाहिए। इसलिए अपनी नजर खुद को संभालें।

पैरोल के दौरान राम रहीम ने दर्शकों के सवालों के जवाब भी दिए।  हालांकि जेल के अनुभव पर पूछे गए सवाल से वह जुड़ गई।

पैरोल के दौरान राम रहीम ने दर्शकों के सवालों के जवाब भी दिए। हालांकि जेल के अनुभव पर पूछे गए सवाल से वह जुड़ गई।

मैं ही सफाई का ध्यान रखता हूं
राम रहीम ने आगे कहा कि हमने 32 राष्ट्रीय खेलों का विवरण दिया है। मुझे छोड़कर कई सारे प्लेयर की सफाई का ध्यान कम ही रखते थे। उनका जुराब सूंघा दी जाए तो बेहोशी वाले डॉक्टर की जरूरत नहीं थी। खिलाड़ियों को भी साफ सुथरा रहना चाहिए। इसलिए सारे काम करते हैं। बदले में मालिक आपको खुशियां देंगे।

हमारा नाम लेकर कोई गलत कहता है, वह गलत है
डेरा मुखी ने कहा कि आपने सेवा पर पक्का ठिकाना है। यह दर शाह मस्ताना, शाह सतनाम का है। सतगुरु से प्यारा है तो किसी व्यक्ति के कहने से यारी टूट गया तो फिर क्या लगा। सतगुरु किसी का बुरा नहीं मानते। कोई भी यह कहता है कि आपकी मर्यादा से गलत चलकर आपको हमारा नाम लेकर कुछ कहता है तो समझ लो कि वो आदमी गलत हो सकता है।

क्योंकि हम किसी को गलत नहीं दिखाते हैं। हमारा काम तो निस्वार्थ भाव से प्रेम करना, सभी धर्मो का आदर करना, सबका सत्कार करना हमारे असूल है, जो कि 1948 से लेकर अब तक चल रहे हैं। राम रहीम ने सभी सेवादारों को आशीर्वाद देकर अंक दिए।

राम रहीम सेवादारों को प्रणाम करता है

राम रहीम सेवादारों को प्रणाम करता है

40 दिन में किए 300 से ज्यादा सत्संग
राम रहीम ने 40 दिनों के दौरान अपने पैरोल के दौरान 300 से ज्यादा सत्संग किए। इस दिन उसने हिंदुत्व पर जोर दिया। वेदों को दुनिया के सर्वोच्च ग्रंथों में बताया गया है। साथ ही दो नए गाने लॉन्च किए गए, ताकि नशे से लोगों को जागरूक किया जा सके। नशे की लत लगने से भी खतरा होता है। हनीप्रीत को गद्दी मिलने की चर्चाओं पर विराम लगा और कहा कि हम ही गुरु थे, हैं और जीतेंगे।

राम रहीम का तीसरा गाना ‘चैट पे चैट’ लॉच: जेल वापसी से पहले रात 12:00 डेरा चीफ ने रिलीज किया गाना

राम रहीम की सुनारिया जेल में वापसी से पहला तीसरा गाना लॉन्च कर दिया। गुरुवार रात करीब 12 बजे नए गाने ‘चैट पे चैट’ लॉन्च किए गए। इस गाने में मोबाइल और डिजिटल संस्थाओं के शरीर पर राम चल रहे प्रभाव के नुकसान बता रहे हैं​ पूरी खबर पढ़ें

राम रहीम के बरनावा डेरे की कहानी, VIDEO: मेन गेट से आगे मोबाइल-गैजेट अलाउड नहीं

राम रहीम के बरनावा आश्रम में ही टेंट और वहां सुरक्षा-सत्संग के एतराज को लेकर हर तरफ चर्चा है। ऐसे में दैनिक भास्कर ने राम रहीम के इस डेरे का जायजा लिया। जिसमें पता चला है कि डेरा शाला को पुलिस से ज्यादा डेरा समर्थकों की अचूक मान्यताएं हैं पूरी खबर पढ़ें

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here